लाश को टटोलते कुत्ते का यह वीडियो वर्तमान की स्थिति नहीं दिखाता

बूम ने पाया कि हालांकि घटना सही है पर इसका कोविड-19 महामारी और वर्तमान की स्थिति से सम्बन्ध नहीं है.

स्ट्रेचर पर रखी एक लाश को टटोलते एक कुत्ते का वीडियो वर्तमान में कोरोनावायरस महामारी (coronavirus pandemic) और हेल्थकेयर सिस्टम (healthcare system) की बदहाल स्थिति से जोड़कर शेयर किया जा रहा है.

बूम ने पाया कि हालांकि घटना सही है पर इसका कोविड-19 महामारी और वर्तमान की स्थिति से सम्बन्ध नहीं है. मामला उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) के संभल ज़िले (Sambhal) का है जहां नवंबर 2020 में एक लड़की की कथित तौर पर सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गयी थी.

यह वीडियो वर्तमान में हॉस्पिटल बेड्स की किल्लत और चरमरा रही स्वास्थ प्रणाली को निशाना बनाते हुए शेयर की जा रही है.

नोट: वीडियो देखते वक़्त विवेक का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है.

एक यूज़र ने लिखा: "ये देखो ये तो हद होगयी अब लाशों को कुत्ते खाने लग हैं...!!!"

नीचे पोस्ट का स्क्रीनशॉट देखें और आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.


उड़ीसा में लाश को बोरी में भरकर ले जाने की यह घटना 5 साल पुरानी है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने सम्बंधित कीवर्ड्स के साथ खोज की और पाया कि घटना नवंबर 2020 की है और तब कई मीडिया संस्थानों ने इसपर रिपोर्ट भी प्रकाशित की थी.

एन.डी.टी.वी की एक वीडियो रिपोर्ट के मुताबिक़ यह मामला उत्तरप्रदेश के संभल ज़िले में स्थित गवर्नमेंट हॉस्पिटल का है. रिपोर्ट में बताया गया है कि लड़की को एक सड़क हादसे के बाद हॉस्पिटल लाया गया था. रिपोर्ट यह उल्लेख करती है कि मौत हॉस्पिटल पहुँचने के बाद हुई या पहले यह साफ़ नहीं है.


यही वीडियो पर एक रिपोर्ट टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने भी प्रकाशित की थी.

Claim Review :   Ye dekho ye to hadd hogai ab lashon ko kutte khane lag hain
Claimed By :  Social media
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story