फ़िल्म शूट की तस्वीर भारतीय सेना द्वारा पीएलए सैनिकों को पकड़ने के रूप में वायरल

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर असल में एक निर्माणाधीन फ़िल्म के दृश्य का हिस्सा है.

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर इस दावे के साथ वायरल है कि भारतीय सेना (Indian Army) ने अरुणाचल प्रदेश में डेढ़ सौ से ज़्यादा चीनी सैनिकों (PLA) को बंदी बना लिया. आगे दावा किया गया है कि जब चीनी सेना के कमांडर और भारतीय कमांडर के बीच मीटिंग हुई उसके बाद ही उन्हें छोड़ा गया.

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर के साथ किया गया दावा फ़र्ज़ी है. वायरल तस्वीर एक निर्माणाधीन फ़िल्म के दृश्य का हिस्सा है.

नहीं, दिल्ली की अकबर रोड का नाम बदलकर सम्राट विक्रमादित्य मार्ग नहीं किया गया

इंडिया टुडे की 8 अक्टूबर की रिपोर्ट के अनुसार, 200 चीनी सैनिकों को भारतीय रक्षा बलों ने अरुणाचल प्रदेश के तवांग इलाके में एक संघर्ष में रोक लिया था. तस्वीर इसी पृष्ठभूमि में वायरल है.

फ़ेसबुक पर I Support RSS नाम के पेज पर शेयर की गई तस्वीर के साथ कैप्शन में कहा गया है कि "भारतीय सेना ने अरुणाचल में डेढ़ सौ से ज्यादा चीनी सैनिकों को बंदी बना लिया कोई लिब्रांड नही बोला इस पर😀 जय हिन्द 🙏"


फ़ेसबुक पर एक अन्य यूज़र ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए लिखा, "राहुल गांधी कभी इस पर ट्वीट नहीं करेगा कि भारतीय सेना ने अरुणाचल में डेढ़ सौ से ज्यादा चीनी सैनिकों को बंदी बना लिया, फिर जब चीन के सेना के कमांडर और भारतीय कमांडर के बीच में मीटिंग हुई उसके बाद ही उन्हें छोड़ा गया..ये है बदलता भारत.."


पोस्ट यहां देखें

वायरल तस्वीर ट्विटर पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के नाम पर बनाये गए एक ट्विटर हैंडल से भी शेयर की गई है. फ़ेसबुक और ट्विटर पर वायरल तस्वीर बड़ी संख्या में शेयर की गई है.

ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

क्या Congress की किसान न्याय रैली में मंच से सिर्फ़ अज़ान पढ़ी गई?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने अपनी जांच में पाया कि यह तस्वीर 'एल.ए.सी.' नाम की बॉलीवुड फ़िल्म का एक दृश्य है जिसे कारगिल में शूट किया गया था. तस्वीर पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर वही तस्वीर दिखी जिसका इस्तेमाल चीनी न्यूज़ साइट्स ने बॉलीवुड में गलवान झड़पों के बारे में एक फ़िल्म बनाने की एक रिपोर्ट में किया था.

चीनी साईट ने फ़िल्म की शूटिंग से कुछ और तस्वीरों का इस्तेमाल किया था और उनमें कथित अशुद्धियों का विवरण दिया था.

इससे संकेत लेते हुए हमने यूट्यूब पर खोज की. इस दौरान मार्शल आर्ट लद्दाख नामक एक चैनल द्वारा अपलोड किया गया एक वीडियो पाया. इस वीडियो में वही दृश्य देखा जा सकता है जैसा कि वायरल तस्वीर में है.

वीडियो में 5.39 की समयावधि पर लाल पगड़ी पहने एक एक्टर को पीएलए सैनिकों द्वारा पहनी जाने वाली नीली वर्दी में दूसरे एक्टर को पकड़े हुए देखा जा सकता है.


हमने वायरल तस्वीर और वीडियो में दिखाए गए एक दृश्य का तुलनात्मक विश्लेषण किया तो दोनों में समानता पायी.


वीडियो पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को ईसाई दीक्षा ग्रहण करते नहीं दिखाता

Show Full Article
Next Story