कैसा था बीता सप्ताह फ़ेक न्यूज़ के लिहाज़ से

बूम की साप्ताहिक पेशकश 'हफ़्ते की पांच बड़ी फ़र्ज़ी ख़बरें' में पढ़िए बीते सप्ताह फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल हुईं तस्वीरों और वीडियो का फ़ैक्ट चेक, सिर्फ़ एक क्लिक में.

सोशल मीडिया पर बीते हफ़्ते कई पुरानी तस्वीरें और वीडियो फ़र्ज़ी दावों (fake news) के साथ असंबंधित घटनाओं से जोड़कर वायरल हुए. इंटरनेट यूज़र्स ने इन फ़र्ज़ी और भ्रामक दावे वाले वायरल पोस्ट्स (viral) पर विश्वास करते हुए सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफ़ॉर्म पर बड़ी संख्या में शेयर किया. बूम ने जब इन वायरल तस्वीरों और वीडियो की जांच की तो ये दावे फ़र्ज़ी निकले.

बूम की साप्ताहिक रिपोर्ट 'हफ़्ते की पांच बड़ी फ़र्ज़ी ख़बरें' में इस हफ़्ते जो फ़र्ज़ी ख़बरें शामिल हैं उनमें आरजेडी (RJD) नेता तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) की फ़र्ज़ी दावे से शेयर की गई एक तस्वीर, केंद्रीय अधिकारियों के प्रमोशन से जोड़कर आजतक (Aaj Tak) चैनल की एक न्यूज़ क्लिप, केरला में जबरन गणेश मूर्ति हटाने के दावे से वायरल वीडियो, दिवंगत अभिनेता सुशांत राजपूत (Sushant Singh Rajput) की हत्या से जोड़कर आदित्य ठाकरे के नाम से वायरल एक वीडियो और योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) द्वारा यूपी दसवीं टॉपर को बाउंस चेक दिए जाने के दावे से वायरल ख़बर का स्क्रीनशॉट, शामिल हैं.

1. तेजप्रताप यादव को तक्षशिला युनिवर्सिटी से डॉक्टरेट डिग्री मिलने के दावे से वायरल तस्वीर


बूम ने अपनी जांच में पाया कि वायरल तस्वीर के साथ किया गया दावा फ़र्ज़ी है. असल तस्वीर साल 2017 से है जब तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव बतौर चीफ़ गेस्ट पटना के इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (IGIMS) के दीक्षांत समारोह में शामिल हुए थे.

तेज प्रताप यादव को तक्षशिला यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट मिलने का दावा फ़र्ज़ी है

2. केंद्रीय अधिकारियों के प्रमोशन से जुड़ी आज तक चैनल की न्यूज़ क्लिप वायरल


बूम ने पाया कि वायरल आज तक चैनल की वीडियो क्लिप में केंद्रीय अधिकारियों के प्रमोशन पर जो ख़बर है, वो सही मगर पुरानी है. हालिया दावा भ्रामक है. साल 2016 में केंद्र सरकार के डीओपीटी विभाग ने अधिकारियों के प्रमोशन के लिए परफॉर्मेंस रिव्यु को आधार बनाने की घोषणा की थी. यदि कोई अधिकारी फ़ेल होता है तो उन्हें सरकार कंपलसरी रिटायरमेंट दे देगी.

केन्द्रीय नौकरशाहों के प्रमोशन से जुड़ी Aaj Tak की पुरानी क्लिप वायरल

3. केरला में जबरन गणेश मूर्ति हटाने के दावे से वायरल वीडियो का सच


बूम ने पाया कि वीडियो हैदराबाद के तेलंगाना का है. स्थानीय पुलिस ने बूम को बताया कि हैदराबाद के Old City के रक्षापुरम की एक विवादित ज़मीन पर बैठकर पूजा कर रहे लोगों को हटाया गया था. पुलिस ने मामले पर किसी तरह का सांप्रदायिक एंगल होने से इंकार किया है.

क्या वायरल वीडियो में केरला पुलिस ने जबरन गणेश मूर्ति हटाई है? फ़ैक्ट चेक

4. आदित्य ठाकरे बताकर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को मारने की बात कबूलने के दावे से वीडियो वायरल


बूम ने अपनी जांच में पाया कि वायरल वीडियो में ख़ुद को आदित्य ठाकरे बताने वाला और सुशांत सिंह राजपूत की हत्या संबंधी बातें कहने वाले युवक फ़रीदाबाद का एक यूट्यूबर साहिल चौधरी है. मुंबई पुलिस ने साहिल चौधरी को सितंबर 2020 में गिरफ़्तार किया था.

आदित्य ठाकरे के नाम से वायरल इस वीडियो का सच क्या है

5. योगी आदित्यनाथ द्वारा यूपी दसवीं टॉपर को बाउंस चेक दिए जाने के दावे से वायरल ख़बर का स्क्रीनशॉट


बूम ने अपनी जांच में पाया कि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा मेधावी छात्र को दिए गए बाउंस चेक की ख़बर का स्क्रीनशॉट दो अलग-अलग घटनाओं से है. साल 2018 के मामले में डीआईओएस के हवाले से चेक बाउंस होने का कारण हस्ताक्षर का मिलान न होना बताया गया है. वहीँ 2019 के दूसरे मामले में चेक बाउंस होने का कारण उस पर DIOS के हस्ताक्षर का ना होना था.

UP Board 10वीं टॉपर को दिए गए चेक के बाउंस होने की पुरानी ख़बर हालिया बताकर वायरल

Show Full Article
Next Story