क्या अमिताभ ने जामिया के छात्रों पर कार्यवाही के लिए पुलिस की आलोचना की?

बूम ने पाया कि बच्चन का यह ट्वीट 2012 में दिल्ली सामूहिक बलात्कार के बाद छात्र प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई के बारे में था।

बंगाली न्यूज पोर्टल eisamay.com ने अमिताभ बच्चन के एक पुराने ट्वीट का हवाला देते हुए दावा किया कि अभिनेता ने हालिया विरोध प्रदर्शनों के दौरान जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के छात्रों पर दिल्ली पुलिस की कार्यवाही के बारे में बात की है।

हालांकि, इस लेख को अब हटा दिया गया है। हटाए गए लेख में वेब पोर्टल ने अभिनेता द्वारा 2012 के एक ट्वीट का उल्लेख किया गया, जो वास्तव में उन प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की ज्यादतियों के बारे में था जो दिल्ली में एक पारा-मेडिकल छात्र (निर्भया) के सामूहिक बलात्कार और हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

"दर्द और डर। बिग बी ने छात्रों के लिए अब अपनी आवाज उठाई," हेडलाइन के साथ लेख ने सीनियर बच्चन के ट्वीट को कोट किया और कहा कि उन्होंने आखिरकार 'छात्रों की ओर से' बात की है। ( मूल ट्वीट - 'ব্যথিত এবং সন্ত্রশ্ত!' পড়ুয়াদের পক্ষে এবার গর্জে উঠলেন বিগ বি)

यह भी पढ़ें: महिला प्रदर्शनकारियों की असंबंधित तस्वीरें असम की घटना बता कर वायरल

लेख के अर्काइव वर्शन तक पहुंचने के लिए यहां क्लिक करें।

लेख के एक अंश में कहा गया है, "छात्रों के साथ एकजुटता दिखाते हुए, अमिताभ ने ट्वीट किया, 'दिल्ली में जो कुछ भी सामने आया है उसे देख कर दर्द में हैं और भयभीत है। आंसू गैस और वॉटर कैनन के साथ शांतिपूर्ण विरोध किया जा रहा है।'

(बंगाली में मूल टेक्सेट: ছাত্র-ছাত্রীদের পাশে দাঁড়িয়ে অমিতাভ ট্যুইটে লিখলেন, '।! দিল্লিতে যা ঘটল তার জন্য সত্যিই আমি ব্যথিত, ভীত এবং সন্ত্রশ্ত শান্তিপূর্ণ ভাবে প্রতিবাদের জবাব দেওয়া হল কাঁদানে গ্যাস আর জল কামান ছুঁড়ে')

इसके अलावा, कई फ़ेसबुक पोस्टों ने eisamay.com लेख के स्क्रीनशॉट दिखाते हुए उनकी राय के लिए सराहना की। यह पोस्ट ऐसे समय में आया है जब हिंदी फिल्म उद्योग के शीर्ष अभिनेता दो विश्वविद्यालयों - जामिया मिलिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय - में हालिया विरोध प्रदर्शनों पर की गई पुलिस कार्रवाई पर ना बोलने पर आलोचना का सामना कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: पद्मावत विरोध के दौरान स्कूल बस पर हमले को हालिया बता कर किया शेयर

पोस्ट के साथ दिए गए कैप्शन में लिखा गया है, "दर्द और आतंकित। बिग बी ने छात्रों के लिए अब अपनी आवाज उठाई।"(बंगाली में मूल शीर्षक: 'যথ্ headিএবং নন্ত্রline্ Bengaliত!') पोस्ट्स में इसी हेडलाइन के साथ बंगाली लेख के स्क्रीनशॉट का भी इस्तेमाल किया गया है।

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों को नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए 15 दिसंबर को एक क्रूर पुलिस कार्रवाई का सामना करना पड़ा। दिल्ली पुलिस के हमले के बाद कई छात्रों को गंभीर चोटें आई।

फ़ेसबुक पोस्टों में अब हटा दिया गया बंगाली समाचार पोर्टल eisamay.com लेख शामिल है जिसमें दावा किया गया है कि छात्रों की दी गई यातना ने "बच्चन को पीड़ा और आतंकित" किया गया था।

यह भी पढ़ें: मुंबई के मोहम्मद अली रोड पर प्रदर्शनकारियों की भीड़? जानिए पूरी ख़बर

नीचे बच्चन का ट्वीट है जहां उन्होंने देश को झकझोड़ देने वाले दिल्ली में सामूहिक बलात्कार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस द्वारा अत्याचार किए जाने पर नाराज़गी व्यक्त की थी।

यह कुछ ट्विटर यूज़र द्वारा पुनर्जीवित किया गया था जिन्होंने मौजूदा विरोधों पर उनके स्टैंड नहीं लेने के लिए अभिनेता पर कटाक्ष किया था।

बूम यह पता लगाने में सक्षम था कि अमिताभ बच्चन ने जामिया मिलिया इस्लामिया घटना पर अपने विचार व्यक्त नहीं किए थे क्योंकि उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंड को इस विषय पर अपडेट नहीं किया था।

यह भी पढ़ें: असम पुलिस ने उन लोगों की पिटाई की जो एनआरसी में नहीं हैं? फ़ैक्ट चेक

Claim Review :  जामिया मिलिया छात्रों पर दिल्ली पुलिस की नकेल कसने के बाद अमिताभ बच्चन को दर्द हुआ
Claimed By :  Facebook Pages
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story