एडिटेड वीडियो के साथ 'दिल्ली में हिंदू व्यक्ति की पिटाई' का ग़लत दावा वायरल

बूम ने अपनी जाँच में पाया कि उत्तर प्रदेश और वेनेज़ुएला के दो अलग अलग वीडियो को एडिट कर जोड़ा गया और झूठे दावे के साथ शेयर किया जा रहा है.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि दिल्ली में एक हिंदू व्यक्ति के साथ मारपीट के बाद उसकी निर्ममता के साथ हत्या कर दी गई. वीडियो बहुत वीभत्स है जिसमें एक शख़्स को तलवार से काटते हुए दिखाया गया है.

गाँधी परिवार पर CBI जाँच का दावा करते 'आज तक' के ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल

वीडियो की शुरुआत में ढेर से लोग एक व्यक्ति को पीटते नज़र आ आते हैं. वीडियो के इस हिस्से में Sudarshan news का लोगो लगा हुआ है. बाद में एक व्यक्ति की हत्या का दृश्य भी उसमें शामिल है जिसमें न्यूज़ का लोगो ग़ायब है. बूम को ये वीडियो हमारी व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर (+91 77009 06111) पर कई बार फ़ैक्ट चेक करने के लिये भेजा गया है.

क्या PM मोदी ने गोडसे की मूर्ति पर माल्यार्पण किया है? फ़ैक्ट चेक

वीडियो को शेयर करते हुए इसके साथ कैप्शन दिया जा रहा है 'अगर अभी भी किसी को सेक्युलरिज्म का भूत चढ़ा है तो इसे ध्यान से देख लो।दिल्ली की घटना है। जहां शांतिदूतों की संख्या ज्यादा होती है। वहाँ हिन्दू ऐसे ही कटता है.'


फ़ैक्ट-चेक

वीडियो को ध्यान से देखने पर ये स्पष्ट हो जाता है कि ये दो अलग अलग घटनाओं के वीडियो हैं. बूम ने वीडियो की सच्चाई जानने के लिये इसका रिवर्स इमेज सर्च किया तो पाया कि ये घटना पुरानी है.

राजस्थान में मस्जिद-मदरसा के संदर्भ में वायरल मैसेज का पूरा सच

Video 1


पहला वीडियो जिसमें एक शख़्स को भीड़ घेरकर पीटती दिखाई देती है वो सोशल मीडिया पर पहले भी वायरल हो चुका है. ममता बनर्जी की पश्चिम बंगाल में सरकार बनने के बाद ये वीडियो ग़लत दावे के साथ ख़ूब वायरल रहा था.

बूम ने अपनी जाँच में पाया कि ये वीडियो मुज़फ़्फ़रनगर का है जहां एक बिजली कर्मचारी को लोगों ने किसी आपसी बहस के बाद मारा पीटा था. अमर उजाला की 5 मई 2021 की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ लाइनमैन अनुज सीकरी गाँव में बिजली ठीक करने गया था वहाँ स्थानीय लोगों से कुछ बहस हुई तो लोगों ने उसके साथ मारपीट की. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मारपीट करने वाले पक्ष में मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल थे. हालाँकि इस रिपोर्ट में उस व्यक्ति के मृत होने की कोई खबर नहीं.

सीढ़ी से गिरते व्यक्ति का वीडियो एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की मौत से जोड़कर वायरल

बूम को मुज़फ़्फ़रनगर पुलिस के ऑफ़िशियल ट्विटर हैंडल पर भी इस वीडियो से संबंधित बयान मिला जिसमें उन्होंने लिखा था कि पुलिस इस मामले में कड़ी कार्रवाई कर रही है.

बूम ने इस संबंध में भोपा थाने की सीकरी चौकी के इंचार्ज रेशम पाल सिंह से बात की. उन्होंने बूम को बताया कि ये घटना काफ़ी पुरानी है और इस संबंध में आरोपियों की गिरफ़्तारी भी हो चुकी है. रेशम पाल सिंह ने बताया कि मारपीट का मामला बहुत हल्का था और किसी की मृत्यु नहीं हुई थी, इसे ग़लत संदर्भ के साथ वायरल किया जा रहा है. उन्होंने आगे कहा कि बिजली विभाग के कर्मचारी की स्थानीय लोगों से कुछ बहस हो गई थी जिसके बाद कुछ लोगों ने उनके साथ मारपीट की थी.

पीएम मोदी और इमरान खान को साथ में भोजन करते दिखाती यह तस्वीर फ़ेक है

Video 2


इस वीडियो की तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें 7 फरवरी, 2018 को Metro वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट में उसी क्रूर वीडियो के कई स्क्रीनशॉट का उपयोग किया गया है जिसे मुज़फ्फरनगर वीडियो के साथ एडिट कर के जोड़ा गया है.


2016 की पुरानी फ़ोटो भाजपा नेता कपिल मिश्रा की बहन से जोड़कर वायरल

Metro की रिपोर्ट के मुताबिक घटना वेनेजुएला की है और लड़के की हत्या 'megababdas gang' के सदस्यों ने की थी. और अधिक कीवर्ड सर्च की मदद से हमें Guyanatimesgy पर प्रकाशित एक अन्य रिपोर्ट मिली, जिसमें लड़के की पहचान गुयाना के खान में काम करने वाले एक मज़दूर के रूप में की गई थी. रिपोर्ट में आगे कहा गया है, 'यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस लड़के की हत्या गैंग के लोगों ने तब की जब वो अपनी मज़दूरी माँग रहा था'.

Claim Review :   अगर अभी भी किसी को सेक्युलरिज्म का भूत चढ़ा है तो इसे ध्यान से देख लो।दिल्ली की घटना है । जहां शांतिदूतों की संख्या ज्यादा होती है। वहाँ हिन्दू ऐसे ही कटता है।
Claimed By :  WhatsApp
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story