क्या शी जिनपिंग ने मुस्लिमों से सीखे कोरोनावायरस से लड़ने के तरीके?

बूम ने पाया कि वायरल वीडियो तीन क्लिप को जोड़ कर बनाया गया है जो शी जिनपिंग द्वारा 2016 में चीन के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र के दौरे का है।

2016 में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के उत्तरी पश्चिमी क्षेत्र 'निंगक्सिया हुई' के दौरे की वीडियो क्लिप्स का एक संकलन ग़लत दावों के साथ वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि शी जिनपिंग ने मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों में यह समझने के लिए एक यात्रा की कि कोविड ​​-19 वायरस ने उन्हें प्रभावित क्यों नहीं किया है।

3 मिनट 30 सेकंड के लंबे वीडियो को बंगाली में एक कहानी के साथ ग़लत तरीके से एडिट किया गया है, जिसमें कहा गया है कि कोविड-19 से बचने के लिए जीवनशैली को समझने के लिए चीनी राष्ट्रपति ने कई मुस्लिम घरों का दौरा किया है। कोविड -19 से दुनिया भर में अब तक 3,892 लोगों की जान गई है। भारत में भी 43 मामले सामने आए हैं।

वीडियो के साथ बताया जा रहा है कि कैसे शी जिनपिंग मुस्लिमों के रहने की तरीके से प्रभावित हैं| फुटेज में उन्हें चीन के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में घूमते हुए दिखाया गया है।

यह भी पढ़ें: शी जिनपिंग की पुरानी तस्वीरों को ग़लत तरीके से कोरोनावायरस से जोड़ा जा रहा है

वीडियो के साथ कहानी में यह कहते हुए सुना जा सकता है, "ऐसे समय में जब पूरा चीन कोरोनावायरस से प्रभावित है, मुस्लिम एक फिट जीवन जी रहे हैं, किसी भी संक्रमण पीड़ित नहीं हैं। अभी तक उपरोक्त वायरस से कोई भी प्रभावित नहीं हुआ है। अटकलों पर विराम लगाने के लिए कि मुसलमान सुरक्षित क्यों हैं और वे वायरस से संक्रमित क्यों नहीं हुए हैं, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मुस्लिम घरों में पैदल जाकर यह देखा कि वे क्या खाते हैं, और वे कौन सी आदतें अपनाते हैं। उन्होंने यह जानने के लिए मुस्लिम प्रतिनिधियों के साथ कुछ बैठकें कीं कि वे क्या खाते हैं और क्या करते हैं। यह सब जानने के बाद वह आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने भी घूमकर मुसलमानों की हलाल प्रथाओं का अवलोकन किया और पाया कि उनके खाने के तरीके दूसरों के मुकाबले सबसे स्वस्थ है।"

बाद में वीडियो में दावा किया गया है कि जिनपिंग ने निवासियों से पूछा कि वे मांस को कैसे काटते हैं और खाते हैं। इसके बाद यह कहा गया कि जिनपिंग ने अगले दिन इस क्षेत्र का दौरा किया और मुस्लिमों के शाकाहारी भोजन करने के तरीके को देखा।

बाद के आधे हिस्से में, जिनपिंग को मुस्लिमों के साथ बातचीत करते हुए दिखाया गया है, जहां दावा किया गया है कि वह उनके हलाल खाने की आदतों की प्रशंसा कर रहे थे।

वीडियो के अर्काइव लिंक के लिए यहां देखें

यह भी पढ़ें: फ़र्ज़ी संदेशों का दावा - शाहीन बाग़ प्रदर्शनकारी कोरोनावायरस की चपेट में है


एडिटेड फुटेज नीचे देखा जा सकता है।

बूम को कई पाठकों ने हेल्पलाइन नंबर पर यह भेजा है और सच सामने लाने का अनुरोध किया है।


फ़ैक्टचेक

बूम ने वीडियो के दाएं कोने पर जदिदटीवीबंगला का लोगो देखा। 20 फ़रवरी, 2020 को चैनल द्वारा उसी वीडियो को यूट्यूब पर अपलोड किया गया था।

