कैंसर इलाज़ के नए प्रयोग कीमो थेरेपी के दौरान बाल झड़ने से रोकेंगे

मुंबई में टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल ने स्तन कैंसर के लिए कीमोथेरेपी के दौरान बालों के नुकसान को कम करने के लिए रोगविषयक परीक्षण किया।

कैंसर के इलाज के लिए टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल एक नई तकनीक पेश करेगा, जो स्तन कैंसर का इलाज करते हुए कीमोथेरेपी के दौरान बालों के झड़ने से रोकेगा।

कीमोथेरेपी वह उपचार है जो कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने के लिए दवाओं का उपयोग करता है। या तो कोशिकाओं को मार देता है या उन्हें विभाजित होने से रोकता है। यह कैंसर के प्रकार और अवस्था के आधार पर मुंह, इंजेक्शन, जलसेक या त्वचा पर दिया जा सकता है। यह अकेले या अन्य उपचारों, जैसे सर्जरी, रैडिएशन थेरेपी या बायोलोजिक थेरेपी के साथ दिया जा सकता है।

मेडिकल कम्युनिटी के अनुसार देश में महिलाओं का कीमोथेरेपी से इंकार करने का एक महत्वपूर्ण कारक बालों का झड़ना रहा है।

यह भी पढ़ें: क्या तीन नोबेल विजेताओं ने कहा कि कैंसर को दवा के बिना ठीक किया जा सकता है?

भारत में हर साल स्तन कैंसर के लगभग 1.5 लाख नए मामले सामने आते हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, इनमें से लगभग 70,000 महिलाएं कैंसर के आगे हार जाती हैं।

टाटा मेमोरियल अस्पताल इस तकनीक को पिछले दो वर्षों से परीक्षण के आधार पर शामिल कर रहा है। कीमोथेरेपी के साथ प्रयोग की जा रही नई स्कैल्प कूलिंग तकनीक को यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा अनुमोदित किया गया है।

स्कैल्प कूलिंग टेक्नोलॉजी क्या है?

स्कैल्प कूलिंग तकनीक को यूएसए के एफडीए द्वारा लगभग 2015 में मंजूरी दी गई थी। यह तकनीक स्कैल्प को ठंडा करती है और बालों के रोम तक रक्त के प्रवाह को कम करती है, जिससे बालों के रोम तक रसायनों की पहुंच कम हो जाती है। कूलिंग कैप को कम, शुन्य से नीचे तापमान पर रखा जाता है। ये ठंडा तापमान, ड्रग्स टैक्सेन और एन्थ्रेसाइक्लिन को बालों की कोशिकाओं तक पहुंचने से रोकते हैं।

यह भी पढ़ें: वाहनों से उत्सर्जित सूक्ष्मकण मस्तिष्क कैंसर से जुड़े हैं: अध्ययन

एक स्वीडिश कंपनी. डिग्नीकैप और एक ब्रिटिश एजेंसी, पैक्समैन स्कैल्प कूलिंग उपकरण के एफडीए अनुमोदित निर्माता हैं। उनके पास कूलिंग कैप हैं जिन्हें हर 30 मिनट पर बदलना पड़ता है और रेफ्रिजरेंट को कीमोथेरेपी सत्रों से पहले जोड़ना पड़ता है। ठंडा होने के बाद का एक मानक समय भी है |

वर्तमान में, टैक्सेन और एंथ्रासाइक्लिन कीमोथेरेपी के दौरान उपयोग किए जाने वाले केवल दो दवा उपचार हैं, जिनके लिए स्कैल्प कूलिंग तकनीक और एलोपिसिया प्रभावी है।

दुनिया भर में किए गए अध्ययनों में, एंथ्रासाइक्लिन के साथ किए गए उपचार की तुलना में टैक्सेन के साथ उपचार बाल और बालों के रीग्रोथ की अवधारण के लिए एक बेहतर दर दिखाता है।

टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के क्लिनिकल ट्रायल के परिणाम

टाटा मेमोरियल अस्पताल ने अपने क्लिनिकल परीक्षण के लिए पैक्समैन कूलिंग उपकरण का उपयोग किया, जिसमें स्तन कैंसर से पीड़ित 51 महिलाओं ने अनियमित क्लीनिकल परीक्षण में भाग लिया।

यह भी पढ़ें: प्रदूषण से उम्र कम नहीं होती: जावड़ेकर; अध्यन कहते हैं यह दावा ग़लत है

इस अध्ययन का नेतृत्व डॉ ज्योति बाजपेयी ने किया। अध्ययन में 34 महिलाएं कूलिंग तकनीक का लाभ उठा रही थीं, जबकि 17 महिलाएं नियंत्रण टीम का हिस्सा थीं। अध्ययन का लक्ष्य तकनीक के माध्यम से एलोसिया (प्रेरित गंजापन), बाल प्रतिधारण, और बालों के रीग्रोथ के दौर से गुजर रही महिलाओं के अनुपात का आकलन और तुलना करना था।

रोगी 30 मिनट के लिए शीतलक ट्यूबों से जुड़ी एक शीतलन टोपी पहनते हैं जो लगभग -4 डिग्री का तापमान बनाए रखता है। कीमोथेरेपी के बाद 90 मीनट के लिए रखा जाना होता है।

अध्ययन में 100% नुकसान और 12% रीग्रोथ की तुलना में 56% बाल प्रतिधारण और 85% बाल रीग्रोथ देखा गया है।

निष्कर्षों ने वैश्विक अध्ययनों का समर्थन किया जहां एंथ्रासाइक्लिन के साथ ट्रायल से बेहतर प्रदर्शन देखा गया है।

कीमोथेरेपी के दौरान बालों के झड़ने की परेशानी

बूम ने इस ट्रायल का संचालन करने वाली टीएमएच की प्रेरणा को समझने के लिए डॉ ज्योति बाजपेयी से संपर्क किया।

"बालों का झड़ना कलंक के साथ देखा जाने वाला एक मुद्दा है। हमने कई मामले सुने जहां कलंक की वजह से महिलाओं को बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ा और वे कीमोथेरेपी के लिए आने के लिए इच्छुक नहीं थे।"

यह भी पढ़ें: मानव विकास सूचकांक में भारत एक स्थान ऊपर, अब 129 वें स्थान पर

डॉ. ज्योति ने आगे कहा कि उपचार सस्ता होगा और अस्पताल जल्द ही इलाज शुरू करने की सोच रहा है।

Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.