अखिलेश यादव के लिये लकी है '2' नंबर, क्या है इस वायरल मैसेज की हक़ीक़त?

वायरल मैसेज में लिखा है कि जिस चुनावी वर्ष के आख़िरी में 2 होता है तब तब सपा की सरकार बनती है

सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है जिसे समाजवादी पार्टी से जुड़े तमाम पेजों में कई बार शेयर किया जा चुका है. वायरल मैसेज में अखिलेश यादव की तस्वीर के साथ एक टेक्स्ट मैसेज में लिखा है, "जिस चुनावी वर्ष के आख़िरी में 2 रहता है तब तबसपा सरकार बनी है, 1992-2002-2012-2022."

क्या वायरल तस्वीर में दिख रहा लकड़ी का दिल श्रीकृष्ण का है? फ़ैक्ट-चेक

उत्तर प्रदेश में विधानसभा के चुनावी मौसम की सरगर्मियाँ तेज हैं. प्रदेश में सभी चरणों के चुनाव और मतगणना तथा परिणाम की तारीख़ें चुनाव आयोग द्वारा सार्वजनिक कर दी गई हैं. इसके बाद से ही ये पोस्टकार्ड वायरल हो रहा है.

फ़ेसबुक पर इस मैसेज को शेयर करते हुए एक यूज़र ने कैप्शन में लिखा है, "भाजपा से जनता बना रही है दो गज़ की दूरी क्योंकि यूपी में हैं श्री अखिलेश यादव ज़रूरी."



(पोस्ट यहाँ, यहाँ, यहाँ देखें)

इस दावे को इंस्टाग्राम पर भी शेयर किया गया है जहां इसे लगभग 5 हज़ार इंटेरैक्शन मिल चुके हैं.


फ़ैक्ट-चेक

बूम ने वायरल दावे की जाँच के दौरान पाया कि उत्तर प्रदेश में 1992 और 2002 में सपा की सरकार बनने का दावा ग़लत है. हालाँकि ये सच है कि 2012 में सपा की सरकार की बनी थी और अखिलेश यादव ही मुख्यमंत्री थे.

"दुष्प्रचार के ख़िलाफ़ क़दम उठाने का आग्रह": फ़ैक्ट चेकर्स ने यूट्यूब सीईओ को लिखा पत्र

बूम ने वायरल दावे की पड़ताल के लिये सबसे पहले 1992 यूपी चुनाव के बारे में खोजा. कीवर्ड गूगल सर्च करने पर हमें चुनाव आयोग की वेबसाइट पर यूपी चुनाव का डेटा मिला. इसके मुताबिक़, उत्तर प्रदेश में 1991 और 1993 में चुनाव हुए थे जबकि 1992 में राज्य में विधानसभा चुनाव नहीं हुए थे.


11 जनवरी 2019 को Dainik Jagran में छपी एक ख़बर के मुताबिक़, 1992 में अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले के बाद यूपी केतत्कालीन सीएम कल्याण सिंह ने इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद 1993 में राज्य में विधानसभा चुनाव हुए थे. इस चुनाव में सपा सपा के संस्थापक अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव और बसपा के संस्थापक कांशीराम ने मिलकर चुनाव लड़ा था और इस गठबंधन से चुनाव जीतकर 1993 में मुलायम सिंह दूसरी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे.

अखिलेश यादव ने कसाब की फांसी रुकवाने के लिए दया याचिका पर नहीं किये साइन, दावा फ़र्ज़ी है


अगर बात 2002 के विधानसभा चुनावों की करें तो इस ख़बर के मुताबिक़ 2002 में प्रदेश में भाजपा और बसपा ने मिलकर सरकार बनाई थी और मायावती मुख्यमंत्री बनी थीं. इस चुनाव में सपा ने 143, बसपा ने 98, भाजपा ने 88, कांग्रेस ने 25 और रालोद ने 14 सीटें जीती थीं.

वहीं 2012 के यूपी विधानसभा चुनावों में अखिलेश यादव के युवा नेतृत्व में सपा की सरकार बनी थी. इस साल 224 सीटों के साथ समाजवादी पार्टी ने बहुमत से सरकार बनाई थी और अखिलेश यादव सूबे के मुख्यमंत्री बने थे.

मुख्यमंत्री नहीं बनाये जाने पर योगी आदित्यनाथ ने दी सपा ज्वाइन करने की धमकी? फ़ैक्ट-चेक

यूपी में कब-कब बनी है सपा की सरकार?

अक्टूबर 1992 में समाजवादी पार्टी का गठन होने के एक साल बाद, यानि 1993 में सपा-बसपा गठबंधन की सरकार बनी थी. इसकेबाद 2003 में दोबारा समाजवादी पार्टी की सरकार बनी थी और मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. और साल 2012 में फिर अखिलेश यादव के नेतृत्व में सरकार बनी. ये दावा बिल्कुल बेबुनियाद है कि जिस चुनावी साल के अंत में 2 होता है तब तब सपा की सरकार बनी है.

Claim :   जिस चुनावी वर्ष के आख़िरी में 2 रहता है तब तबसपा सरकार बनी है, 1992-2002-2012-2022.”
Claimed By :  social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.