इंडोनेशिया का वीडियो ग़लत दावे के साथ वायरल - चीन में मुस्लिम पर अत्याचार का दावा

बूम ने पाया कि वीडियो मई 2017 का है और वीडियो में एक इंडोनेशियन सैनिक पॉकेटमार की पिटाई कर रहा है।

वर्दी पहने दो इंडोनेशियाई लोगों का एक परेशान करने वाला वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में दो लोगों को एक शख़्स की बुरी तरह पिटाई करते हुए दिखाया गया है। यह वीडियो फ़ेसबुक पर झूठे दावे के साथ वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि वीडियो चीन का है जहां मुस्लिम व्यक्ति पर अत्याचार किया जा रहा है।

एक मिनट लंबी क्लिप में एक सैनिक को बेल्ट से आदमी को मारते हुए दिखाया गया है, जबकि गहरे नीले रंग की वर्दी और सफेद हेलमेट पहने हुए एक अन्य व्यक्ति को कमरे में देखा जा सकता है। मिन्नत करने के बावजूद भी आदमी पिटाई बंद नहीं करता। बूम ने वीडियो को शामिल नहीं करने का फैसला किया है क्योंकि यह हिंसात्मक है।

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस: इंडोनेशियाई बाज़ार का वीडियो, चीन के वुहान का बता कर किया वायरल

अल्लाउइ अहमद बशीर 'नाम के एक फ़ेसबुक यूज़र ने 31 जनवरी, 2020 को वीडियो की एक वॉच पार्टी रखी, जहां से इसे 94,000 से अधिक बार शेयर किया गया।

फ़ेसबुक वॉच पार्टी वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा है: "चीन में मुस्लिम भाइयों पर अत्याचार।"


यह भी पढ़ें: फ़र्ज़ी अख़बार क्लिप का दावा: कॉलेज में केजरीवाल पर लगा था बलात्कार का आरोप

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो को बारीकी से देखा और पाया कि वर्दी में मौजूद दूसरे शख़्स के सुरक्षा हेलमेट पर 'पीकेडी' लिखा था। हमने इसके अर्थ की तलाश की और पाया कि पीकेडी का मतलब 'पेटुगस केमैन दलम' है, जो इंडोनेशिया में एक निजी रेलवे सुरक्षा गार्ड है।

हमने हेलमेट की तुलना भी की है।

( बाएं: वायरल वीडियो में देखा गया हेलमेट;दाएं - पीकेडी का वास्तविक हेलमेट )

यह भी पढ़ें: मौलाना द्वारा दिया गया पुराना सांप्रदायिक भाषण, हालिया सन्दर्भ में वायरल

यूट्यूब पर खोज करते हुए, हमने 9 जून 2017 को अपलोड किए गए समान वीडियो पाया जिसके साथ दिए गए कैप्शन में लिखा था, "स्टार गैंग के बच्चों को सैनिकों द्वारा पीटा गया" (इंडोनेशियाई से अनुवादित)।

ट्रिब्यून न्यूज़ द्वारा 24 मई, 2017 को प्रकाशित एक रिपोर्ट में उसी वीडियो के स्क्रीनशॉट का इस्तेमाल किया गया था। लेख के अनुसार यह घटना 13 मई, 2017 को इंडोनेशिया के जकार्ता में डेपोक बारू स्टेशन पर हुई थी। पीटाई खाने वाला व्यक्ति एक स्थानीय पॉकेटमार था जिसे पीकेडी द्वारा एक रेलवे स्टेशन पर पकड़ा गया था। लेख यहां पढ़ें

यह भी पढ़ें: क्या शाहीन बाग सीएए विरोध प्रदर्शन में महिलाओं के बीच हुई हाथापाई?

ट्विटर पर सर्च करने पर, हमें चीन के विदेश मंत्रालय के सूचना विभाग के उप-महानिदेशक लिजियन झाओ का एक ट्वीट मिला| ट्वीट में उन्होंने वीडियो का चीन से सम्बन्ध नकारते हुए कहा की यह चीन और इस्लामिक देशों के बीच रिश्तों को बिगाड़ने के लिए किया गया है| यह ग़लत है।

वीडियो को पिछले साल जनवरी में एएफपी और बूम हिंदी द्वारा भी ख़ारिज किया गया था, जब यह दावा किया गया था कि एक मुस्लिम व्यक्ति को कुरान रखने पर चीन में पीटा गया था।

Claim Review :  वीडियो में दिखाया है; चीन में मुस्लिमों पर अत्याचार
Claimed By :  Facebook
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story