Muzaffarnagar किसान महापंचायत से जोड़कर आंदोलन की पुरानी तस्वीर वायरल

बूम ने अपनी जाँच में पाया कि वायरल तस्वीर फ़रवरी 2021 में उत्तर प्रदेश के शामली में हुई किसान महापंचायत की है.

सोशल मीडिया पर मुज़फ़्फ़रनगर किसान महापंचायत से जोड़कर एक पुरानी तस्वीर शेयर की जा रही है. तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि ये 5 अगस्त को हुए किसान महापंचायत में उमड़ी भीड़ को दिखाती है.

5 अगस्त को उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर विशाल किसान महापंचायत का आयोजन किया गया था. राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, जोगिंदर सिंह उग्राहाँ, योगेन्द्र यादव, जसबीर कौर समेत तमाम संगठनों के किसान नेता महापंचायत में पहुँचे थे. इस महापंचायत में पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत हरियाणा और पंजाब के कई इलाक़ों से भी किसान शामिल हुए थे.

क्या PM मोदी ने गोडसे की मूर्ति पर माल्यार्पण किया है? फ़ैक्ट चेक

मुज़फ़्फ़रनगर किसान महापंचायत के कई वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही हैं. किसानों की भीड़ दिखाती एक ऐसी ही तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि वो 5 अगस्त की किसान महापंचायत की तस्वीर है.

फ़ेसबुक पर एक यूज़र ने इसे शेयर करते हुए कैप्शन दिया 'उत्तर प्रदेश के मुज़फ़फ़रनगर में आयोजित किसान महापंचायत, किसान न झुकेगा न रुकेगा. किसान जीतेगा अहंकार हारेगा'.

पिछले हफ़्ते वायरल रहीं पांच बड़ी फ़र्ज़ी ख़बरें


(पोस्ट यहाँ देखें)

एक और यूज़र ने इसे शेयर करते हुए हैशटैग के साथ कैप्शन लगाया है 'मुज़फ़्फ़रनगर किसान महापंचायत का सैलाब देखो'

कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने भी इसी तस्वीर को ट्वीट करते हुए लिखा 'डटा है निडर है इधर है भारत भाग्य विधाता! #FarmersProtest'. हालाँकि गाँधी ने अपने कैप्शन में मुज़फ्फरनगर का ज़िक्र नहीं किया है.


वायरल तस्वीर Muzaffarnagar Kisan Mahapanchayat से नहीं है

वायरल तस्वीर को ध्यान से देखने पर हमने पाया कि आन्दोलन कर रहे लोगों ने ठंढ के कपड़े मसलन स्वेटर और जैकेट पहने हुए हैं. इससे ये अनुमान लगा कि ये तस्वीर हाल की नहीं बल्कि कुछ समय पुरानी है. हमने तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया तो पाया कि ये वायरल फ़ोटो फ़रवरी 2021 में उत्तर प्रदेश के शामली में आयोजित की गई किसान महापंचायत की है.

ज़ी हिंदुस्तान ने पंजशीर में तालिबान से लड़ती बच्ची के रूप में पुराना वीडियो चलाया

The tribune की 5 February 2021 की एक रिपोर्ट में बिल्कुल इसी तस्वीर के हवाले से लिखा है कि ये शामली की किसान पंचायत की तस्वीर है. रिपोर्ट के मुताबिक़ धारा 144 लगी होने के बावजूद भी दूर दराज के गाँवों के किसान शामली ज़िले के भैंसवाल में तीन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आयोजित किसान महापंचायत में शामिल होने आ रहे हैं.


ABP news की 5 February 2021 की एक रिपोर्ट में भी शामली के भैंसवाल में आयोजित इस महापंचायत की हूबहू तस्वीरें हैं. रिपोर्ट में लिखा है 'भारतीय किसान यूनियन और राष्ट्रीय लोकदल समेत सभी आयोजकों ने महापंचायत हर हाल में करने की ठानी थी. इस महापंचायत में इतनी बड़ी संख्या में आए लोगों को देखकर जयंत चौधरी ने खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि क्या पंचायत थी! शानदार जज़्बा, जोश और एकता! धन्यवाद भैंसवाल गांव.'

बिजली चोरी पकड़ी जाने पर जान से मारने की धमकी देते शख़्स का वीडियो भारत से नहीं है



Updated On: 2021-09-07T17:56:24+05:30
Claim Review :   Kisan Mahapanchayat Muzaffarnagar, UP, Farmers will not bow down, nor will they stop, Farmer will win, Ego will lose...
Claimed By :  social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story