झूठे दावे: वायरल पोस्ट का दावा 96% बलात्कार अपराधी मुसलमान हैं

भारत का आधिकारिक अपराध डेटा पीड़ित या बलात्कारी, दोनों के धर्म पर डेटा एकत्र नहीं करता है।

एक वायरल पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि भारत में 96% बलात्कारी मुस्लिम समुदाय से हैं। यह.दावा झूठा है और आधिकारिक डेटा द्वारा समर्थित नहीं है।

एक काल्पनिक आंकड़े को संदर्भित करने वाले एक पोस्ट में दावा किया गया है कि 2016 - 2018 के बीच, भारत में 84,374 बलात्कार हुए, जिनमें से 81,000 मुस्लिम अपराधी थे।

गृह मंत्रालय के तहत भारत के राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने 2018 के लिए अपराध के आंकड़े जारी नहीं किए हैं, जिससे इन नंबरों पर सवाल उठ खड़ा हुआ है। इसके अलावा, एनसीआरबी पीड़ित या आरोपी के धर्म के आधार पर बलात्कार के आंकड़ों को एकत्र या प्रदान नहीं करता है।

यह भी पढ़ें: विरोध प्रदर्शनों से असम के सीएम भाग रहे हैं? फ़ैक्ट चेक

भ्रामक फ़ेसबुक पोस्ट, 27 नवंबर को हैदराबाद में हुई 26 साल की वेटनरी डॉक्टर से सामूहिक बलात्कार की घटना, निर्भया गैंगरेप के अपराधियों की संभावित फांसी और इस सप्ताह संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने के बाद से बढ़ते मुस्लिम विरोधी बयानबाजी का संगम है। सरकार को भी लोकसभा में, महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध से जुड़े सवालों का सामना करना पड़ रहा है।

फ़ेसबुक यूज़र 'वैदिक साइंस' के पोस्ट ने एक प्रोफेसर हरि ओम (@DostKhan_Jammu) के एक ट्वीट का हवाला दिया, जिसका स्क्रीनशॉट नीचे देखा जा सकता है।


इस पोस्ट का अर्काइव वर्शन यहां देखा जा सकता है।

हरिओम के ट्विटर प्रोफाइल को ट्रेस करने पर, हमने इन आंकड़ों का दावा करते हुए दो ट्वीट पाए। उनके ट्वीट में पोस्टकार्ड न्यूज़ को स्रोत के रूप में बताया गया है। इसमें हैदराबाद गैंगरेप मामले पर स्वराज्यम द्वारा किए गए कवरेज को भी शामिल किया गया है। हालांकि, स्वराज्यम की कवरेज में इन नंबरों का जिक्र नहीं है।

यह भी पढ़ें:



आगे देखने पर, बूम ने पाया कि ऐसी संख्या का दावा 2018 में भी किया गया था।


इस ट्वीट का अर्काइव वर्शन यहां पाया जा सकता है।

फ़ैक्ट चेक

2018 के लिए एनसीआरबी का डेटा जारी नहीं किया गया है। 2017 के लिए डेटा इस साल अक्टूबर में जारी किया गया था, यानी एक साल की देरी के बाद जारी किया गया है। उद्धृत किए जा रहे डेटा एनसीआरबी के 'क्राइम इन इंडिया' रिपोर्ट से हैं, जो आमतौर पर सालाना जारी किया जाता है और इसमें भारत में व्यापक अपराध आंकड़ों का एक पूरा सेट होता है।

यह भी पढ़ें: जामिया छात्र विरोध के दौरान घायल छात्र ज़िंदा है

एनसीआरबी की 2016 और 2017 की रिपोर्ट में, भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत दर्ज किए गए मामलों की गिनती करते हुए बलात्कार की कुल 71,506 घटनाएं और 72,726 बलात्कार पीड़िताओं का उल्लेख किया गया है। साल-वार ब्रेकडाउन नीचे पाया जा सकता है।

इसके अलावा, आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि, बलात्कार या बलात्कार पीड़ितों के धर्म पर कोई साक्ष्य मौजूद नहीं हैं। एनसीआरबी, ऐसे डेटा एकत्र नहीं करता है, जैसा कि इसके डेटा सेट में देखा जा सकता है। एनसीआरबी बलात्कार के अपराधियों पर निम्नलिखित डेटा प्रदान करता है:

I. पीड़ित का अपराधी के साथ संबंध, और यह दर्शाता है कि 93% मामलों में अपराधी, पीड़ित के पहचान का था।

II. भारतीय दंड संहिता की धारा 376 की विभिन्न उप-धाराओं के तहत दर्ज़ बलात्कार के मामले।

यहां 'क्राइम इन इंडिया' के डेटासेट के कुछ स्क्रीनशॉट्स दिए गए हैं, जो इसके हेडर दिखाते हैं। नीचे दी गई तस्वीर मामलों और बलात्कार के पीड़ितों को संबंध से दर्शाती है। नीचे दी गई तस्वीर मामलों और बलात्कार के पीड़ितों के संबंध को दर्शाती है।


यह तस्वीर बलात्कार के दर्ज़ मामलों को दिखाती है।


कोई भी डेटा बिंदु इस बात की ओर नहीं इशारा करता है कि बलात्कार की शिकार महिलाएं मुख्य रूप से हिंदू थीं या अपराधी मुसलमान थे। एनसीआरबी की 2017 की रिपोर्ट यहां मिल सकती है और इसकी 2016 की रिपोर्ट यहां मिल सकती है।

बूम ने 2018 में भी इसी तरह के दावों को ख़ारिज किया था।

Updated On: 2019-12-17T17:48:40+05:30
Claim Review :   भारत में 96% बलात्कार मुसलमानों द्वारा किए जाते हैं
Claimed By :  Facebook Page 'Vedic Science'
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story