पुरानी तस्वीर कांग्रेस द्वारा तोड़फोड़ के फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल

दावा है कि तस्वीर वर्तमान में विपक्षी दलों द्वारा भारत बंद के दौरान की गई तोड़फोड़ दिखती है

सड़क पर बिखरी सब्ज़ियां दिखाती एक तस्वीर फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल हो रही है कि किसानों द्वारा 8 दिसंबर को किये गए भारत बंद के दौरान विपक्षी दलों ने यह तोड़फोड़ मचाई है ।

बूम ने पाया कि तस्वीर मई 2020 से इंटरनेट पर मौजूद है और इसका वर्तमान किसान आंदोलन या भारत बंद से संबंध नहीं है ।

तस्वीर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते दावों के साथ भी वायरल है । पंजाब और हरियाणा के किसान पिछले करीब दो महीनों से केंद्र सरकार का विरोध कर रहे हैं । यह विरोध तीन कृषि क़ानूनों के कारण हो रहा है । इस तस्वीर के साथ एक दावा किया जा रहा है जो यूं है: "शर्म करो विपक्षी दलों जिन किसान के नाम पर तुम यह बंद की नौटंकी कर रहे हो उन्हीं के सामान सड़कों पर फेंकते हुए तुम्हें शर्म नहीं आई |"

भारतीय तिरंगे का अपमान करते ये प्रदर्शनकारी किसान आंदोलन में नहीं हैं

पोस्ट्स नीचे देखें और इनका अर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें ।




खालिस्तान समर्थक नारों का पांच साल पुराना वीडियो किसान आंदोलन से जोड़कर वायरल

फ़ैक्ट चेक

बूम ने रिवर्स इमेज सर्च किया और पाया कि तस्वीर 5 मई 2020 के कुछ ट्वीट्स में इस्तेमाल हुई थी । इन ट्वीट में बताया गया था कि 'यदि शराब दुकानें खुल सकती हैं तो सब्जी दुकानें क्यों नहीं ।'

अन्य ट्वीट यहां देखें

तस्वीर में एक वाहन है जिसमें पश्चिम बंगाल का रेजिस्ट्रेशन नंबर है । इसके बाद हमनें बंगाली कीवर्ड "মদের দোকান খোলা" (शराब दुकानें खुली) के साथ खोज की और फ़ेसबूक पर यही तस्वीर पाई जो 4 मई 2020 को कई पेजेज़ ने इस्तेमाल की थी ।

कुछ यूज़र्स इस जगह को पश्चिम बंगाल के बारासात का पायोनियर मार्किट बताया था ।

केरल में एक नये प्रकार का मलेरिया मिला है, जानिए क्या है ये

Claim Review :   शर्म करो विपक्षी दलों जिन किसान के नाम पर तुम यह बंद की नौटंकी कर रहे हो उन्हीं के सामान सड़कों पर फेंकते हुए तुम्हें शर्म नहीं आई
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story