लाल कृष्ण आडवाणी के नाम से ट्रोल हैंडल का ट्वीट हुआ वायरल

बूम ने पाया कि हैंडल फ़र्ज़ी है जिसमें कई ऐसे ट्वीट्स हैं जो लाल कृष्ण आडवाणी का मज़ाक बना रहे हैं.

भारत के पूर्व गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के जाने माने नेता लाल कृष्ण आडवाणी के नाम पर बने फ़र्ज़ी ट्विटर हैंडल का एक ट्वीट शेयर हो रहा है.

इस ट्वीट में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा विरोधी बातें लिखी हैं. और तो और इस ट्वीटर हैंडल की टाइम लाइन भी इसी तरह के ट्वीट्स से भरी हुई है.

बूम ने पाया कि पूर्व गृहमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी के नाम पर बने इस ट्वीटर हैंडल को ट्विटर के सत्यापन नहीं मिला है. इसके अलावा आडवाणी का कोई वेरिफ़ाइड ट्विटर हैंडल हमें नहीं मिला.

वायरल हो रहे ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट में लिखा है: "मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती मेरा आरएसएस जैसे निर्दयी संघ को अहमियत देना, मैनें आरएसएस की हमेशा सेवा की, मैं राजनिति में उन लोगों को आगे लेकर आया जो संघ से जुड़े चेहरे थे, मैनें देश की भलाई के बारे में सोचा हमेशा लेकिन मुझे नहीं पता था की मेरी एक भूल देश को नरक में धकेल देगी।"

अमित शाह और नरेंद्र मोदी की पुरानी एडिटेड तस्वीर फिर वायरल

इसके साथ एक अन्य ट्वीट में लिखा है: "मैनें मोदी-शाह का यह सोचकर विरोध नहीं किया, की ये मेरे हाथों में पले बढ़े मेरे बच्चे देश को विश्वगुरू बनायेगें, लेकिन आज देश की हालात इन दोनों की जोड़ी ने ऐसी कर दी है की जनता को श्वाँस तक नसीब नहीं हो रही है, मुझे ऐसा पता होता तो मैं इन व्यापारियों को कभी देश नहीं सौंपता!"

ऐसी कुछ पोस्ट्स नीचे देखें और इनके अर्काइव्ड वर्शन्स यहां और यहां देखें.






यह ट्विटर हैंडल यहां देखें और इसका अर्काइव्ड वर्शन यहां देखें.

उड़ीसा में लाश को बोरी में भरकर ले जाने की यह घटना 5 साल पुरानी है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने ट्विटर पर इस हैंडल को खोजा. यह फ़ैक्ट चेक के लिखे जाने तक इसके 1,147 फॉलोवर्स थे. दिसंबर 2020 में बनाए गए इस हैंडल को अब तक ट्विटर ने सत्यापित नहीं किया है. इससे मालूम होता है कि यह एक फ़र्ज़ी हैंडल है. इसके अलावा लाल कृष्णा आडवाणी अपना सरनेम 'Advani' लिखते हैं ना की 'Adwani'.


इसके अलावा हमनें इस हैंडल को खंगाला और पाया कि कई युज़र्स इसे फ़र्ज़ी बता रहे हैं.

इसके अलावा पूरी टाइमलाइन में नरेंद्र मोदी, अमित शाह और भाजपा के विरोध में कई ट्वीट्स हैं. और तो और कुछ ट्वीट्स ऐसे भी हैं जिसमें लाल कृष्ण आडवाणी का मखौल बनाया गया है. इससे पुष्टि होती है कि हैंडल एल.के आडवाणी का नहीं है.

ट्विटर पर पूर्व गृहमंत्री का कोई सत्यापित हैंडल नहीं है. हालांकि उनके नाम पर कई फ़र्ज़ी हैंडल चल रहे हैं.

Claim Review :   लाल कृष्ण आडवाणी ने ट्वीट कर आरएसएस को निर्दयी संस्था कहा.
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story