राहुल गाँधी की शेख़ मुहम्मद बिन रशीद से मुलाक़ात की पुरानी तस्वीर फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल

नेटिज़ेंस दावा कर रहे हैं कि कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के प्रकोप से लड़ने के लिए सऊदी अरब से राहुल गाँधी ने अपने सम्बन्ध के चलते 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मंगवाई है.

"राहुल गांधी जी, सऊदी अरब से तुमने अपने संबंध से निवेदन करके 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मंगवाई...," इस फ़र्ज़ी दावे के साथ कांग्रेस नेता राहुल गाँधी की यूनाइटेड अरब अमीरात के प्रधानमंत्री मुहम्मद बिन रशीद अल मक्तोउम की तस्वीर शेयर की जा रही है.

नेटिज़ेंस दावे में सऊदी अरब की बात कर रहे हैं पर तस्वीर गलत तरीके से यु.ए.इ के प्रधानमंत्री की शेयर कर रहे हैं. वो भी दो साल पुरानी मुलाक़ात की जो उन्होंने राहुल गाँधी से दुबई में की थी.

बूम ने पाया कि हालांकि सऊदी अरब भारत को 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मुहैया करवा रहा है, इसमें राहुल गाँधी का कोई सम्बन्ध नहीं है. यह ऑक्सीजन Adani Group और M/s Linde के द्वारा भारत पहुंचाई जा रही है.

पत्रकार नवीन कुमार की वीडियो रोहित सरदाना के अंतिम शब्द के रूप में वायरल

हाल ही में भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर का प्रकोप चल रहा है. इसी बीच बेड्स और ऑक्सीजन की मारामारी के मध्य कई देश भारत की मदद करने आगे आए हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक़ कम से कम 17 देश ऐसे हैं जो भारत की मदद कर रहे हैं.

इसी बीच वायरल फ़र्ज़ी दावा कहता है: "महान हो तुम राहुल गांधी जी, सऊदी अरब से तुमने अपने संबंध से निवेदन करके 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मंगवाई, पर अपने नाम तक को आगे नहीं आने दिया, जय हो कांग्रेस नेता। #राजा (युऐई) राहुल जी के साथ"

नीचे कुछ पोस्ट्स देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.




बाइक पर लाश ढोते लोगों की ये तस्वीर क्या हालिया कोविड महामारी से जुड़ी है?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने सबसे पहले कीवर्ड्स खोज की और जाना कि हालांकि सऊदी अरब 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भारत को दे रहा है परन्तु उसका राहुल गाँधी से कोई सम्बन्ध नहीं है.

इस बात की पुष्टि ना ही कांग्रेस ने की है और ना ही राहुल गाँधी ने. इसके अलावा सऊदी अरब में भारत के दूतावास द्वारा किया गया ट्वीट भी ऑक्सीजन सप्लाई में राहुल गाँधी के सम्बन्ध की बात नहीं करता है.

ट्वीट में साफ़ बताया गया है कि, "भारत के दूतावास को अडानी समूह और मैसर्स लिंडे के साथ साझेदारी करने पर गर्व है. सऊदी अरब के स्वास्थ्य मंत्रालय को उनकी सभी मदद, सहायता और सहयोग के लिए हमारा हार्दिक धन्यवाद."

गौतम अडानी ने भी ट्वीट कर इस साझेदारी की जानकारी दी है.

इसके अलावा हमनें कई न्यूज़ रिपोर्ट्स खंगाली. किसी भी रिपोर्ट में सऊदी अरब से ऑक्सीजन के आने में राहुल गाँधी का सम्बन्ध नहीं बताया गया है.

द हिन्दू और इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट्स यहां और यहां पढ़ें.

इंडियन एक्सप्रेस में बताया गया है कि कौन-कौन से देश भारत को क्या-क्या चीज़े प्रदान कर रहे हैं. सऊदी अरब के सामने केवल ऑक्सीजन का ज़िक्र है.


सोनिया गांधी से जोड़कर शेयर की जा रही इस तस्वीर का सच क्या है?

राहुल गाँधी की तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें यही तस्वीर यूनाइटेड अरब अमीरात के न्यूज़ वेबसाइट्स पर मिली. कांग्रेस नेता राहुल गाँधी जून 2019 में शेख मुहम्मद बिन रशीद से मिले थे और दोनों देशों के बीच गहरे सम्बन्ध को लेकर चर्चाएं की थी. यहां और यहां पढ़ें.

इन तस्वीर का वर्तमान से और सऊदी अरब से सम्बन्ध नहीं है.



Claim Review :   राहुल गांधी जी, सऊदी अरब से तुमने अपने संबंध से निवेदन करके 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मंगवाई, पर अपने नाम तक को आगे नहीं आने दिया, जय हो कांग्रेस नेता
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story