Selectकश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा नहीं लहराया गया, वायरल तस्वीर फ़ोटोशॉप्ड है

बूम ने पत्रकार मुबश्शिर मुश्ताक़ से बात की जिन्होंने यह तस्वीर ली थी | उन्होंने वायरल तस्वीर को फ़र्ज़ी और एडिटेड बताया

भारत के राष्ट्रीय ध्वज को श्रीनगर के लाल चौक पर दिखाती एक फ़ोटोशॉप तस्वीर इन फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल है कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल चौक पर तिरंगा लहराया गया है |

कश्मीर से स्थानीय पत्रकारों ने बूम से इस बात की पुष्टि की है कि लाल चौक पर तिरंगा नहीं लहराया गया है | उन्होंने यह भी पुष्टि की है कि लाल चौक भारी सुरक्षा में है और स्वतंत्रता दिवस शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम, श्रीनगर, में मनाया गया है |

बूम ने उस फ़ोटोग्राफर से भी बात की जिन्होंने वास्तविक तस्वीर ली थी जो अब फ़र्ज़ी दावों के साथ फ़ोटोशॉप कर वायरल हो रही है | उन्होंने कहा, "यह बेशक फ़ोटोशॉप्ड है |"

यह फ़ोटोशॉप्ड तस्वीर फ़र्ज़ी दावों के साथ भारतीय जनता पार्टी नेताओं कपिल मिश्रा, किरण खैर और लदाख के सांसद सेरिंग नामग्याल द्वारा शेयर की गयी है | पिछले साल 5 अगस्त 2019 को बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने जम्मू और कश्मीर को स्पेशल स्टेटस देने वाली भारतीय संविधान की धारा 370 को हटा दिया था और उसे एक केंद्र शासित प्रदेश बना दिया था |

क्या एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राफ़ेल को भारत लाने वाले पायलट्स में शामिल थे?

तभी से कश्मीर में संपर्क प्रणाली लगभग बंद है और लॉकडाउन है | इससे कई जगहों पर प्रदर्शन भी हुए और लोगो का गुस्सा फूटा था |

इस साल धारा 370 हटने और इंटरनेट सर्विसेज बंद होने की पहली 'सालगिरह' है | इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस के लिए भी कश्मीर में कर्फ्यू है | बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने फ़ोटोशॉप तस्वीर ट्वीट कर लिखा: "लाल चौक पर तिरंगा" |

चंडीगढ़ से बीजेपी की सांसद किरण खैर ने भी यही तस्वीर पोस्ट की और लिखा: "श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा, जय हिन्द |"

लदाख के बीजेपी सांसद नामग्याल ने यही फ़र्ज़ी तस्वीर को 5 अगस्त 2019 पर ध्यान खींचते हुए ट्वीट किया | तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा, "लाल चौक श्रीनगर, जो कबसे राजवंशी नेताओं और जिहादी ताकतों द्वारा गैर भारतीय अभियान का प्रतीक रहा है, अब राष्ट्रवाद का मुकुट बन गया | #मोदीहैतोमुमकिनहै @narendramodi @AmitShah #मोदीसरकार देशवासियों को इन्हें चुनने के लिए धन्यवाद |"

यह तस्वीर फ़ेसबुक पर भी जोरों से वायरल है जहाँ लाल चौक क्लॉक टावर कि दो तस्वीरों की तुलना हो रही है | एक तस्वीर में इस्लामिक झंडा है वहीँ दूसरी तस्वीर फ़ोटोशॉप्ड तस्वीर है जो कपिल मिश्रा ने शेयर कि है | फ़ेसबुक पोस्ट्स के आर्काइव्ड वर्शन यहाँ, यहाँ, यहाँ, यहाँ और यहाँ देखें |

फ़ैक्ट चेक

बूम ने वायरल तस्वीर के साथ सर्च किया और वास्तविक तस्वीर पायी जो बहुत पुरानी है और उसमें तिरंगा नहीं है | लाल चौक कि यह तस्वीर बिना तिरंगे के हमें एक फ्रीलांस जर्नलिस्ट मुबश्शिर मुश्ताक़ के ब्लॉग संडे जेंटलमैन पर मिली जो उन्होंने 22 जून 2010 में प्रकाशित की थी |

यह ब्लॉग जिसका नाम 'पैराडाइस लॉस्ट?' था 22 जून 2010 को प्रकाशित हुआ था | सालों से यही तस्वीर कई साइट्स द्वारा इस्तेमाल की गयी हैं | इंडिया टीवी की इस स्टोरी में भी सामान तस्वीर है जिसका क्रेडिट पीटीआई को दिया गया है |

नीचे फ़र्ज़ी तस्वीर (लेफ्ट) और मुबश्शिर मुश्ताक़ के ब्लॉग पर प्रकाशित तस्वीर की तुलना है |


बूम ने मुश्ताक़ से संपर्क किया | उन्होंने हमसे बात करते हुए पुष्टि की कि यह तस्वीर जून 2010 में उन्होंने ही ली थी जब वह घाटी में छुट्टियां मनाने गए थे |

"कश्मीर में 2010 में छुट्टियों के दौरान लाल चौक पर यह तस्वीर मैंने ली थी जिसे बाद में मैंने कश्मीर के बारे में ब्लॉग में इस्तेमाल किया," मुश्ताक़ ने कहा | उन्होंने यह भी कहा कि कपिल मिश्रा के ट्वीट पर उन्होंने पहले ही अलर्ट दिया था |

"मुझे बताया गया था कि मेरी लाल चौक वाली तस्वीर पर भारतीय तिरंगा जोड़ा गया है, यह बेशक फ़ोटोशॉप्ड है," उन्होंने कहा | हमनें इसके बाद एक कश्मीरी पत्रकार से संपर्क किया जिन्होंने 15 अगस्त 2020 के दिन लाल चौक की तस्वीर हमारे साथ साझा की | जब वह लाल चौक गए थे, तब क्लॉक टावर पर कोई झंडा नहीं लहरा रहा था |


नीचे तस्वीर का एक्सिफ़ डाटा है जिससे पता चलता है कि तस्वीर 15 अगस्त 2020 की सुबह 11.05 ही ली गयी है |


यूएनआई न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक़ लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम, सोनवार, में तिरंगा फहराया और स्वतंत्रता की 74 वीं सालगिरह मनाई |

Updated On: 2020-09-09T16:52:42+05:30
Claim Review :   तस्वीर दावा करती है कि लाल चौक कश्मीर पर तिरंगा लहराया गया
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story