आरएलडी प्रमुख अजित सिंह का कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में निधन

मंगलवार को उनके फेफड़े में संक्रमण बढ़ गया था, जिसके बाद उन्हें गुरुग्राम के अस्पताल में भर्ती कराया गया था और इलाज के दौरान ही उनका निधन हो गया.

राष्ट्रीय लोक दल (Rashtriya Lok Dal - RLD) के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह (Ajit Singh) का निधन हो गया है. अजित सिंह 20 अप्रैल को कोरोना (Coronavirus) संक्रमित पाए गए थे. मंगलवार को उनके फेफड़े में संक्रमण बढ़ गया था, जिसके बाद उन्हें गुरुग्राम के अस्पताल में भर्ती कराया गया था और इलाज के दौरान ही उनका निधन हो गया.

अजित सिंह के निधन की सूचना उनके बेटे और पूर्व सांसद जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) ने ट्विटर पर दी.

जयंत चौधरी ने ट्वीट करते हुए एक संदेश पोस्ट किया, "चौधरी अजित जी 20 अप्रैल को कोरोना संक्रमित पाए गए थे और आज प्रातः 6 मई को उन्होंने अंतिम सांस ली. असीम दुःख की घड़ी है. अंतिम समय तक चौधरी साहब संघर्ष करते रहे!"

जयंत ने आगे लिखा, "चौधरी साहब को हमेशा लोगों का साथ मिला. उन्होंने सबको अपना परिवार माना और आप ही के लिए चिंता की. इस दुःख व महामारी के काल में आप से प्रार्थना है कि अपना पूरा ध्यान रखें, संभव हो तो अपने घर पर ही रहें और सावधानी ज़रूर बरतें. इससे डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मचारियों को भी मदद मिलेगी. और यही चौधरी साहब को आपकी सच्ची श्रद्दांजलि होगी."

उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन को लेकर आया ये नया आर्डर

राष्ट्रीय लोक दल अध्यक्ष अजित सिंह का जन्म 12 फ़रवरी, 1939 को मेरठ में हुआ था. वो पूर्व प्रधानमंत्री और किसान नेता चौधरी चरण सिंह के बेटे थे. उन्होंने अपने राजनैतिक सफ़र की शुरुआत साल 1986 से की थी. वो 6 बार लोकसभा और एक बार राज्यसभा सांसद रहे.

अजित सिंह इस दौरान लगभग सारी सरकारों में मंत्री बने. 1989 में वीपी सिंह की सरकार, 1991 में नरसिम्हा राव, 1999 की वाजपेयी सरकार और फिर यूपीए सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे. अजित सिंह को राजनीतिक अवसर पहचानने का कुशल खिलाड़ी माना जाता था. हालांकि, अजित सिंह को 2014 और 2019 के आम चुनाव में अपनी सीट बागपत में हार का सामना करना पड़ा था.

चौधरी अजित सिंह के निधन के बाद राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव सहित तमाम नेताओं ने ट्विटर पर अजित सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया.

उड़ीसा की घटना का वीडियो बंगाल चुनाव के बाद की हिंसा के रूप में वायरल

Show Full Article
Next Story