क्या अरविंद केजरीवाल ने कोयला दान करने के लिए अख़बार में विज्ञापन दिया है?

बूम ने पाया कि वायरल विज्ञापन की तस्वीर एडिटेड है और इसे व्यंग्य के रूप में बनाया गया है.

हिंदी अख़बार 'हिंदुस्तान' के विज्ञापन की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें कथित तौर पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को देश भर में कोयले की कमी के बीच कोयला दान के लिए अनुरोध करते हुए दिखाया गया है.

बूम ने पाया कि वायरल विज्ञापन की तस्वीर एडिटेड है और इसे व्यंग्य के रूप में बनाया गया है.

क्या व्यस्त सड़क पर मुस्लिम युवक को नमाज़ पढ़ते दिखाता वीडियो लंदन से है? फ़ैक्ट चेक

हाल ही में अरविंद केजरीवाल ने कोयले की कमी से राजधानी दिल्ली में बिजली संकट की चेतावनी दी थी. कुछ दिन पहले, राष्ट्रीय राजधानी के बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी संकट के बारे में अपनी चिंता व्यक्त करते हुए कहा था कि अगर कोयले की आपूर्ति में सुधार नहीं हुआ तो दिल्ली में दो दिनों में ब्लैकआउट हो सकता है.

12 अक्टूबर, 2021 को प्रकाशित लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार ने दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) और एनटीपीसी लिमिटेड को संभावित कमी के कारण दिल्ली को उपलब्ध बिजली की आपूर्ति के लिए निर्देश जारी किए हैं.

'हिंदुस्तान' अख़बार के पहले पन्ने पर अरविंद केजरीवाल के कथित विज्ञापन में लिखा है, "बिजली की कमी दूर करने के लिए कोयला दान देकर दिल्ली सरकार की मदद करें, आपका एक तसल्ला कोयला पूरे दिल्ली का अंधेरा दूर कर सकता है"


आर्काइव यहां देखें.


आर्काइव यहां देखें.


आर्काइव यहां देखें.

"जब पैसे नहीं थे तो लॉक नहीं करना था ..." चोर की चिट्ठी डिप्टी कलेक्टर के नाम

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल विज्ञापन की तस्वीर की वास्तविकता जानने के लिए तस्वीर को ध्यान से देखा और पाया कि तस्वीर के नीचे दाएं कोने में मौजूद अरविंद केजरीवाल की एक कटआउट तस्वीर पर "Satire" यानी "व्यंग्य" शब्द लिखा हुआ है.

बूम ने हिंदुस्तान अख़बार संस्करण के बारे में विवरण जानने के लिए तस्वीर को ज़ूम-इन किया. इस दौरान हमने पाया कि यह असल में हिंदुस्तान अख़बार के बिहार के मुज़फ्फरपुर संस्करण का पहला पन्ना है जो कि 9 जुलाई, 2021 को प्रकाशित हुआ था.

वायरल तस्वीर का ज़ूम-इन विवरण नीचे देखा जा सकता है.


हमें अपनी जांच के दौरान हिंदुस्तान अख़बार की वेबसाइट से बिहार के मुज़फ्फ़रपुर संस्करण के पहले की खोज की जो 9 जुलाई 2021 को प्रकाशित हुआ था. हमने पाया कि 9 जुलाई 2021, शुक्रवार को अख़बार में दिल्ली सरकार के बारे में एक समान दिखने वाला विज्ञापन प्रकाशित किया गया था.

हिंदुस्तान के मुज़फ्फ़रपुर संस्करण में प्रकाशित विज्ञापन

9 जुलाई 2021 को प्रकाशित ओरिजिनल विज्ञापन, कोविड -19 पीड़ितों के परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए दिल्ली-सरकार की योजना के बारे में था. विज्ञापन में लिखा है, "कोविड से जो दुनिया छोड़ गए उनके परिवारों के साथ है दिल्ली सरकार." इस बारे में खोज करने पर हमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा शुरू की गई दिल्ली-सरकार की योजना के बारे में कई मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं.

6 जुलाई 2021 को प्रकाशित मनीकंट्रोल की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोविड-19 से अपने परिवारजनों को खोने वाले परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए एक सामाजिक सुरक्षा योजना और ऑनलाइन पोर्टल की शुरुआत की.

रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना के तहत कोरोना वायरस से अपने परिजनों को खोने वाले प्रहर एक परिवार को 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी. इसके अलावा अगर मृतक व्यक्ति परिवार में एकमात्र कमाने वाला था तो उसके परिवार को 2,500 रुपये प्रतिमाह की अतिरिक्त सहायता राशि मदद दी जाएगी.

बूम ने आम आदमी पार्टी के गेस्ट मीडिया कोआर्डिनेटर वेद प्रकाश से संपर्क किया जिसमें उन्होंने वायरल विज्ञापन की तस्वीर को फ़ेक करार दिया. इसके अलावा उन्होंने चीफ़ मीडिया कोआर्डिनेटर विकास योगी के हवाले से वायरल तस्वीर का खंडन किया और फ़ेक बताया.

यह पहला मामला नहीं है जब दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के विज्ञापन की एडिटेड तस्वीर वायरल हुई है. बूम पहले भी ऐसे कथित विज्ञापनों का फ़ैक्ट चेक कर चुका है.

DTC बस ख़रीदने की बातचीत शुरू होने पर बधाई देते दिल्ली सीएम की ये होर्डिंग फ़ेक है

दिल्ली सीएम केजरीवाल को डस्टबिन लगाने का श्रेय लेते दिखाती तस्वीर फ़ेक है

स्पीड ब्रेकर निर्माण की बधाई देते हुए केजरीवाल के पोस्टर का सच क्या है?

Updated On: 2021-12-02T17:26:35+05:30
Claim Review :   अरविंद केजरीवाल ने कोयले की कमी के बीच कोयला दान के लिए अनुरोध किया
Claimed By :  Social Media Users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story