रवीश कुमार के नाम पर वायरल हुआ ट्रोल हैंडल का ट्वीट

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार के नाम पर वायरल ट्वीट को नेटीज़न्स हज़ारों की संख्या में शेयर कर रहे हैं.

एन.डी.टी.वी. (NDTV) के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार (Ravish Kumar) के नाम से एक फ़र्ज़ी हैंडल का ट्वीट वायरल हो रहा है. इसमें इमाम हुसैन और उनके परिवार का हवाला देते हुए रवीश कुमार के नाम पर ट्वीट किया गया है.

बूम ने पाया कि यह वायरल स्क्रीनशॉट एक ट्रोल हैंडल (Troll handle) का है जो अब मौजूद नहीं है. हमनें यह भी पाया कि रवीश कुमार का सत्यापित ट्विटर हैंडल (verified handle) है जिसका यूज़रनेम '@ravishndtv' है.

वायरल हो रहे ट्वीट के स्क्रीनशॉट में कर्बला की लड़ाई (Battle of Karbala) का ज़िक्र करते हुए लिखा गया है: "इमाम हुसैन ने अपने परिवार और साथियों की जान की बाज़ी लगा दी लेकिन एक ज़ालिम बादशाह के सामने सर झुकाने से इन्कार कर दिया फिर मैं कैसे इस वक्त के ज़ालिम बादशाह के सामने झुक जाऊँ ? सच बोलता रहूँगा और हाँ चुनौती भी देता हूँ अगर दम है तो आएं मेरे शो पर एक बार"

क्या 3 मई से भारत में दोबारा लगने वाला है संपूर्ण लॉकडाउन?

नीचे कुछ पोस्ट्स देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.






सोनिया गांधी से जोड़कर शेयर की जा रही इस तस्वीर का सच क्या है?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने सबसे पहले रवीश कुमार का सत्यापित ट्विटर हैंडल खंगाला. हमें उनकी टाइमलाइन पर इस तरह का कोई ट्वीट नहीं मिला.

रवीश कुमार का वास्तविक हैंडल '@ravishndtv' है ना की '@SirRavishLive' जैसा की वायरल ट्वीट में दिख रहा है.

वास्तविक हैंडल ट्विटर द्वारा सत्यापित भी है. नीचे देखें.


हमनें वायरल ट्वीट में दिख रहे हैंडल को खोजने की कोशिश की पर ऐसा कोई हैंडल हमें ट्विटर पर नहीं मिला.

हालांकि कुछ कमैंट्स में इस हैंडल को टैग किया गया था पर अब वो हैंडल मौजूद नहीं है. प्रतीत होता है कि इस हैंडल ने बीच में यूज़रनेम @VoiceofmyBharat कर लिया था परन्तु अब इस नाम का भी कोई हैंडल मौजूद नहीं है.

नीचे देखें.


अपनी गुल्लक से पीएम केयर्स में 5,100 रु देने वाली लड़की की 'मौत' का सच क्या है?

Claim Review :   रवीश कुमार ने किया यह ट्वीट: इमाम हुसैन ने अपने परिवार और साथियों की जान की बाज़ी लगा दी लेकिन एक ज़ालिम बादशाह के सामने सर झुकाने से इन्कार कर दिया फिर मैं कैसे इस वक्त के ज़ालिम बादशाह के सामने झुक जाऊँ...
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story