नेटिज़ेंस ने 'बूथ कैप्चरिंग' का पुराना वीडियो हाल का बताकर किया शेयर

बूम ने पाया कि वीडियो कम से कम दो साल पुराना है जो इंटरनेट पर 15 मई 2019 से मौजूद है.

करीब दो साल पुराना कथित तौर पर 'बूथ कैप्चरिंग' (Booth Capturing) दिखाता एक वीडियो फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल है. दावा है कि यह वर्तमान के पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) में फ़र्ज़ी वोट डलवाते हुए तृणमूल कांग्रेस (TMC) के कर्मी को दिखाता है.

बूम ने पाया कि वीडियो 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के वक़्त से इंटरनेट पर मौजूद है. इसका वर्तमान चुनाव से कोई सम्बन्ध नहीं है.

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव ख़त्म हो चुके हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक़ राज्य के कुछ इलाकों में हिंसा दर्ज की गयी है जिसके बाद सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और अन्य राजनैतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी (BJP) एक दूसरे पर आरोप और प्रत्यारोप कर रही हैं.

Also Read:बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी की कार का शीशा किसने तोड़ा? फ़ैक्ट चेक

इसी बीच एक पुराना वीडियो वायरल है. नेटिज़ेंस दावा कर रहे हैं कि यह वीडियो तृणमूल कांग्रेस की एक महिला कर्मी को फ़र्ज़ी वोट डलवाते हुए दिखाता है.

भारतीय जनता पार्टी की सदस्या केया घोष ने भी इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया. वीडियो एक मतदाता के मतदान करते वक़्त एक अन्य महिला को पोलिंग बूथ के अंदर जाते हुए दिखाता है. अन्य महिला, मतदाता का हाथ पकड़कर मतदान करवा रही है.

घोष ने लिखा: "WA पर प्राप्त. इस तरह TMC हेराफ़ेरी कर रही है. @ECISVEEP"

(इंग्लिश में: Got from WA. This is how TMC has been doing rigging. @ECISVEEP)

यह वीडियो अन्य ट्विटर यूज़र्स भी शेयर कर रहे हैं. नीचे कुछ पोस्ट्स देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.


Also Read:एवर गिवन जहाज को निकालते वक़्त 'धूम मचाले' हॉर्न नहीं बजाया गया था

फ़ैक्ट चेक

बूम ने 'बूथ कैप्चरिंग' कीवर्ड्स के साथ इंटरनेट पर खोज की. हमें NewsCentral 24*7 की एक रिपोर्ट मिली. यह रिपोर्ट 16 मई 2019 को प्रकाशित हुई थी जिसमें वायरल वीडियो का एक स्क्रीनशॉट शामिल है.


हालांकि इस घटना की जगह रिपोर्ट में भी नहीं बताई गयी थी पर कहा जा रहा है कि वीडियो बंगाल के किसी इलाके का है. "वीडियो का वास्तविक स्त्रोत और जगह की पुष्टि नहीं की जा सकी है. हालांकि कहा जा रहा है कि यह ग्रामीण बंगाल में किसी इलाके का है," रिपोर्ट के मुताबिक़.

मई 2019 में यही वीडियो कुछ सत्यापित ट्विटर हैंडल द्वारा भी पोस्ट किया गया था.

हिंदुस्तान टाइम्स के पोलिटिकल एडिटर विनोद शर्मा ने भी 15 मई 2019 को यही वीडियो ट्वीट किया था.


Claim Review :   इस तरह TMC हेराफ़ेरी कर रही है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story