दो साल पुराना एक छात्रा के क़त्ल का मामला फ़र्ज़ी साम्प्रदायिक दावे के साथ फ़िर वायरल

हमलावर ने बाद में आत्महत्या कर ली थी। कोतमा पुलिस ने इस मामले में किसी भी तरह का सांप्रदायिक कोण होने से इंकार किया है।

मध्य प्रदेश के कोतमा शहर में 2018 में 11वीं कक्षा की एक छात्रा की हत्या का मामला सोशल मीडिया पर फ़िर वायरल किया जा रहा है। अपराध के दृश्य शेयर करते हुए यह दावा किया जा रहा है कि हमलावर मुस्लिम था। यह दावा झूठा है।

कोतमा पुलिस ने बूम को इस बात पुष्टि की है। हालांकि, शेयर की गई तस्वीरें वास्तव में अपराध स्थल से हैं, लेकिन हमलावर गुल्लू साहू नाम का एक हिंदू लड़का था, जिसने बाद में आत्महत्या कर ली थी।

यह भी पढ़ें: औरंगाबाद में रोड पर हुए झगड़े को दिल्ली से जोड़कर किया शेयर

24 फ़रवरी, 2020 को, "भगवा धारी, कट्टर हिंदू" नामक फेसबुक पेज ने स्कूल यूनिफॉर्म पहने एक सिर कटे मृत शरीर की दहला देने वाली दो तस्वीरें पोस्ट की। पोस्ट में शव के पास ज़मीन पर पड़ी तलवार की तस्वीर भी है। पोस्ट के साथ हिंदी में कैप्शन दिया गया था, जिसमें लिखा था:

"छात्रा 11वीं क्लास में पढ़ती थी, प्रैक्टिकल परीक्षा देने के लिए स्कूल गई हुई थी, परीक्षा देकर स्कूल से लौट ही रही थी, तभी स्कूल के बाहर घात लगाए बैठे एक मुसलमान युवक ने जिसकी उम्र लगभग 25 से 26 साल बताई जा रही है, तेजी से तलवार लेकर आया, और छात्रा के गर्दन पर वार कर दिया।मुस्लिम युवक ने तलवार से वार कर हिंदू लडकी पूजा,पुत्री शंकर लाल कोतमा अनूपगढ मध्य प्रदेश की हत्या इसलिये कर दी क्योंकि उसने उसके तथाकथित लव जेहादी प्यार को नकार दिया था ,हम हिंदू इस देश मे कितने लाचार हैं। ऒर कितने सुरक्षित हैं इन जेहादियो के आगे । खून खोलता है मेरा ऐसे मै"


कैप्शन से कुछ कीवर्ड लेकर बूम ने फेसबुक और ट्वीटर पर खोज की और दोनों जगह इसी कैप्शन के साथ कई बार शेयर हुई यह तस्वीर पायी।




यह भी पढ़ें: क्या विधायक अमानतुल्ला खान ने वाकई कहा हम बनेंगे 'शरिया'?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने उन तस्वीरों के साथ रिवर्स इमेज सर्च किया, जिसके ज़रिए हम भोपाल समाचार के एक लेख तक पहुंचे, जिसमें उस घटना के बारे में बताया गया था| यह लेख वायरल कैप्शन के साथ दिए गए विवरण से मेल खाता है।

लेख में पुष्टि की गई है कि लड़की का नाम पूजा, उम्र 17 वर्ष और जो कक्षा 11वीं की छात्रा थी। लेख के अनुसार, घटना 23 फ़रवरी, 2018 को मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले के कोतमा शहर में हुई थी, जब वह अपनी प्रैक्टिकल परीक्षा देकर घर लौट रही थी। हमलावर ने उस पर तलवार से हमला किया था जिसके फौरन बाद उसकी मौत हो गई। ग़ौर करने लायक बात है कि लेख में हमलावर के धर्म का उल्लेख नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर वायरल एक तस्वीर से जुड़े कई दावे, और सारे दावें झूठे


बूम ने कोतमा पुलिस के साथ संपर्क किया और फ़ोटो और कैप्शन के साथ वायरल पोस्ट भेजे, जिन्होंने हमें पुष्टि की कि यह घटना दो साल पहले कोतमा शहर में ही हुई थी|

कोतमा पुलिस ने हमें बताया की पीड़िता का नाम वास्तव में पूजा पानिका है, जिसकी उम्र 17 साल थी| उसपर प्रैक्टिकल परीक्षा से लौटते समय हमला किया गया था। हमलावर के विवरण के बारे में पूछे जाने पर, हमें बताया गया कि उसका नाम गुल्लू साहू है जो हिंदू धर्म से है। हमलावर ने घटना के बाद आत्महत्या कर ली।

यह भी पढ़ें: मौलाना द्वारा दिया गया पुराना सांप्रदायिक भाषण, हालिया सन्दर्भ में वायरल

कोतमा पुलिस के राकेश कुमार बैर ने कहा, "पीड़ित और आरोपी दोनों हिंदू थे और इससे परे कुछ भी नहीं है। आरोपी ने बाद में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।"

Claim Review :  तस्वीर दर्शाती है की 17 साल की एक लड़की को एक मुसलमान लड़के ने मार डाला
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story