वीडियो के साथ बंगाली में हेडलाइन दिया गया है, जिसका हिंदी अनुवाद है, "अब चीन इस्लाम का पालन करेगा, इंशाल्लाह। देखिए चीन के राष्ट्रपति मुस्लिम देशों में किस तरह के सुझाव लेने जा रहे हैं।"

( बंगाली में मूल टेक्स्ट: "এবার চীনে ইসলাম ধর্ম কায়েম হবে ইনশাআল্লাহ। দেখুন চীনের প্রেসিডেন্ট মোসলমানদের বাড়ি বাড়ি গিয়ে পরামর্শ নিচে'')

बूम ने पाया कि वायरल वीडियो जिनपिंग की निंग्ज़िया प्रांत की यात्रा के फुटेज को मिला कर बनाया गया है। जुलाई, 2016 में चीन के राष्ट्रपति ने स्वशासी उत्तरीपश्चिम क्षेत्र निंग्ज़िया हुई का दौरा किया और धार्मिक सद्भाव और पर्यावरण की रक्षा करके गरीबी उन्मूलन के प्रयासों पर जोर दिया।

यह भी पढ़ें: क्या शराब पीने से कोरोनोवायरस से बचा जा सकता है?

प्रासंगिक कीवर्ड खोजों पर, हमने पाया कि फुटेज का पहला भाग (0:12 से 0:26 तक) 21 जुलाई, 2016 को चीन के ग्लोबल टेलीविज़न नेटवर्क या सीजीटीएन द्वारा यूट्यूब पर अपलोड किए गए एक वीडियो से था। वीडियो में चीन के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में जिनपिंग की यात्रा के बारे में बताया गया है। वीडियो के विवरण में बताया गया है कि, "राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने निंग्ज़िया दौरे पर समावेशी विकास का आग्रह किया है।"

फुटेज का दूसरा हिस्सा (0:16 से 0:50 तक) जहां राष्ट्रपति को मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करते हुए देखा जा सकता है, 21 जुलाई 2016 को यूट्यूब पर अपलोड किया गया था। राष्ट्रपति निंग्ज़िया हुई क्षेत्र में यिनचुआन शहर में झिनक्सेंग मस्जिद का दौरा कर रहे थे।

फुटेज का तीसरा हिस्सा (1:27 बाद), जहां राष्ट्रपति मुस्लिम समुदाय के किसानों और सब्जी उत्पादकों के साथ बातचीत करते हैं, 20 जुलाई 2016 को यूट्यूब पर अपलोड किया गया था।

सीसीटीवी अंग्रेजी द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में इन घटनाओं की पुष्टि की गई है।

बूम ने पहले भी उन दावों का फ़ैक्टचेक किया है जब यह कहा गया था कि कोरोनावायरस से बचने के लिए उन्होंने मस्जिदों का दौरा किया है।

कोरोनावायरस के आसपास फ़र्ज़ी ख़बरें

सोशल मीडिया पर कई वीडिओज़ वायरल हो रहे हैं जिसमें दावा है की एक विशेष तरह की श्रद्धा रखने वाले लोग इससे प्रभावित नहीं हो रहे हैं| कई वायरल फ़र्ज़ी क्लिप्स यह भी दर्शाती हैं की जब लोगों को यह पता चला की मुसलमान इससे प्रभावित नहीं है तो चीनी और एशियाई लोग इस्लाम अपनाने लगे हैं|

इसी तरह के फ़र्ज़ी दावे दुनियाभर में फ़ैक्ट चेकरों ने ख़ारिज किये हैं|




Updated On: 2020-04-02T17:16:32+05:30
Claim Review :  वीडियो दर्शाता है की शी जिनपिंग ने मुस्लिम घरों में जाकर कोरोनावायरस से मुकाबला करने के तरीके सीखे
Claimed By :  Facebook and YouTube
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story