क्या यह दानिश कनेरिया, मोहम्मद यूसुफ की नमाज़ अदा करने की तस्वीर है?

बूम ने पाया कि इस तस्वीर में कनेरिया हैं ही नहीं, और यह इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद यूसुफ (यूसुफ यूहाना) की तस्वीर है।

भाजपा महिला मोर्चा की सदस्य प्रीति गांधी ने पाकिस्तानी क्रिकेट टीम को नमाज़ अदा करते हुए 13 साल पुरानी एक तस्वीर शेयर की है। तस्वीर के साथ भ्रामक दावा भी किया गया है। दावा किया जा रहा है कि यह दानिश कनेरिया ( एक हिंदू ) और यूसुफ यहाना (अब मोहम्मद यूसुफ) जो पहले ईसाई धर्म के थे, उन्हें नमाज़ अदा करने के लिए कहा जा रहा है।

बूम ने पाया कि इस तस्वीर में कनेरिया नहीं है, और यह इस्लाम में परिवर्तित होने के बाद यूसुफ की तस्वीर है।

यह भी पढ़ें: असम पुलिस ने उन लोगों की पिटाई की जो एनआरसी में नहीं हैं? फ़ैक्ट चेक

गांधी ने फोटो को कैप्शन के साथ ट्वीट किया जिसमें लिखा है: "इंजमाम-उल-हक की कप्तानी के दौरान पाकिस्तान क्रिकेट टीम की तस्वीर। हिंदू दानिश कनेरिया और क्रिश्चियन यूसुफ यूहाना को नमाज अदा करने के लिए कहा गया। # IndiaSupportsCAA"


यह ट्वीट नागरिकता संशोधन अधिनियम के मद्देनज़र शेयर किया गया है, जिसने देश में व्यापक विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। गांधी के ट्वीट में यह दिखाने की कोशिश की गई है कि पाकिस्तान में किस प्रकार हिंदू और ईसाई अल्पसंख्यक समुदाय उत्पीड़न और भेदभाव का सामना करते हैं।

इसके अलावा, पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और कनेरिया ने हाल ही में खुलासा किया कि कनेरिया के साथ उनके धर्म के आधार पर भेदभाव किया गया था।

यह भी पढ़ें: तोड़फोड़ का ये वीडियो बांग्लादेश का है, कोलकाता से नहीं

कनेरिया ने फोन पर पीटीआई को बताया, "शोएब खेल के दिग्गज रहे हैं। उनके शब्द भी उनकी गेंदबाजी की तरह ही ब्लंट हैं। जब मैं खेल रहा था तो इन मामलों पर बोलने की हिम्मत नहीं थी लेकिन शोएब भाई की टिप्पणियों के बाद, मैं करता हूं।"

तो क्या गांधी द्वारा शेयर की गई तस्वीर यही दर्शाती है?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने पाकिस्तानी खेल पत्रकार और ईएसपीएन-क्रिकइन्फो के संवाददाता उमर फारूक कलसन द्वारा तस्वीर को चलाया, जिसने पुष्टि की कि जबकि दानिश कनेरिया इस तस्वीर में नहीं हैं, मोहम्मद यूसुफ (पूर्व में यूसुफ यूहाना) वास्तव में नमाज अदा करते देखे जा सकते हैं।

कलसन के अनुसार, फोटो में लोग अब्दुल रऊफ (टीम मससेर), इंजमाम उल-हक, मोहम्मद यूसुफ, कामरान अकमल और उमर गुल (बाएं से, आगे की पंक्ति में) हैं, जबकि राणा नावेद-उल-हसन को, रऊफ के पीछे दूसरी पंक्ति में देखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: क्या विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस प्रवेश कर सकती है?

पहली पंक्ति (बाएं से): अब्दुल रऊफ (टीम मससेर), इंजमाम उल-हक, मोहम्मद यूसुफ, कामरान अकमल, उमर गुल।दूसरी पंक्ति: राणा नावेद-उल-हसन

बूम ने फोटो के साथ एक रिवर्स इमेज सर्च किया और 27 अगस्त, 2006 से गेटीइमेज द्वारा प्रकाशित यही तस्वीर पायी। फोटो के कैप्शन में लिखा है: " 27 अगस्त, 2006 को ब्रिस्टल, इंग्लैंड में द काउंटी ग्राउंड में नेटवेस्ट इंटरनेशनल ट्वेंटी 20 मैच से पहले नेट प्रैक्टिस से पहले, इंजमाम उल-हक (2 एल) अपनी टीम के साथियों के साथ प्रार्थना कर रहे है।"

बूम ने ईएसपीएन-क्रिकइन्फो द्वारा किए गए मैच कवरेज देखा और पाया कि कनेरिया लाइन-अप का हिस्सा नहीं थे। यह मैच से पहले फोटो सेशन में कनेरिया की अनुपस्थिति का सुझाव दे सकता है।

यह भी पढ़ें: प्रदर्शन के दौरान आरएसएस कर्मी पुलिस की पोशाक में? फ़ैक्ट चेक

जबकि, मोहम्मद यूसुफ - जिसे गांधी उनके पूर्व नाम यूसुफ यहाना द्वारा संदर्भित करती है - फोटो में है, यह फोटो यूसुफ द्वारा सार्वजनिक रूप से ईसाई धर्म से इस्लाम में धर्म परिवर्तन की घोषणा करने के एक साल बाद लिया गया है। इसलिए यह तस्वीर नहीं दर्शाता है कि उन्हें ईसाई धर्म का पालन करते हुए नामज अदा करने के लिए कहा गया है।

Claim Review :  तस्वीर से पता चलता है कि दानिश कनेरिया और यूसुफ यूहाना को नमाज अदा करने के लिए कहा गया है।
Claimed By :  Priti Gandhi
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story