गोवा कांग्रेस की सोशल मीडिया प्रभारी की तस्वीर 'नक्सल भाभी' बताकर वायरल

बूम ने पाया कि तस्वीर में दिख रही महिला गोवा कांग्रेस की सोशल मीडिया प्रभारी प्रतिभा बोरकर हैं

गोवा कांग्रेस की सोशल मीडिया प्रभारी प्रतिभा बोरकर की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर फ़र्ज़ी दावे के साथ शेयर की जा रही है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में गोवा कांग्रेस नेताओं के साथ दिख रही प्रतिभा को डॉ राजकुमारी बंसल बताया जा रहा है। राजकुमारी बंसल को हाथरस पीड़िता के घर में देखा गया था, जिन्हें बाद में 'नक्सल भाभी' के रूप में प्रचारित किया गया था।

हाथरस पीड़िता के घर में डॉ राजकुमारी बंसल की मौजूदगी को लेकर उस समय विवाद खड़ा हो गया था जब टीवी न्यूज़ चैनलों ने उन्हें पीड़िता की भाभी के रूप में दिखाया था। हालांकि बाद में पता चला कि वह पीड़ित परिवार से संबंधित नहीं है। कई दक्षिणपंथी सोशल मीडिया यूज़र्स ने तब से उन्हें 'नक्सल भाभी' के रूप में प्रचारित किया है। बूम पहले प्रियंका गांधी की हाथरस पीड़िता की माँ को गले लगाती तस्वीर का फ़ैक्ट चेक कर चुका है, जिसे फ़र्ज़ी दावे के साथ शेयर किया गया था कि तस्वीर में पीड़िता की माँ नहीं बल्कि 'नक्सल भाभी' हैं।

बूम ने हाथरस पीड़िता के भाई से संपर्क किया जिसने इस बात की पुष्टि की कि तस्वीर में दिख रही महिला उसकी माँ है। हमने डॉ राजकुमारी बंसल से भी संपर्क किया, जिन्हे वायरल तस्वीर में नक्सली बताया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वह उस दिन हाथरस में मौजूद नहीं थी जिस दिन कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गाँधी पीड़ित परिवार से मिलने गए थे।

वायरल तस्वीर में कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ सहित तीन पुरुष और एक महिला गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के बोर्ड के सामने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बैठे हैं।

नहीं, तस्वीर में प्रियंका गांधी 'नक्सल भाभी' को गले नहीं लगा रही हैं

वायरल तस्वीर को कैप्शन के साथ शेयर किया जा रहा है,"फ़र्ज़ी नक्सल भाभी जिसे हाथरस में प्रियंका गांधी ने गले लगाया था.. प्रियंका वाड्राका प्रभावशाली नाटक"।


पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

ट्विटर पर वायरल

उसी तस्वीर में दिख रही महिला को 'नक्सल भाभी' बताकर गलत तरीके से शेयर किया जा रहा था।

आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल हुई तस्वीर को बीजेपी की राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने भी रीट्वीट किया।


पोस्ट यहां देखें, आर्काइव यहां देखें

आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

गौरतलब है कि तस्वीर 29 सितंबर 2020 को दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में उत्तर प्रदेश के हाथरस की एक दलित लड़की की मौत की पृष्ठभूमि में वायरल हो रही है। 14 सितंबर को ऊँची जाति के 4 लोगों ने कथित रूप से दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार कर उसके साथ बेरहमी से मारपीट की थी।

नहीं, वायरल हो रही यह तस्वीरें केरला की नहीं हैं

फ़ैक्ट चेक

बूम ने पाया कि वायरल तस्वीर में दिख रही महिला गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी (GPCC) की सोशल मीडिया प्रभारी प्रतिभा बोरकर है। वायरल तस्वीर गोवा कांग्रेस की पिछले साल सितंबर में हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की है।

गोवा कांग्रेस के 29 सितंबर 2019 को फ़ेसबुक लाइव में भी कांग्रेस प्रवक्ता सहित प्रतिभा बोरकर को देखा जा सकता है। बोरकर ने वायरल तस्वीर जैसा ही समान ड्रेस पहना हुआ है।

हमने यह भी पाया कि 2 अक्टूबर, 2020 की एक समाचार रिपोर्ट में गोवा कांग्रेस की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में हाथरस मामले पर उत्तर प्रदेश सरकार की निंदा की गई थी।

एक अक्टूबर, 2020 की प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोरकर को देखा जा सकता है और वायरल तस्वीर की महिला के साथ उनके चेहरे के फीचर्स मेल खाते हैं।

इसके अलावा हमने बोरकर के फ़ेसबुक अकाउंट को भी देखा, जिसे गोवा कांग्रेस ने कुछ पोस्ट में टैग किया था और पाया कि वायरल तस्वीर को उनके फ़ेसबुक कवर पिक्चर से लिया गया था।


देखने के लिए यहां क्लिक करें

देखने के लिए यहां क्लिक करें

बूम ने बोरकर से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि फ़ोटो उन्हीं की है जो पिछले साल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ली गई थी । "हाँ इस वायरल तस्वीर में मैं ही हूँ और मैं राजकुमारी बंसल (नक्सल भाभी) नहीं हूँ जैसा कि दावा है । मैं हाथरस नहीं गयी और हाथरस में प्रियंका गांधी से भी नहीं मिली । ऐसे मटेरियल को शेयर करना गोआ कांग्रेस द्वारा किए गए कामों की त्वहीन है । कोई भी बता सकता है कि यह दो अलग अलग लोग हैं," गोवा कांग्रेस नेता प्रतिभा बोरकर ने कहा |

सोशल मीडिया पर कई दक्षिणपंथी यूज़र्स ने जिस महिला को 'नक्सल भाभी' के रूप में प्रचारित किया है, असल में वह डॉ राजकुमारी बंसल है। वह जबलपुर के एक मेडिकल कॉलेज में फैकल्टी है। बूम ने डॉ बंसल से संपर्क किया, जिन्होंने वायरल तस्वीर में कांग्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस में होने से इंकार किया और इस बात से भी इनकार किया कि वह कभी प्रियंका गांधी वाड्रा से मिली हैं।

डॉ बंसल ने बूम को बताया, "मैं आज तक किसी राजनीतिक नेता से नहीं मिली, मैं एक सरकारी कर्मचारी हूं, प्रियंका गांधी 3 अक्टूबर को हाथरस पहुंची थी जबकि मैं 4 अक्टूबर को हाथरस गयी थी, मैं प्रियंका गांधी जी से कभी नहीं मिली।"

बंसल और गोवा कांग्रेस नेता प्रतिभा बोरकर की तुलना करने पर, स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि दोनों अलग-अलग महिला हैं और उनके चेहरे की विशेषताएं मेल नहीं खाती हैं।



मध्य प्रदेश में बलात्कार के आरोपी की तस्वीर हाथरस मामले से जोड़कर वायरल

Updated On: 2020-10-13T21:39:54+05:30
Claim Review :   गोवा कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिख रही महिला नक्सल भाभी है, जिसने हाथरस पीड़िता की भाभी होने का दावा किया था
Claimed By :  Social Media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story