मौलाना द्वारा दिया गया पुराना सांप्रदायिक भाषण, हालिया सन्दर्भ में वायरल

बूम ने पाया कि वीडियो 2019 का है और मौलवी ने यह टिप्पणी तब की थी जब तबरेज अंसारी की एक मॉब द्वारा हत्या कर दी गयी थी।

तबरेज़ अंसारी की हत्या पर एक मौलाना द्वारा दिए गए सांप्रदायिक रूप से भड़काऊ भाषण को हाल ही में फिर से फैलाया जा रहा है। हाल ही में शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को धमकाने के लिए एक बंदूकधारी ने हवा में गोलियां चलाई थी। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने उसे गिरफ़्तार कर लिया था। इस घटना के बाद ही मौलवी का यह पुराने भाषण का वीडियो शेयर किया जा रहा है।

2019 का यह वीडियो भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा द्वारा एक कैप्शन के साथ शेयर किया गया था, जिसमें लिखा था, "वे जीना चाहते हैं और हमारे बच्चे मरने के लिए तैयार हैं। खतरनाक ...बहुत खतरनाक इससे पहले कि बहुत देर हो जागो!"

यह भी पढ़ें: क्या 'आप' ने दिव्यांगों को 'जादुई' कंबल बांटे? फ़ैक्ट चेक

गीतिका स्वामी ने वीडियो को एक दावे के साथ पोस्ट किया है जिसमें लिखा है, "दिल्ली मौलाना द्वारा खुली धमकी, हिंदुओं के खिलाफ हिंसा और सांप्रदायिक नफरत को उकसाया गया, हमें क्या लगता है कि इन उग्र भाषणों का कमजोर युवा दिमाग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है? #JamiaSolution #HinduLeadersOnTarget #MondayThoughts #JamFiring "

जिसके बाद, स्वराज्य कॉलमनिस्ट शेफाली वैद्य ने स्वामी के ट्वीट को कोट करते हुए लिखा है: "इस पर नाराजगी कहां है?"

राष्ट्रीय राजधानी चुनाव के लिए तैयार है। नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध करने के लिए दिल्ली में हो रही बंदूक की गोलीबारी की घटनाओं के बाद ये वीडियो शेयर की जा रही है। अब तक दिल्ली में बंदूक ले जाने की चार घटनाएं हुई हैं, जिसमें से तीन में गोली चलाई गई है।

जमिया में एक किशोर द्वारा गोली चलाने के दो दिनों बाद,1 फरवरी, 2020 को एक अन्य व्यक्ति ने शाहीनबाग में गोलियां चलाईं। शाहीनबाग एक जगह है जिसे सीएए विरोध प्रदर्शनों की आधारशिला माना जा रहा है जहाँ फायरिंग करते हुए वह चिल्ला रहा था: "हमारे देश में, केवल हिंदू ही प्रबल होंगे"। यहां और यहां पढ़ें। दिल्ली विधानसभा चुनाव 8 जनवरी, 2020 को निर्धारित हैं।

यह भी पढ़ें: जामिया शूटिंग में घायल सीएए विरोध प्रदर्शनकारी की चोट नकली नहीं है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने क्लिप से कीफ़्रेम का इस्तेमाल करके एक रिवर्स इमेज सर्च चलाया और पाया कि वीडियो को जून 2019 के अंतिम सप्ताह में यूट्यब पर अपलोड किया गया था।

वीडियो यहां और यहां देखें। हमने यह भी पाया कि वीडियो के लम्बे रूप में मुस्लिम मौलवी को देखा जा सकता है। मौलवी की पहचान मुफ्ती रईस के रूप में की गई, जो उलेमा-ए-हिंद के देहरादून जिला अध्यक्ष हैं। 17 जून, 2019 को एक भीड़ द्वारा तबरेज़ अंसारी की लिंचिंग के बाद मौलवी मीडिया से बात कर रहे थे।

हमने लंबे वीडियो को सुना है, जिके अंश नीचे दिए गए हैं:

रईस ने हाल की घटनाओं के बारे में एक रिपोर्टर के सवाल का जवाब देते हुए कहा, " इस विषय को तबरेज के सिलसिले में फिर लाया गया है, मुस्लिम बच्चों ने उठाया है। यह बहुत पहले हो जाना चाहिए था ... यह एक चिंगारी है जो तेज़ फैलेगी और दिल्ली के तख़्त को भी दहला देगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि मॉब लिंचिंग एक या दो नहीं… सैकड़ों में हुआ है। यह एक साजिश है। यह एक भगवा षड्यंत्र है, कोई संयोग नहीं है ... लेकिन सभी षड्यंत्रकारियों याद रखें और ध्यान से सुनें, मुस्लिम जाग गए हैं। "

वह आगे कहता है, "यातना के खिलाफ, मोब लिंचिंग के खिलाफ... मुसलमानों के बच्चे भी हैं। मुसलमान भी शक्तिशाली हैं। हमारे पास हथियार हैं और उनका इस्तेमाल कर सकते हैं। फिर भी, मुसलमान शांतिप्रिय हैं और इस देश के विकास की तलाश में हैं ... हम हिंदू-मुस्लिम भाईचारा स्थापित करना चाहते हैं ... लेकिन अगर हम भी ऐसा ही करते हैं, तो हम इस देश में उनके जीवन को खराब कर देंगे। वे अत्याचार जो हम पर कर रहे हैं, अगर हम अपने बच्चों को एक संकेत देते हैं और उन्हें उकसाते हैं, वे उनसे कहीं अधिक शक्तिशाली हैं। हम उस व्यक्ति के बच्चे हैं जो कुब्बत-अल-सख़रा पर खड़ा था और यहूदियों से कहा कि तुम्हारे पास दस लोग हैं जो जीना चाहते हैं और हमारे पास वे हैं जो मरना चाहते हैं ... "

वीडियो से संकेत लेते हुए, हमने एक कीवर्ड की खोज की और घटना पर एक रिपोर्ट को देखा।

हिंदी अखबार, दैनिक जागरण ने बताया, "पुलिस के अनुसार, एक भीड़ द्वारा तबरेज़ अंसारी की हत्या के विरोध में, मुस्लिम सेवा संगठन ने 27 जून [2019] को कलक्ट्रेट में एक ज्ञापन सौंपा था, मुस्लिम समुदाय की एक बड़ी भीड़ ने विरोध में भाग लिया। "


पुलिस का हवाला देते हुए रिपोर्ट में आगे लिखा है: "आज़ाद कॉलोनी निवासी मुफ्ती रईस ने अदालत परिसर में एक सड़क पर मीडिया से बात की है। आरोप है कि भाषण भड़काऊ था और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए था। वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था और कई संगठनों ने मामला दर्ज करने के लिए कहा है।"

द टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, बाद में मौलवी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए (1) (बी) और 505-2 के तहत मामला दर्ज किया गया।

Claim Review :  वीडियो में दिखाया है की मौलाना ने हाल में दिया सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने वाला भाषण
Claimed By :  Social media
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story