हैदराबाद में मूर्ति स्थापना को लेकर हुए हाथापाई का वीडियो सांप्रदायिक दावों के साथ वायरल

बूम ने हैदराबाद पुलिस से बात करके पता लगाया कि प्रतिमा स्थापना को लेकर हुए मारपीट में शामिल सभी लोग हिंदू धर्म के थे

सोशल मीडिया पर पिछले दिनों हैदराबाद का एक वीडियो ग़लत दावे के साथ ख़ूब शेयर किया गया है। दो समूहों के बीच हाथापाई का यह वायरल वीडियो हैदराबाद के लाल दरवाज़ा इलाक़े का है, जिसमें दावा किया गया है कि मुसलमानों ने हिन्दुओं को गणेश प्रतिमा को स्थापित करने से रोका, जिसके बाद हिन्दुओं ने उनकी पिटाई कर दी।

बूम ने हैदराबाद के मुगलपुरा पुलिस, जिसके अंतर्गत लाल दरवाज़ा क्षेत्र आता है - से बात की तो उन्होंने इस घटना में साम्प्रदायिक कोण को ख़ारिज करते हुए हमें बताया कि प्रतिमा स्थापना को लेकर एक परिवार के रिश्तेदारों के बीच झड़प हुई थी और वो सभी हिंदू धर्म के मानने वाले थे।

क्या आमिर खान हज यात्रा के दौरान लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों से मिले थे?

वायरल वीडियो में कई लोगों को गणेश प्रतिमा के आसपास भीड़ लगाते देखा जा सकता है। अचानक से मारपीट शुरू हो जाती है और मौके पर मौजूद पुलिसकर्मी लोगों को एकदूसरे से अलग करने की कोशिश में लग जाते हैं | वीडियो के समाप्त होने तक हाथापाई रुक जाती है।

नीचे वायरल पोस्ट में वीडियो के साथ एक हिंदी कैप्शन है जिसमे कहा गया है 'हैदराबाद में गणेश जी की मूर्ति लगाने पर मुसलमानो ने हिन्दुओ के साथ मारपीट किया | मजहब ही सिखाता है हिन्दुओ से बैर रखना' |

इसी वीडियो को फ़ेसबुक पर भी काफ़ी शेयर किया गया है।

नीचे दिए गए पोस्ट के साथ हिंदी कैप्शन कहता है 'हैदराबाद कुछ युवक गणेश प्रतिमा की स्थापना का विरोध कर रहे थे, मौके पर ही पेल दिए गए हिन्दू मरा नही था, बस सोया था,अब जाग रहा है'

यही वीडियो कई फ़ेसबुक पेजों से वायरल है।




नहीं, मुग़ल गार्डन्स का नाम बदल कर डॉ राजेंद्र प्रसाद गार्डन नहीं किया गया है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने अंग्रेज़ी के शब्द hyderabad, ganesha, idol और fight से कीवर्ड सर्च किया तो हमें दी न्यूज़ मिनट द्वारा किया गया एक आर्टिकल मिला जिसमे इस घटना को हैदराबाद के मुगलपुरा क्षेत्र से बताया गया था।

घटना पर और जानकारी पाने के लिए हमने मुगलपुरा पुलिस स्टेशन को कॉल किया। स्टेशन हाउस अफ़सर, मुगलपुरा ने हमें बताया कि इस पुरे मामले में कोई भी सांप्रदायिक कोण नहीं था।

"घटना दो दिन पहले की है जब मुगलपुरा के लाल दरवाज़ा क्षेत्र में कुछ लोग आपस में भिड़ गए थे। दोनों पक्षों के सभी लोग हिन्दू हैं और रिश्तेदार हैं | मामला गणेश प्रतिमा की स्थापना को लेकर उठा था," एस.एच.ओ ने हमें बताया।

नहीं, महेश भट्ट सड़क-2 के ट्रेलर को डिसलाइक्स मिलने पर नहीं भड़क रहे हैं

एस.एच.ओ ने बूम को ये भी बताया कि प्रतिमा को ले आते वक्त उसके हाथ खंडित हो गए थे।

हमने मुगलपुरा पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर संदीप रेड्डी से भी बात की जिन्होंने हमें वो ही बातें बताई जो एस.एच.ओ ने पहले बताई थी। रेड्डी ने ये भी बताया कि घटना अगस्त 22 को घटित हुई थी।

"मारपीट में लिप्त दोनों पक्ष हिन्दू थे और कोई भी सांप्रदायिक कोण नहीं है इसमें। मामले का निपटारा शांतिपूर्ण ढंग से पुलिस स्टेशन के बाहर ही हो गया था तो कोई केस भी नहीं दर्ज हुआ," रेड्डी ने बूम को बताया।

बुर्क़ा पहने शराब तस्कर का वीडियो फ़र्जी दावे के साथ वायरल

Updated On: 2020-08-30T13:16:20+05:30
Claim Review :   वीडियो दावा करता है कि हैदराबाद में हिन्दू युवकों ने मुसलमानों की तब पिटाई कर दी जब उन लोगों ने हिन्दुओं के गणेश प्रतिमा के स्थापना से रोका
Claimed By :  Social Media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story