एक बस्ती में लगी भीषण आग का पुराना वीडियो त्रिपुरा बताकर वायरल

वायरल वीडियो को त्रिपुरा की मुस्लिम बस्ती में हुई आगज़नी का बताया जा रहा है, जबकि बूम ने पाया कि वीडियो मार्च 2021 से इंटरनेट पर मौजूद है.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि वो त्रिपुरा की मुस्लिम बस्ती में भयंकर आगजनी का वीडियो है. वीडियो में एक घनी बस्ती में भयंकर आग लगी हुई दिख रही है. लोग अपना सामान लेकर इधर उधर भागते दौडते नज़र आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर इसे त्रिपुरा का बताया जा रहा है.

शादीशुदा जोड़े की तस्वीरें नेल्लोर के फ़र्ज़ी 'लव जिहाद' के रूप में वायरल

Indian Express की एक ख़बर के मुताबिक़ बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान हिंदू अल्पसंख्यकों के साथ हुई साम्प्रदायिक हिंसा की प्रतिक्रिया स्वरूप त्रिपुरा में हिंदुत्ववादी संगठनों ने विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था. 21 अक्टूबर को गोमती जिसे के उदयपुर में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई. रिपोर्ट के मुताबिक़ प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम बहुल इलाक़ों में घरों, दुकानों और मस्जिद में तोड़फोड़ की है.

वायरल वीडियो को इसी घटना से जोड़कर शेयर किया जा रहा है.

शिवराज सिंह चौहान द्वारा पुरुस्कार वितरण का वीडियो एडिट कर हुआ वायरल

फ़ेसबुक पर एक यूज़र ने इसे शेयर करते हुए कैप्शन लिखा 'यह पाकिस्तान, बांग्लादेश, तालिबान नही हमारे देश के त्रिपुरा की तस्वीर है, त्रिपुरा जल रहा है, इंसानियत खतरे में है, मुस्लिम धार्मिक स्थलों को जलाया जा रहा है, पुलिस,दंगाइयों के सामने बेबस है, तथाकथित राष्ट्रवादी सरकार चुनाव की तैयारी कर रही है, गोदी मीडिया की आत्मा मर चुकी है, जमीर, पत्रकारिता सब बिक गयी,सब गुलामी कर रहे है, सच का सामना ,सच्चाई दिखाने की हिम्मत नही


(पोस्ट यहाँ देखें)

एक और यूज़र ने इसे इसी दावे के साथ शेयर किया किया कि ये त्रिपुरा में मुस्लिम बस्ती में आग लगने का वीडियो है.

फ़ैक्ट-चेक

वायरल वीडियो को हमने ध्यान से देखा और इसके कमेंट सेक्शन को ध्यान से पढ़ना शुरू किया तो हमने पाया कि कुछ लोग इसे फ़ेक बता रहे थे. एक शख़्स ने लिखा था कि इसमें लोग अरबी भाषा में बोल रहे हैं और ये शायद रोहिंग्या शरणार्थियों के कैंप की आगजनी का वीडियो हो सकता है.

सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल इस 'CCTV फ़ुटेज' का सच क्या है

हमने यहाँ से हिंट लेते हुए कीवर्ड सर्च करना शुरू किया. कीवर्ड सर्च में हमें रोहिंग्या शरणार्थियों के कैंप में आगज़नी के कई वीडियो मिले. लेकिन 23 मार्च 2021 के आसपास बांग्लादेश के Cox's Bazar Rohingya Camp में जो आग लगी थी ये वीडियो बिल्कुल उससे मिलता जुलता था.

दिल्ली में जली हुई क़ुरान की पुरानी तस्वीरें त्रिपुरा बताकर वायरल

बूम को काफ़ी सर्च करने पर एक फ़ेसबुक पोस्ट मिली जिसके अनुसार ये वीडियो बांग्लादेश के Cox's Bazar स्थित एक रोहिंग्या शरणार्थियों के कैंप का है. वीडियो को chin awnmawi Media नाम के फ़ेसबुक पेज से 24 March 2021 को शेयर किया गया है. वीडियो के कैप्शन में लिखा है '23 मार्च मंगलवार को Cox's Bazar स्थित रोहिंग्या कैंप में हुई भयंकर आगजनी का दृश्य.'

वीडियो के साथ दी गई जानकारी के अनुसार इस घटना में 15 लोगों की मृत्यु, 560 लोग घायल, 400 लोग ग़ायब और लगभग 10000 झुग्गियों के नष्ट होने की खबर है.

क्या महाराष्ट्र के अमरावती में बम ले जाते हुए दो आतंकवादी पकड़े गए? फ़ैक्ट चेक

इसी वीडियो का एक लम्बा वर्ज़न हमें Dimapur Today नाम की एक लोकल वेबसाइट के फ़ेसबुक पेज पर 24 मार्च 2021 को पोस्ट किया हुआ मिला. ख़बर के मुताबिक़ ये वीडियो बांग्लादेश के Cox's Bazar स्थित रोहिंग्या शरणार्थियों के कैंप का है.

बूम ने वायरल वीडियो और ऑरिजनल वीडियो के बीच एक तुलना की जिससे ये साफ़ पता चलता है कि ये दोनों वीडियो एक ही घटना के हैं.


बूम को बांग्लादेश की इस घटना के अन्य कई वीडियो यहाँ, यहाँ मिले.

हालांकि हम स्वतंत्र रूप से ये पता नहीं लगा पाए कि भीषण आग का ये वीडियो असल में कहाँ से है मगर हम ये पता लगाने में कामयाब रहे कि वीडियो मार्च 2021 से सोशल मीडिया पर मौजूद है. इससे ये तो साबित होता है कि वीडियो का हाल ही में हुए त्रिपुरा हिंसा से कोई वास्ता नहीं है.

बांग्लादेश Rohingya Camp की घटना

22 March 2021 की AFP की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ मार्च 2021 में Cox's Bazar में रोहिंग्या शरणार्थी शिविर में भीषण आग लग गई थी.

रिपोर्ट की हेडलाइन में लिखा है: "बांग्लादेश के रोहिंग्या कैंप में लगी भीषण आग से हज़ारों लोग भाग गए." रिपोर्ट के मुताबिक़, "अधिकारियों ने कहा कि ये आग सोमवार को 34 शिविरों में से एक में शुरू हुई थी - जो लगभग 8,000 एकड़ भूमि में फैली हुई थी. तीन अन्य शिविरों में फैलने से पहले, शरणार्थी जो भी सामान अपने साथ समेट सकते थे वे लेकर झोंपड़ियों से भाग गए."

क्या आलिया भट्ट ने UP में कांग्रेस के मुफ़्त स्कूटी देने के वादे का प्रचार किया है?

उखिया फायर सर्विस स्टेशन के स्टेशन अधिकारी Mohammad Imdadul Hoque ने 19 अक्टूबर को एएफपी को बताया: "यह एक दुर्घटना थी और आग शिविर में एक घर के खाना पकाने के चूल्हे से लगी और फिर अधिक गैस सिलेंडर की उपस्थिति के कारण तेजी से फैल गई" .

Claim :   यह पाकिस्तान, बांग्लादेश, तालिबान नही हमारे देश के त्रिपुरा की तस्वीर है, त्रिपुरा जल रहा है, इंसानियत खतरे में है, मुस्लिम धार्मिक स्थलों को जलाया जा रहा है, पुलिस,दंगाइयों के सामने बेबस है
Claimed By :  social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.