2019 के चुनाव कैंपेन का वीडियो फ़ुटबॉलर माराडोना के अंतिम संस्कार का बताकर शेयर

बूम ने पाया कि वायरल वीडियो में तत्कालीन अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मारिसियो मैक्री का चुनाव प्रचार दिखाया गया है।

अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स से एक चुनाव अभियान का वीडियो फ़र्ज़ी दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। दावा किया जा है कि वीडियो फ़ुटबॉलर डिएगो माराडोना के अंतिम संस्कार के जुलूस और बड़ी संख्या में एकत्रित प्रशंसकों को दिखाता है।

बूम ने पाया कि वीडियो 2019 का है और वीडियो में दिख रही भीड़ तत्कालीन अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मारिसियो मैक्री के अभियान का समर्थन करने के लिए थी।

महान फ़ुटबॉलर डिएगो माराडोना का 25 नवंबर को 60 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उनके अंतिम संस्कार में ब्यूनस आयर्स में झड़पें हुईं, क्योंकि सार्वजनिक तौर पर उनके ताबूत को देखने वालों की संख्या 26 नवंबर की सुबह दफ़न करने के लिए कम कर दी गई थी। इस बारे में यहां और यहां पढ़ें।

किसानों पर वाटर कैनन से किये प्रहार की पुरानी तस्वीरें हाल की बता कर वायरल

वायरल वीडियो में, कैमरे को अर्जेंटीना के झंडे पकड़े लोगों के समुद्र के किनारे घूरते हुए देखा जा सकता है।

वीडियो के साथ एक कैप्शन में लिखा है '#DiegoMaradona का अंतिम संस्कार आज। मंत्रमुग्ध। यह क्या इंगित करता है? एक श्रेष्ठतम पुरुष। वो न तो राष्ट्रपति हैं और न ही किसी देश के प्रधानमंत्री हैं। फ़ुटबॉल ग्राउंड में उनके प्रदर्शन ने उनके लिए बात की। इतना प्यार, सम्मान और इतना सम्मान इन दिनों किसे मिलता है? वह फ़ुटबॉल प्रेमियों के दिलों में अमर रहेंगे। माराडोना..तुम अब भगवान के सुरक्षित हाथों में चले गए हैं, लेकिन पूरी फ़ुटबॉल बिरादरी तुमको "फ़ुटबॉल के भगवान" के रूप में याद करेगी, जैसे कि हमारे अपने जीवित दिग्गज सचिन तेंदुलकर को "क्रिकेट के भगवान" माराडोना..ब्रावो। आपकी आत्मा को सर्वशक्तिमान की गोद में शाश्वत शांति मिले।'

नीचे वीडियो क्लिप देखें और वीडियो का आर्काइव यहां देखें।

उसी वीडियो को कैप्शन के साथ ट्वीट किया गया है जिसमें दावा किया गया है कि यह माराडोना का अंतिम संस्कार है।

फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट का दावा, संबित पात्रा की 'बेटी' मुस्लिम युवक संग फ़रार

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल क्लिप के एक कीफ़्रेम पर रिवर्स इमेज सर्च किया तो 11 जून, 2020 को पुर्तगाली में एक शीर्षक के साथ एक यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया गया वही वीडियो पाया, जिसका अनुवाद- अर्जेंटीना के लोग पोस्टर फर्नांडीज और किर्चनर के ख़िलाफ़ बगावत करते हैं- मेगा मेनिफ़ेस्टेशन।

लगभग 90 सेकंड के लंबे वीडियो में वायरल वीडियो के समान दृश्य दिखाई देते हैं।

हम उसी वीडियो पर एएफ़पी फ़ैक्चुअल द्वारा किए गए एक फ़ैक्ट चेक पर भी गए, जो इस साल जून में इस दावे के साथ वायरल हुआ था कि इसमें अर्जेंटीना के राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडीज के ख़िलाफ़ एक मेगा विरोध दिखाया गया था।

एएफ़पी फ़ैक्ट चेक ने अक्टूबर 2019 के मूल वीडियो का पता लगाया था और पाया था कि भीड़ 'तत्कालीन राष्ट्रपति मारिसियो मैक्री के पुन: चुनाव के पक्ष में' हो गई थी।

'मारिसियो मैक्री के पुन: चुनाव' के साथ एक कीवर्ड के साथ सर्च करने पर हमें मैक्री के पुन: चुनाव अभियान के हिस्से के रूप में 'मिलियन मार्च' रैली के बारे में न्यूज़ रिपोर्ट्स मिली। रिपोर्ट में प्रकाशित तस्वीर वायरल क्लिप में दृश्य के समान दिखती हैं।

20 अक्टूबर, 2019 को रॉयटर्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, ब्यूनस आयर्स के केंद्र में दक्षिणी गोलार्ध की वसंत धूप में मैक्री के समर्थन में भारी भीड़ उमड़ी थी।

किसानों पर वाटर कैनन से किये प्रहार की पुरानी तस्वीरें हाल की बता कर वायरल

बूम ने 20 अक्टूबर, 2019 को एक ट्वीट में स्पेनिश भाषा में कैप्शन के साथ शेयर किया गया ऐसा ही वीडियो पाया, "1983 में अल्फोंसिन के बाद से सबसे बड़ा राजनीतिक दीक्षांत समारोह है। अब, के प्रेस क्या कहेगा कि वे मैक्री के सभी कामों में झूठ बोलते हैं? कुछ भी नहीं खोया है। अगर हम हर वोट का ख्याल रखें तो सब कुछ संभव है।"

हमने वायरल वीडियो से लिए गए स्क्रीनशॉट की तुलना 2019 वीडियो से की और उन्हें एक समान पाया।




हवा साफ़ है या ख़राब बताने वाला एयर क्वालिटी इंडेक्स आख़िर है क्या?

Claim Review :   डिएगो माराडोना का अंतिम संस्कार आज
Claimed By :  Social Media Posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story