क्या शराब की बोतलों से भरे ये पैकेट बिहार चुनाव में वोटरों के लिए है?

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर का दावा फ़र्ज़ी है। वायरल तस्वीर करीब एक साल पुरानी है और थाईलैंड की है।

सोशल मीडिया पर शराब की बोतलों से भरे पैकेट की एक तस्वीर फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल हो रही है। तस्वीर को बिहार चुनाव (Bihar Election) से जोड़कर शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि भाजपा-जदयू गठबंधन (BJP-JDU Alliance) चुनाव में मतदाताओं को लुभाने की तैयारी में लगी है। गौरतलब है कि बिहार में साल 2016 से शराबबंदी लागू है। हालांकि निकटवर्ती राज्यों से शराब की तस्करी चालू है।

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर का दावा फ़र्ज़ी है। वायरल तस्वीर करीब एक साल पुरानी है और थाईलैंड की है।

गौरतलब है कि बिहार में चुनाव का बिगुल बज चुका है। ऐसे में तमाम राजनीतिक दल मतदाताओं को लुभाने में जुटे हुए हैं। बिहार चुनाव तीन चरणों में संपन्न होंगे। पहले चरण में मतदान 28 अक्टूबर, दूसरा 3 नवंबर और अंतिम चरण में मतदान 7 नवंबर को होगा, जबकि चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आएंगे।

नीतीश कुमार के काफ़िले पर पथराव का ये वीडियो कब का है?

फ़ेसबुक पर एक यूज़र ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि "बिहार में बीजेपी-जदयू की कुछ तैयारी ऐसी भी चल रही है...ध्यान रहे बिहार वासियों ये जहर ओर कहर दोनो है इसलिए बहकावे में नहीं आना है..!!"

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

फ़ेसबुक पर बड़े पैमाने पर तस्वीर वायरल है। यूज़र्स तस्वीर को बिहार चुनाव में भाजपा-जदयू गठबंधन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं।

ट्विटर पर भी यूज़र वायरल तस्वीर को उसी दावे के साथ शेयर कर रहे हैं।

पोस्ट का आर्काइव यहां देखें। अन्य ट्वीट यहां और यहां देखें।

भाजपा प्रत्याशी को जूतों की माला पहनाते दिखाता वीडियो मध्यप्रदेश का है

फ़ैक्ट चेक

तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर खोजने पर हमें थाई भाषा में एक वेबसाइट पर 2019 का लेख मिला, जिसमें इसी तस्वीर का इस्तेमाल किया गया था।

'जॉनी ज्यूकबॉक्स का थैला, हर किसी के हाथ में असली डील' शीर्षक के साथ लिखे इस लेख में बताया गया है कि 2019 में थाईलैंड के उबन रत्चाथनी प्रांत में बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए जॉनी नामक एक व्यक्ति ने शराब की बोतलों का पैकेट बांटा था।

लेख के अनुसार बाढ़ प्रभावित उबन रत्चाथनी प्रांत में बाढ़ पीड़ितों के लिए ज़रूरी सामानों में से सबसे ज़रूरी सामान रखने वाला सर्वाइवल बैग है। चावल, सूखा भोजन सहित कई विभागों के अलावा वालंटियर्स ने सर्वाइवल बैग बनाए हैं।

प्राकृतिक आपदाओं में आपदाग्रस्त इलाकों में ज़रूरी सामानों से भरे पॉलिथीन बैग को सर्वाइवल बैग कहा जाता है।

नीचे तस्वीर में जॉनी को बाढ़ग्रस्त इलाक़े में एक व्यक्ति को उसी पैकेट को देते हुए देखा जा सकता है।


नहीं, एन.सी.पी नेता संजय शिंदे पालघर मामले में आरोपी नहीं थे

लेख में आगे कहा गया कोई भी शराब पीने वाले व्यक्ति के दिमाग को नहीं समझता है क्योंकि इस बाढ़ के दौरान कई दिनों तक भूखा रहना पड़ता है। इस परेशानी को जॉनी ने समझा और सभी शराब पीने वाले लोगों के लिए एक सर्वाइवल बैग बनाया, जो वास्तव में पीड़ितों को वितरित किया गया था। जॉनी ने तस्वीर को अपने फ़ेसबुक पेज पर भी शेयर किया।

लेख के नीचे हमें जॉनी का फ़ेसबुक पेज मिला। उनके फ़ेसबुक पेज पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार वह एक म्यूजिशियन है। जॉनी के फ़ेसबुक पर 19 सितंबर 2019 का एक पोस्ट मिला, जिसमें हमें वायरल तस्वीर मिली। थाई भाषा में लिखे कैप्शन का हिंदी अनुवाद – "यहाँ आओ। मैं एक शराबी हूँ । मैं एक अच्छा सैमी कैसे ले सकता हूँ?"

इसके अलावा शराब की बोतलों से भरे पैकेट की इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया जा चुका है। ट्विटर पर एक यूज़र ने 8 अप्रैल 2020 के अपने पोस्ट में इस तस्वीर को इस्तेमाल किया था। अप्रैल 2020 में ही एक यूज़र ने स्पेनिश भाषा में लिखे कैप्शन के साथ इस तस्वीर को पोस्ट किया था।

हमें 22 सितंबर 2019 का एक फ़ेसबुक पोस्ट मिला, जिसमें यूज़र ने थाई भाषा में कैप्शन के साथ इस तस्वीर को शेयर किया था, जिसका हिंदी अनुवाद "किसके घर में बाढ़ आ गई है? मैं आपके लिए एक सर्वाइवल बैग लाऊंगा।"


हमें यह वायरल तस्वीर पिकाबू सोशल साईट पर भी मिली, जिसे एक यूज़र ने करीब 5 महीने पहले शेयर किया था। पिकाबू रूस में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। यूक्रेन, बेलारूस और कज़ाकिस्तान में भी इसके यूज़र्स की संख्या अच्छी है।

नहीं, दिल्ली स्थित जामा मस्जिद ने तनिष्क के ख़िलाफ़ फ़तवा जारी नहीं किया है


Updated On: 2020-10-25T23:12:51+05:30
Claim Review :   भाजपा-जेडीयू गठबंधन मतदाताओं को शराब से लुभाने में लगी हैं
Claimed By :  Social Media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story