फ़ैक्ट चेक : रेलवे स्टेशन पर बनी 'मस्जिद' की यह तस्वीर कहां की है?

यूज़र्स तस्वीर शेयर करते हुए दावा कर रहे हैं कि यह तस्वीर पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफ़ॉर्म पर बनी एक मस्जिद की है।

सोशल मीडिया पर एक धार्मिक स्थल की तस्वीर फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल है। यूज़र्स तस्वीर शेयर करते हुए दावा कर रहे हैं कि यह तस्वीर पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफ़ॉर्म पर बनी एक मस्जिद की है।

बूम ने पाया कि वायरल दावा फ़र्ज़ी है, तस्वीर पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर मौजूद मस्जिद की नहीं, बल्कि प्रयागराज रेलवे स्टेशन के प्लेटफ़ॉर्म नंबर एक पर स्थित लाइन शाह बाबा की दरगाह की है।

गौरतलब है कि बीते दिनों पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक इलाक़े में सड़क चौड़ीकरण और सौंदर्यीकरण के चलते हनुमान मंदिर को तोड़ दिया गया था। क़रीब 50 साल पुराने हनुमान मंदिर को बीच सड़क में पड़ने के कारण ढहा दिया गया था, जिससे कई हिन्दूवादी संगठनों में रोष देखा जा रहा है। सोशल मीडिया पर यूज़र्स हनुमान मंदिर तोड़े जाने का हवाला देकर मस्जिद तोड़ने की अपील कर रहे हैं।

2013 इलाहाबाद कुम्भ की तस्वीर को किसान आंदोलन से जोड़कर किया वायरल

फ़ेसबुक पर पूछता है भारत नाम के एक पेज ने तस्वीर शेयर करते हुए लिखा "ये मस्जिद पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर है, किसी मे हिम्मत है इसको कब तुड़वा रहे हो या सिर्फ हनुमान मंदिर ही रास्ते का रोड़ा था तुम्हारे। आवाज उठाओ साथियों।"

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें

वायरल तस्वीर फ़ेसबुक और ट्विटर पर एक ही दावे से बड़ी तादाद में शेयर की जा रही है।

दो साल पुरानी यह फ़ोटो बदायूं गैंगरेप और हत्या के मामले से जोड़कर वायरल

फ़ैक्ट चेक

बूम ने तस्वीर को रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो हमें यह तस्वीर हिन्दू जाग्रति में 23 फ़रवरी 2013 को प्रकाशित एक लेख में मिली। हालांकि लेख में मस्जिद ग़लत कारणों से चर्चा में है, लेकिन यह बात ज़रूर स्पष्ट हो जाती है कि यह धार्मिक स्थल प्रयागराज रेलवे स्टेशन में स्थित है।


हमें खोज के दौरान फ़ेसबुक पर 10 नवंबर 2012 का एक पोस्ट मिला, जिसमें तस्वीर को प्रयागराज जंक्शन (पूर्व इलाहाबाद जंक्शन) रेलवे स्टेशन पर स्थित लाइन शाह बाबा की दरगाह बताया गया है। इसके अलावा इलाहाबाद मेरी जान नाम के फ़ेसबुक पर 4 फ़रवरी 2017 को तस्वीर के साथ शेयर किये गए पोस्ट के कैप्शन में 'हजरत सैयद करामत अली उर्फ लाइन शाह बाबा की दरगाह' बताया गया है।

हमने इस क्लू के आधार पर सम्बंधित कीवर्ड के ज़रिये आगे खोज की तो जागरण मीडिया समूह के आईनेक्स्ट की फ़ोटो गैलरी में 'लाइन शाह बाबा पर रोज़ा इफ़्तार' के कैप्शन के साथ कई तस्वीरें मिली। दरगाह के समीप इलाहाबाद जंक्शन का बोर्ड देखा जा सकता है, हालांकि यह बोर्ड पुराना है क्योंकि अब इलाहाबाद का नाम प्रयागराज हो चुका है।

क्या कोविड-19 टीके लिंग में लगेंगे? सी.एन.एन का फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट वायरल


बूम ने प्रयागराज में रहने वाले आमिर सिद्दीकी से संपर्क किया, जिन्होंने पुष्टि की कि यह तस्वीर प्रयागराज जंक्शन के प्लेटफ़ॉर्म नंबर 1 पर स्थित लाइन शाह बाबा की मज़ार की है। इसके अलावा उन्होंने रेलवे स्टेशन जाकर हमें दरगाह की दो तस्वीरें भेजीं।

नीचे तस्वीर देखें




भारत के चार राज्यों में बर्ड फ़्लू: यह बातें आपको ज़रूर जाननी चाहिए

Claim Review :   ये मस्जिद पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर है, इसको कब तुड़वा रहे हो
Claimed By :  Social Media Users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story