फ़ैक्ट चेक: फूट-फूट कर रो रहे इस शख़्स का वीडियो बांग्लादेश से है

बूम ने कई न्यूज़ रिपोर्ट्स पाई जिसमें बताया गया था कि यह घटना बांग्लादेश की राजधानी ढाका की है

सरकारी अधिकारियों द्वारा अपना रिक्शा जब्त कर लिए जाने पर सिसक-सिसक कर रो रहे एक शख़्स का वीडियो सोशल मीडिया पर भ्रामक दावों के साथ वायरल हो रहा है | दावा किया जा रहा है कि यह भारत में हुई घटना के दौरान एक व्यक्ति को रोते दिखाता है |

इस वीडियो के साथ नेटिज़ेंस कई भारतीय नेताओं को टैग कर रहे हैं जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं | आपको बता दें कि यह वीडियो भारत का नहीं है |

बूम ने पाया कि यह अतिक्रमण हटाने के लिए दक्षिण ढाका सिटी कॉर्पोरेशन द्वारा चलाया गया एक अभियान था जिसमें कई वाहन हटाए गए थे | यह मामला बांग्लादेश के कई न्यूज़ संस्थाओं ने प्रकाशित किया था जिसमें वायरल वीडियो में दिख रहे शख़्स की तसवीरें भी हैं | ढाका ट्रिब्यून के मुताबिक़ इस वीडियो में दिख रहे शख्स का नाम फ़ज़लुर है |

मृत महिला सिपाही की तस्वीर रेप और हत्या के फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल

बांग्लादेश में वृद्ध पर हुआ हमला, वीडियो भारत का बताकर वायरल

जबकि कई यूज़र्स वीडियो को ढाका का बता रहे हैं, कई अन्य इसे भारत का समझ रहे हैं और भारतीय नेताओं को ट्विटर पर टैग कर रहे हैं | नीचे कुछ ऐसी पोस्ट्स देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहाँ और यहाँ देखें |


बांग्लादेश में आयोजित प्रदर्शन का वीडियो पश्चिम बंगाल बता कर वायरल

फ़ैक्ट चेक

वायरल वीडियो को करीब से देखने पर पता चलता है कि बूम माइक पर जमुना टीवी लिखा है | इसी नाम से यूट्यूब पर खोजने पर हमें यही चैनल मिला जो एक बांग्लादेशी न्यूज़ चैनल है |


इस वीडियो के साथ एक बांग्ला हैडिंग है जिसका अनुवाद है: "अब में गले में फंदा लगा लूंगा, रिक्शा चालक की पुकार #Rickshaw_Puller"

(बांग्ला: এখন আমি খামু কী, গলায় দড়ি দিমু; এক রিকশাচালকের আর্তনাদ | #Rickshaw_Puller)

वीडियो में कई संकेत मिलते हैं जिससे पता चलता है कि घटना बांग्लादेश की है | इस वीडियो में 'सी माइनर कैफ़े' दिखाई देता है जो ढाका के धानमंडी इलाके में स्थित है |


इस वीडियो के अलावा कई ट्विटर यूज़र्स ने इस घटना की तस्वीरें पोस्ट की थीं | इन फ़ोटोज़ में से एक में कई संकेत मिलते हैं कि यह ढाका, बांग्लादेश की घटना है | जैसे जेसीबी पर ढाका साउथ सिटी लिखा है और बीडीन्यूज़24.कॉम का वाटरमार्क भी है |


इस तस्वीर के संकेत लेकर खोज करने पर हमें बीडीन्यूज़24 चैनल पर अपलोड हुआ एक वीडियो मिला | इस वीडियो के डिस्क्रिप्शन में लिखा है: "ढाका साउथ सिटी कॉर्पोरेशन ने जिगताला इलाके से कई इलेक्ट्रिक रिक्शा को ले गए | एक ड्राइवर ने अपना सब खो दिया और फुट-फुट कर रोया |"

हमें ढाका ट्रिब्यून पर एक रिपोर्ट मिली | इस रिपोर्ट के मुताबिक़ सरकार द्वारा रिक्शा जब्त होने के बाद श्वप्नों के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर सब्बीर हसन नासिर ने फज़लुर की मदद की | इसी रिपोर्ट में लिखा है, "सोमवार को ढाका साउथ सिटी कॉर्पोरेशन यानी डीएससीसी ने जिगताला इलाके में एक अभियान चलाया जहाँ से बैटरी संचालित रिक्शा का अतिक्रमण हटाया जिसके चलते कई वहां यह रिक्शा कब्ज़े में लिए गए |"

श्वप्नों बांग्लादेश के रिटेल चेन्स में एक जाना माना नाम है |

Updated On: 2020-10-12T19:53:05+05:30
Claim Review :   फुट-फुट कर रो रहा यह शख़्स भारत से है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  Misleading
Show Full Article
Next Story