वायरल वीडियो में दिख रहा ये 'धाकड़ पत्रकार' आखिर कौन है?

जब एक पत्रकार ने दूल्हे को सिखाया सबक...इस दावे के साथ व्हाट्सप्प पर एक वीडियो काफ़ी वायरल है. पढ़ें इस वीडियो का सच बूम के इस रिपोर्ट में.

"जब एक पत्रकार ने दूल्हे को सिखाया सबक..." इस दावे के साथ सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है. वीडियो में एक पत्रकार शादी के लिए सजधज के जा रहे एक दूल्हे से पूछता है कि कोरोना (Corona) के लिए सरकार द्वारा जारी किये गए गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं कि नहीं. दूल्हे राजा कहते हैं, बिलकुल करेंगे, सब कोई करेगा. हालांकि थोड़ी देर बाद दूल्हा पत्रकार से कहता है कि 'कोरोना वायरस (Coronavirus) कुछ है नहीं, कहाँ है कोरोना, कही नहीं है कोरोना'.

इस बात को सुनते ही पत्रकार महोदय भड़क जाते हैं और दूल्हे की भयंकर पिटाई कर देते हैं.

फ़ेसबुक पर शेयर किया जा रहा वीडियो यहीं ख़त्म हो जाता है. साथ में किये गए दावे से मालुम होता है कि घटना सच्ची है. मगर बूम ने इस वीडियो को बनाने वाले शख्स हर्ष राजपूत से बात करके इसका पूरा सच पता किया.

लाल कृष्ण आडवाणी के नाम से ट्रोल हैंडल का ट्वीट हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर फ़िलहाल ये वीडियो अलग अलग दावों के साथ वायरल है जैसे कि 'जब एक पत्रकार ने दूल्हे को सिखाया सबक Source वायरल वीडियो', 'अपनी शादी के लिए जाता हुआ एक दूल्हे की पत्रकार नें रोकी गांड़ी और की कुछ गुफ़्तगू बातें' इत्यादि.

ऐसा ही वायरल पोस्ट नीचे देखें.

नोट: वीडियो में अभद्र भाषा का प्रयोग है



लाश को टटोलते कुत्ते का यह वीडियो वर्तमान की स्थिति नहीं दिखाता

फ़ैक्ट चेक

बूम ने पाया कि वायरल वीडियो में Harsh Rajput नाम का यूट्यूब लोगो दिखाई दे रहा है. हमने राजपूत के यूट्यूब पेज को खंगाला तो इसी वीडियो का एक लम्बा वर्ज़न अप्रैल 25 को अपलोड किया हुआ मिला. वीडियो के साथ अंग्रेज़ी में लिखा टाइटल कहता है 'Corona me Shaadi with Dhakad Reporter | Harsh Rajput'.

राजपूत के पेज पर हमें ऐसे कई वीडियो मिलें जिसमे कोरोना वायरस से सम्बंधित मुद्दों पर हंसी मज़ाक के ज़रिये जागरूकता पैदा करने की कोशिश की गयी है. हालांकि इनमे से कई वीडियो में अभद्र भाषा का प्रयोग है. हर्ष राजपूत अपने वीडियोस में साफ़ साफ़ बताते हैं कि ये नाट्य रूपांतरण है और सभी 'paid actors' हैं.

बूम ने इसके बाद हर्ष राजपूत से संपर्क किया और पता लगाया कि इन वीडियोस को बनाने के पीछे उनका क्या उद्देश्य है.

उड़ीसा में लाश को बोरी में भरकर ले जाने की यह घटना 5 साल पुरानी है

हमसे हुई बातचीत में राजपूत ने कहा, "अधिकतर लोग जानते हैं कि मैं एक YouTuber हूँ और ये एक कॉमेडी एक्ट है ना कि कोई सच्ची घटना." उन्होंने बूम को बताया कि उनके वीडियोस में डिस्क्लेमर होतें हैं जिससे साफ़ हो जाता है कि वीडियोस कॉमेडी के एक्ट्स हैं.

ये पूछने पर कि धाकड़ पत्रकार जैसे चरित्र को लिखने के पीछे उनका क्या उद्देश्य था, हर्ष ने कहा, "आईडिया था एक ऐसे रिपोर्टिंग करैक्टर को बनाने का जो हंसी मज़ाक और कटाक्ष के साथ आस पास घट रही घटनाओं पर बात कर सके. हमारा मकसद सिर्फ़ जागरूकता फैलाना है."

क्या नेब्युलाइज़र, ऑक्सीजन सिलिंडर का विकल्प हो सकता है?

Claim Review :   दूल्हे ने कहा नही है कोरोना बताओ कहाँ है कोरोना उसके बाद जो उसके साथ हुआ आप खुद देंखे
Claimed By :  Social media handles
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story