प्रदर्शन के दौरान आरएसएस कर्मी पुलिस की पोशाक में? फ़ैक्ट चेक

बूम यह पता लगाने में सक्षम था की वीडियो में दिख रहा शख़्स विनोद सारंग है जो दिल्ली पुलिस का सीनियर इंस्पेक्टर है

नागरिकता संशोधन विधेयक के ख़िलाफ़ हो रहे प्रदर्शन के दौरान दिल्ली पुलिस के एक अफसर और आरएसएस के एक सदस्य की तस्वीरें वायरल हो रही हैं | दावा किया जा रहा है की दोनों सामान हैं | यह दावा फ़र्ज़ी है और दोनों सदस्यों में कोई समानता नहीं है |

बूम पुलिसकर्मी को पहचानने में सफल था | पुलिस वर्दी में दिख रहे शख़्स की पहचान दिल्ली के कनॉट प्लेस में स्थित पुलिस स्टेशन पर कार्यरत सीनियर इंस्पेक्टर विनोद नारंग के रूप में हुई जबकि आरएसएस सदस्य राजस्थान में बीजेपी के नेता अशोक डोगरा हैं |

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी का दावा, 2014 से एनआरसी पर सरकार द्वारा कोई चर्चा नहीं की गई

दिल्ली में फिलहाल नागरिकता संशोधन विधेयक और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटीजनशिप के ख़िलाफ जोर शोर से प्रदर्शन किये जा रहे हैं | यह प्रदर्शन छात्रों द्वारा शुरू की गयी और तब भड़क गयी जब कथित तौर पर पुलिस ने बच्चों को पीटा | पुलिस अफसर का यह वीडियो प्रदर्शन के बीच तब वायरल हुआ जब वो बिना नेम बैच के गस्त करते वीडियो में क़ैद हुआ जिसमें एक प्रदर्शनकारी द्वारा सवाल उठाए गए |

यह वीडियो और तस्वीरें का एक कोलाज फ़ेसबुक पर वायरल है जिसके साथ कैप्शन में लिखा है: "चौकाने वाला सच! #आरएसएस और बीजेपी के गुंडे पुलिस की वर्दी में जो उत्तर प्रदेश में निर्दयता करते हुए"|

फ़ेसबुक पोस्ट का आर्काइव्ड वर्शन यहाँ देखें |


फ़ेसबुक पर वायरल


ट्विटर पर भी यह पोस्ट समान दावों के साथ वायरल है |

इसका आर्काइव्ड वर्शन यहाँ देखें |

यह तस्वीरें और वीडियो हमें हमारे हेल्पलाइन नंबर (7700906111) पर भी प्राप्त हुए हैं |

फ़ैक्ट चेक

दोनों शख़्स के चेहरों को देखने पर मालुम होता है की इनमें कोई समानता नहीं है | हम यह पता लगाने में सक्षम थे की पुलिस अफसर दिल्ली पुलिस में इंस्पेक्टर पद का पुलिसकर्मी है और आरएसएस सदस्य राजस्थान में बीजेपी के नेता हैं |

पुलिसवर्दी में कौन है?

बूम ने डिप्टी पुलिस कमिश्नर दक्षिण दिल्ली चिनमय बिस्वाल द्वारा यह जाना की पुलिस अफसर विनोद नारंग हैं जो कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन पर एस.एच.ओ के पद पर कार्यरत हैं | नारंग का पद हमनें पूर्व में प्रकाशित मीडिया रिपोर्ट्स को पढ़कर निश्चित किया और नारंग के चेहरे का उनकी सोशल मीडिया प्रोफाइल से मेल खाना भी इस बात को पक्का करता है |

यह भी पढ़ें: क्या दिल्ली पुलिस के वेश में एबीवीपी के भरत शर्मा थे? फ़ैक्ट चेक

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी का दावा, 2014 से एनआरसी पर सरकार द्वारा कोई चर्चा नहीं की गई

हमनें इसके बाद नारंग से बात की जिन्होनें बताया की मंडी हॉउस में हो रहे प्रदर्शन के वक़्त वो ही गस्त पर थे | उन्होंने कहा की प्रदर्शनकारियों को पकड़ने में उनके नाम बैच कही खो गए और वीडियो उनके कुछ समय बाद बनाया गया | जब नारंग से पूछा गया की उनका किसी राजनैतिक पार्टी से सम्बन्ध है या वो आरएसएस के सदस्य रहे हैं? तो उन्होंने कहा, "मेरा किसी राजनैतिक पार्टी से कोई नाता नहीं है और मैं आरएसएस का सदस्य भी कभी नहीं रहा|"

आरएसएस कर्मी राजस्थान में बीजेपी का विधायक है

वायरल तस्वीर जिसमें तीन लोग आरएसएस पोशाक में दिख रहे हैं उसमें ओम बिरला - भारत के लोक सभा स्पीकर - और आरएसएस कार्यकर्ता जिसे ग़लत तरीके से पुलिसकर्मी के रूप में पहचाना जा रहा है | बूम ने कीवर्ड्स खोज कर बिरला के पोस्ट्स में समान शख़्स कई तस्वीरों में पाया | इसके बाद हमनें राजस्थान के आरएसएस कार्यकर्ता के बारे में खोज की जिससे हम अशोक डोगरा जो बूंदी के विधायक है तक पहुंचे |

यह भी पढ़ें: महिला प्रदर्शनकारियों की असंबंधित तस्वीरें असम की घटना बता कर वायरल




अशोक डोगरा की फ़ेसबुक प्रोफाइल यहाँ देखें |

Claim Review :  आरएसएस और बीजेपी के गुंडे पुलिस की वर्दी में
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story