योगी आदित्यनाथ द्वारा शाहरुख खान की आलोचना का पुराना वीडियो फ़र्ज़ी दावों के साथ फिर वायरल

बूम ने पता लगाया कि ये वीडियो नवंबर 2015 का है, जब योगी आदित्यनाथ ने असहिष्णुता के ख़िलाफ बोलने के लिए शाहरुख खान पर निशाना साधा था।

करीब साढ़े चार साल पुराना एक वीडियो जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान की देश में बढ़ती असहिष्णुता पर बोलने के कारण आलोचना कर रहे थे, फ़र्ज़ी दावों के साथ अब वायरल हो रहा है |

21 सेकंड का वीडियो, जिसमें आदित्यनाथ कहते हैं, "शाहरुख खान को याद रखना चाहिए कि अगर देश में लोगों का एक बड़ा जनसमूह उनकी फिल्मों का बहिष्कार करेगा, तो उसे भी एक सामान्य मुस्लिम की तरह सड़कों पर भटकना होगा," इस सप्ताह फिर वायरल हुआ है।

यह क्लिप इस झूठे दावे के साथ वायरल हो रहा है कि आदित्यनाथ ने यह टिप्पणी शाहरुख खान द्वारा पाकिस्तान में किए गए एक बड़े दान कि वजह से कि है। पहले भी दो बार बूम ने इस वीडियो से जुड़े फ़र्ज़ी दावें ख़ारिज किये हैं |।

यह भी पढ़ें: मुम्ब्रा में पुलिस लाठी चार्ज के वीडियो को इंदौर का बता कर किया गया वायरल

वीडियो के कैप्शन लिखा है, "शाहरुख खान ने पाकिस्तान को 40 करोड़ रुपये दिए और भारत को कुछ नहीं दिया"

@goravkumar137

योगी जी का गुस्सा साहरूक खान पे##foryoupage ##foryou ##yogiji ##srk ##HandWashChallenge ##stayhome ##gharbaithoindia ##viral

♬ original sound - Gorav Kumar

बूम ने पता लगाया कि हाल ही में शेयर किया गया यह क्लिप 2015 का है।


ट्विटर पर वायरल

फ़ैक्ट-चेक

यूट्यूब पर 'शाहरुख खान', 'योगी', कीवर्ड के साथ खोजने पर हमे दो मिनट लंबा ये वीडियो मिला । वीडियो हाल फ़िलहाल का नहीं बल्कि 2015 का है ।

यह भी पढ़ें: कोविड-19: भारत सरकार ने वित्तीय वर्ष 1 जुलाई तक नहीं बढ़ाया

यह 21 सेकंड की क्लिप एक लम्बी क्लिप से काटी गयी है जो एएनआई ने 2015 में अपलोड की थी जब आदित्यनाथ द्वारा खान की पाकिस्तानी आतंकवादी हाफ़िज़ सईद के साथ तुलना की गयी थी।

हमें न्यूज़ रिपोर्ट्स मिली जहाँ आदित्यनाथ खान पर भड़के थे जब खान ने "असहिष्णुता के वातावरण" के विरोध में नवंबर 2015 में आवाज़ उठाई थी |

खान ने तब तब बी.बी.सी न्यूज़ से कहा था, "वहां असहिष्णुता है, वहां बहुत असहिष्णुता है... और मेरे हिसाब से असहिष्णुता बढ़ रही है|" बीबीसी न्यूज़ के अनुसार उन्होंने उन लोगों की सराहना की जिन्होंने इस विरोध में अपने पुरूस्कार सरकार को वापस किये थे |

आंदोलन में कई लेखकों, वैज्ञानिकों, इतिहासकारों और फिल्म निर्माताओं ने अपने पुरस्कार लौटा दिए थे। तार्किक (रेशनलिस्ट) लेखक और एक्टिविस्ट एमएम कलबुर्गी और गोविंद पानसरे की हत्या, साथ ही एक व्यक्ति की गोमांस खाने के संदेह के आधार पर हत्या कर देने जैसे कई मामलो की वजह से इस आंदोलन की शुरुआत हुई थी ।


इसके अलावा बूम ने फ़रवरी 2019 में झूठे दावे को ख़ारिज किया था कि खान ने 2017 में पाकिस्तान में एक टैंकर विस्फोट से प्रभावित परिवारों को 45 करोड़ रुपये का दान दिया था |

फ़रवरी 2019 में इसी झूठे दावे को पुलवामा आतंक की आड़ में शेयर किया जा रहा था, और अब फिर शेयर किया जा रहा है क्योंकि कोरोनावायरस प्रकोप से निपटने के लिए कई भारतीय हस्तियां, राज्य और केंद्र सरकार को दान कर रही हैं।

2 अप्रैल, 2020 को शाहरुख खान ने घोषणा की कि वह अपनी चार कंपनियों के माध्यम से कोरोनावायरस से निपटने के लिए पी एम केयर्स फण्ड , महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत फ़ंड में दान करेंगे और साथ ही महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल राज्य सरकारों को 50,000 पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (PPE) दान करेंगे ।

बूम कोरोनावायरस पर लाइव ब्लॉग रियल टाइम में अपडेट कर रहा है, यहाँ फॉलो करें |

Updated On: 2020-04-04T20:35:41+05:30
Claim Review :  वीडियो दर्शाता है की योगी आदित्यनाथ, शाहरुख खान द्वारा पाकिस्तान को डोनेशन देने के लिए आलोचना कर रहे हैं
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story