आंध्र प्रदेश में नेताओं के बीच मारपीट का पुराना वीडियो फ़र्ज़ी दावे संग वायरल

वायरल पोस्ट्स में घटना को हाल का बताकर दावा किया जा रहा है कि वीडियो में दिख रहें नेता कांग्रेस पार्टी के हैं.

"आंध्रा के करीमनगर कांग्रेस कार्यालय में पहले ध्वजारोहण..फिर मुख्य अतिथि की छेड़छाड़ करने पर चप्पल वितरण..." इस दावे के साथ सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफ़ी वायरल है. वीडियो में कुछ लोग ध्वजारोहण कर रहे हैं. राष्ट्रीय गीत गाने के बाद अचानक एक महिला और पुरुष एक नेता जैसे दिखने वाले शख़्स को ताबड़तोड़ पीटने लगते हैं.

फ़ेसबुक में इस वीडियो को काफ़ी ज़्यादा शेयर किया गया है. एक यूज़र वीडियो के साथ दावा करते हैं 'आंध्रप्रदेश के करीमनगर कांग्रेस कार्यलय में पहले ध्वजारोहण...... फिर मुख्य अतिथि की छेड़छाड़ करने पर चप्पल छपाई'.


वीडियो यहां देखें.

एक अन्य यूज़र ने इसी वीडियो के साथ लिखा है 'आंध्रा के करीमनगर *कांग्रेस* कार्यालय में पहले ध्वजारोहण..फिर मुख्य अतिथि की छेड़छाड़ करने पर चप्पल वितरण'.


वीडियो यहां देखें.

Congress नेताओं के 'चोर मीटिंग ग्रुप' वाले पोस्टर की सच्चाई क्या है?

वीडियो फ़ेसबुक पर काफ़ी वायरल है.




फ़ैक्ट चेक

बूम ने अंग्रेजी कीवर्ड्स 'karimnagar congress leader beaten after flag hoisting' के साथ इंटरनेट पर सर्च किया तो हमें वर्ष 2014 के कुछ न्यूज़ रिपोर्ट्स मिलें जिसमे इस घटना का उल्लेख किया गया है. ETV Andhra Pradesh के यूट्यूब चैनल पर हमें यही वीडियो अगस्त 15, 2014 में अपलोड किया हुआ मिला. वीडियो का शीर्षक है 'Spat Between YCP Leaders @ Flag Hoisting In Karimnagar'.

पानी में पेशाब मिलाते ठेले वाले का वीडियो फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल

(हिंदी: ध्वजारोहण के दौरान YCP नेताओं में हाथापाई)

NDTV में 2014 में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक घटना करीमनगर की ही है मगर सात साल पुरानी है और वीडियो में जिस राजनैतिक दल के नेता आपस में लड़ रहे हैं वो YSR Congress Party के हैं ना की कांग्रेस पार्टी के. YSRCP का गठन वर्ष 2011 में जगन मोहन रेड्डी ने किया था. ये फ़िलहाल आंध्र प्रदेश की सत्तारूढ़ पार्टी है. जगन 2011 से पहले कांग्रेस में ही थे मगर बाद में उन्होंने अपनी खुद की पार्टी गठित की थी.

NDTV की रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि वीडियो में दिख रही महिला - गन्ता सुशीला - YSRCP की महिला प्रकोष्ठ की नेत्री हैं और उन्होंने ध्वजारोहण के बाद पार्टी के ज़िलाअध्यक्ष भास्कर रेड्डी की चप्पलों से पिटाई की थी.

इसी घटना पर Deccan Chronicle में भी एक रिपोर्ट छपी थी.


न्यूज़ रिपोर्ट्स में इस घटना को दोनों नेताओं के बीच आपसी मतभेद बताया गया है.

बूम ने वायरल वीडियो और ETV Andhra Pradesh के यूट्यूब चैनल पर अपलोड किये गए वीडियो के कुछ स्क्रीनशॉट्स की तुलना की. नीचे देखें.


बिहार में मुहर्रम की जुलूस के हिंसक होने का वीडियो गलत दावे के साथ वायरल

Claim Review :   आंध्रा के करीमनगर कांग्रेस कार्यालय में पहले ध्वजारोहण..फिर मुख्य अतिथि की छेड़छाड़ करने पर चप्पल वितरण!
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story