आमिर खान के नाम से फिर वायरल हुआ एक फ़र्ज़ी बयान

बूम ने पता लगाया की सोशल मीडिया पर ये फ़र्ज़ी दावा पिछले छः साल से शेयर किया जा रहा है | अपनी छानबीन के दौरान हमें खान द्वारा दिया गया ऐसा कोई बयान कहीं नहीं मिला

सोशल मीडिया पर फिर एक बार बॉलीवुड एक्टर आमिर खान के नाम से एक फ़र्ज़ी बयान वायरल हो रहा है | वायरल पोस्ट में आमिर खान की एक तस्वीर के साथ ये बयान शेयर किया गया है: सत्यमेव जयते में मैंने हिन्दू धर्म की दहेज़, जातिवादी आदि प्रथाएं उजागर की | लेकिन इस्लाम धर्म की चार बीवियां, 10-12 बच्चे पैदा करना मदरसे में बच्चो को आतंकवादी बनाना जैसी प्रथाए उजागर करके में मुसलमानो को नाराज़ करना नहीं चाहता |

आपको बता दे की सत्यमेव जयते आमिर खान और किरण राव द्वारा निर्मित एक टीवी टॉक शो है जिसके ज़रिये वर्ष 2012 में खान ने पहली बार टेलीविज़न जगत में कदम रखा था | बूम ने काफी मीडिया रिपोर्ट्स खंगाले और सत्यमेव जयते के लगभग सभी एपिसोड्स भी देख डाले मगर आमिर का ये बयान हमें कहीं नहीं मिला |

यह भी पढ़ें: इंदौर में रोड पर मिले करन्सी नोट्स का वीडियो साम्प्रदायिक कोण के साथ वायरल

अगर इस पोस्ट की माने तो आमिर खान के इस प्रसिद्ध टॉक शो में सिर्फ़ हिन्दू धर्म से जुड़े मुद्दों को उठाया गया है जबकि इस्लाम से जुडी ख़ामियों पर पर्दा डाला गया है |

इस पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहाँ देखें|



फ़ैक्ट चेक

हमने इस पोस्ट को रिवर्स इमेज सर्च किया तो पता चला की यह पोस्ट छः साल पहले ट्विटर पर @Delhimuse नामक यूज़र द्वारा अप्रैल 2, 2014 को ट्वीट किया गया था जिसमें लिखे कैप्शन का हिंदी अनुवाद इस प्रकार है: "मुसलमान हिन्दुओ के खिलाफ़ एक जंग के पथ पर है | धीमी और स्थिर गति से मासूम युवाओं को बिगाड़ने का कार्य सारे मंचो पर किया जा रहा है |"

यह भी पढ़ें: अफ़वाहों के चलते पालघर में भीड़ ने की तीन लोगों की हत्या

(अंग्रेजी में लिखित कैप्शन : " Muslims on a warpath against Hindus...slow & steady poisoning of young innocent minds going on at all platforms...")

इस ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न यहाँ देखिये |

हमें यह भी मालूम चला की इसी ट्वीट की तस्वीर को अप्रैल 10, 2014 को फ़ेसबुक पर भी शेयर किया गया था |

हालांकि इस साल ऐसी कई अन्य पोस्ट्स भी शेयर की गयी हैं | इन्हे यहाँ और यहाँ देखें |

इस वायरल पोस्ट की पुष्टि करने के दौरान हमारे समक्ष कोई भी ऐसी विश्वसनीय न्यूज़ रिपोर्ट नहीं आयी जिससे यह सिद्ध हो की आमिर खान ने इस तरह का या इस से मिलता-जुलता कोई भी बयान दिया है |

बावजूद इसके हमने 'सत्यमेव जयते' शो के लगभग सारे एपिसोड्स की जांच की जिसमें हमने मार्च 30, 2014 को प्रसारित शो के सीजन 2 के आखिरी एपिसोड को काफ़ी ध्यानपूर्वक देखा | बूम ने पाया की आमिर खान ने शो के दौरान भी इस तरह की कोई टिप्पणी नहीं की है | हमने कीवर्ड सर्च से यह भी देखा की ट्विटर पर भी आमिर खान द्वारा इस प्रकार का कोई ट्वीट नहीं किया गया है |

बूम ने मीडिया रिपोर्ट्स के ज़रिये यह भी पाया की सोशल मीडिया पर आमिर खान को लेकर पहले भी इस तरह की फ़र्ज़ी खबरें वायरल हो चुकी हैं |

यह भी पढ़ें: क्या आमिर, सलमान और शाहरुख खान ने झारखंड मॉब लिंचिंग पीड़ित की विधवा से मुलाकात की?


Claim Review :   वायरल तस्वीर का दावा है की फ़िलम अभिनेता आमिर खान ने जानबूझ कर सत्यमेव जयते शो में धर्म के आधार पर मुद्दों को दिखाया
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story