मंदिर में टूटी मूर्तियां दिखाती इस वीडियो में कोई सांप्रदायिक कोण नहीं है

यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि दिल्ली में द्वारका के ककरौला गांव में दूसरे समुदाय के लोगों ने हनुमान मंदिर में घुसकर देवी-देवताओं की मूर्तियां तोड़ दीं.

सोशल मीडिया पर मंदिर (Temple) के अंदर देवी-देवताओं की टूटी मूर्तियों को दिखाती एक वीडियो फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल है. यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि दिल्ली (Delhi) में द्वारका (Dwarka) के ककरौला गांव (Kakrola) में नवरात्रि से ठीक एक दिन पहले दूसरे समुदाय के लोगों ने हनुमान मंदिर (Hanuman Mandir) में घुसकर देवी-देवताओं की मूर्तियां तोड़ दीं.

बूम ने डीसीपी द्वारका से बात की जिसमें उन्होंने मामले में किसी तरह के सांप्रदायिक एंगल होने से इंकार कर दिया. उन्होंने स्पष्ट किया कि आरोपी युवक हिन्दू समुदाय से ही है.

चाकू से गोदकर पत्नी की हत्या का वीडियो 'लव जिहाद' के दावे के साथ वायरल

बीजेपी दिल्ली के मीडिया हेड नवीन कुमार ने ट्विटर पर वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि "दिल्ली में द्वारका के पास #ककरोला गाँव मे जिहादियों द्वारा नवरात्रो से ठीक एक दिन पहले हनुमान मंदिर में देवी देवताओं की मुर्तिया तोड़ दी गयी। गंगा जमुनी तहजीब वाले अब कहाँ है जो भाई-चारा की बात करते हैं, या हिन्दू उनके लिए सिर्फ़ चारा है? @DelhiPolice आरोपियो को जल्द गिरफ्तार करे."

ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें.

फ़ेसबुक पर गगन जी नामक यूज़र ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, "नफ़रत की उन्मादी आंधी की चपेट में आया दिल्ली का एक और मन्दिर..द्वारका के ककरौला गाँव मे पवित्र नवरात्रि की रात को 3 मंदिरों की मूर्तियों को किया गया खंडित. क्षेत्र में तनाव और धार्मिक समुदाय बेहद आक्रोशित. दोज़ख बनती दिल्ली."

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

फ़ेसबुक पर वीडियो इसी दावे के साथ बड़े पैमाने पर वायरल है.


नहीं, यह तस्वीर पश्चिम बंगाल में हिन्दुओं के ख़िलाफ़ हिंसा नहीं दिखाती

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल वीडियो के साथ किये दावे की सत्यता जांचने के लिए मीडिया रिपोर्ट्स खंगाली, हमें मंदिर में मूर्ति तोड़ने की इस घटना से जुड़ी कई रिपोर्ट्स मिली.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक़, द्वारका के ककरौला गांव में नवरात्रि के पहले दिन एक मंदिर में हनुमान जी समेत कई देवी देवताओं की मूर्तियों को बुरी तरह तोड़ दिया गया. लोगों को जब इसकी जानकारी मिली तो तमाम हिन्दू संगठन अपना गुस्सा ज़ाहिर करते हुए द्वारका मोड़ पर एकत्रित हो गए. पुलिस ने सीसीटीवी फ़ुटेज की मदद से आरोपी की पहचान महेश उर्फ़ भूत के रूप में की.


द न्यू इंडियन एक्सप्रेस, द ट्रिब्यून और अमर उजाला की रिपोर्ट में भी मूर्ति तोड़ने की घटना को जगह दी गई है. मीडिया रिपोर्ट में, इस घटना में सांप्रदायिक कोण होने का कहीं ज़िक्र नहीं है.

आगे जांच के दौरान हमें डीसीपी द्वारका के आधिकरिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट मिला, जिसमें कहा गया है कि "हमारी त्वरित कार्रवाई में, उसी इलाके के निवासी, महेश उर्फ़ भूत (45 वर्ष) को गिरफ़्तार किया गया है. आरोपी युवक अपर्याप्त वर्षा के कारण भगवान से नाराज़ था. इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में कोई सांप्रदायिक कोण नहीं है."


बूम ने द्वारका के डीसीपी एंतो अल्फोन्स से संपर्क किया. उन्होंने बताया कि मंदिर में मूर्तियां तोड़ने का आरोपी 50 वर्षीय महेश उर्फ़ भूत है. वह घटनास्थल से क़रीब ही भरत विहार में रहता है. इस मामले में आरोपी युवक को गिरफ़्तार कर लिया गया है, वो हिन्दू समुदाय से ही है. उन्होंने घटना में सांप्रदायिक कोण होने की बात को सिरे से ख़ारिज कर दिया.

नहीं, यह वीडियो टीएमसी कार्यकर्ताओं को पोलिंग बूथ पर हमला करते नहीं दिखाता

Updated On: 2021-04-17T18:25:56+05:30
Claim Review :   दिल्ली के द्वारका के ककरौला गाँव में जिहादी तत्वों ने 3 मंदिरों की मूर्तियां तोड़ दीं
Claimed By :  Social Media Users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story