पिछले हफ़्ते वायरल रहीं पांच बड़ी फ़र्ज़ी ख़बरें

बीते हफ़्ते कई पुरानी तस्वीरें, वीडियो और फ़र्ज़ी ट्वीट भारत के वर्तमान परिदृश्य से जोड़कर वायरल हुए. यूज़र्स ने इन पर विश्वास करते हुए अलग-अलग फ़र्ज़ी दावों के साथ ख़ूब शेयर किया.

बीते हफ़्ते कई पुरानी व असंबंधित तस्वीरें, वीडियो और फ़र्ज़ी ट्वीट भारत के वर्तमान परिदृश्य से जोड़कर वायरल हुए. सोशल मीडिया यूज़र्स ने इन पर विश्वास करते हुए अलग-अलग फ़र्ज़ी दावों के साथ ख़ूब शेयर किया.

बूम की साप्ताहिक 'हफ़्ते की पांच बड़ी फ़र्ज़ी ख़बरें' में इस हफ़्ते जो फ़र्ज़ी ख़बरें शामिल हैं उनमें, अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला की मौत से पहले का एक वीडियो, राजस्थान में मस्जिद और मदरसा की संपत्ति को नुकसान पहुँचाने की स्थित में तीन साल की सज़ा, कोर्ट में गांधी परिवार से बीजेपी की माफ़ी, पंजशीर में तालिबान से लड़ती एक नाबालिग बच्ची का वीडियो और बिजली चोरी पकड़ी जाने पर जान से मारने की धमकी देते व्यक्ति का वीडियो.

1. सीढ़ी से गिरते व्यक्ति का वीडियो एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की मौत से जोड़कर वायरल


अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के तुरंत बाद एक व्यक्ति को सीढ़ी पर गिरते हुए दिखाने वाला एक वीडियो तेज़ी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. बूम ने पाया कि यह वीडियो एक व्यक्ति का है जो पिछले महीने बेंगलुरु के एक जिम के बाहर कार्डियक अरेस्ट के कारण गिर गया था.

सीढ़ी से गिरते व्यक्ति का वीडियो एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की मौत से जोड़कर वायरल

2. राजस्थान में मस्जिद-मदरसा के संदर्भ में फ़र्ज़ी मैसेज वायरल


बूम ने पाया कि वायरल मैसेज फ़र्ज़ी है. राजस्थान पुलिस और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी ने स्वयं इस वायरल मैसेज को फ़र्ज़ी और भ्रामक करार दिया है.

राजस्थान में मस्जिद-मदरसा के संदर्भ में वायरल मैसेज का पूरा सच

3. वायरल ट्वीट का दावा- गांधी परिवार के ख़िलाफ़ सीबीआई भ्रष्टाचार का कोई सबूत नहीं ढूँढ पाई और भाजपा को माफ़ी माँगनी पड़ी


बूम ने अपनी जांच में पाया कि आज तक चैनल का यह ट्वीट फ़र्ज़ी है. चैनल ने स्वयं इसका खंडन किया है. इसके अलावा किसी मीडिया रिपोर्ट में ऐसी कोई ख़बर नहीं है कि गांधी परिवार की सीबीआई जाँच हाल फ़िलहाल में हुई हो.

गाँधी परिवार पर CBI जाँच का दावा करते 'आज तक' के ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल

4. ज़ी हिंदुस्तान का फ़र्ज़ी दावा- पंजशीर में तालिबान के ख़िलाफ़ बच्ची ने उठाए हथियार


बूम ने पाया कि लाइव वीडियो के रूप में प्रसारित इस क्लिप के साथ ज़ी हिंदुस्तान ने झूठा दावा किया कि यह अफ़ग़ानिस्तान के पंजशीर प्रांत में बच्ची को तालिबान के ख़िलाफ़ हथियार उठाए और गोलीबारी करते हुए दिखाता है. असल में यह वीडियो साल भर पुराना है और 2020 से इंटरनेट पर मौजूद है. पंजशीर के हालिया घटनाक्रम से इसका कोई संबंध नहीं है.

ज़ी हिंदुस्तान ने पंजशीर में तालिबान से लड़ती बच्ची के रूप में पुराना वीडियो चलाया

5. रंगे हाथ बिजली चोरी करते पकड़े जाने पर जान से मारने की धमकी देते मुस्लिम व्यक्ति का वीडियो भारत से जोड़कर वायरल


बूम ने अपनी जांच में पाया कि वायरल वीडियो के साथ किया गया दावा फ़र्ज़ी है. वीडियो का संबंध भारत से नहीं बल्कि पाकिस्तान से है. कराची में जुलाई 2020 में रंगे हाथ चोरी पकड़े जाने पर एक व्यक्ति ने बिजली कर्मी को किसी भी हाल में मीटर लगाने से मना करते हुए कहा था कि 'बिजली चोरी करूंगा, मरूंगा या मारूंगा'.

बिजली चोरी पकड़ी जाने पर जान से मारने की धमकी देते शख़्स का वीडियो भारत से नहीं है

Updated On: 2021-09-11T14:59:42+05:30
Show Full Article
Next Story