नहीं, सरकार कोरोनावायरस को मारने के लिए दवा का छिड़काव नहीं कर रही है

एक वायरल मैसेज में लोगों को घर के अंदर रहने के लिए कह रहा है क्योंकि सरकार दवा का छिड़काव करने जा रही है। यह दावा नकली है।

व्हाट्सएप्प पर एक मैसेज वायरल हो रहा है। इसमें लोगों को घर के अंदर रहने के लिए कहा जा रहा है क्योंकि सरकार 'कोरोनावायरस' को मारने के लिए दवा का छिड़काव करने जा रही है। यह संदेश मुंबई और बैंगलोर में तेजी से फैल रहा है है और निवासियों को रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक घर के अंदर रहने के लिए कहा जा रहा है। इसके अलावा अब यह उत्तर प्रदेश के नाम पर भी फ़ैल रहा है|

बूम ने सबसे पहले मुंबई के कई पाठकों से मैसेज प्राप्त किया, जिसमें किसी भी शहर का उल्लेख नहीं था।


यह फर्ज़ी मैसेज तब बेंगलुरु में वायरल होना शुरू हो गया, जिसमें लिखा था, ब्रुहत बेंगलुरु महानगर पालिके (बीबीएमपी) दवा का छिड़काव करने जा रहा है। फैलाए जा रहे मैसेज के साथ दिए टेक्स्ट में लिखा है, "नमस्ते, बैंगलोर में हर किसी से विनम्र निवेदन कि आप आज रात 10 बजे के बाद कल सुबह 5 बजे तक अपने घर से बाहर न निकलें। कोविड-19 को मारने के लिए हवा में दवा का छिड़काव किया जाएगा। इस जानकारी को बेंगलुरु में अपने सभी दोस्तों, रिश्तेदारों और अपने परिवारों से शेयर करें… धन्यवाद! "

यह भी पढ़ें: हंतावायरस का डर - बातें जो आपके लिए जानना ज़रूरी हैं




इस मैसेज के लिए बूम ने फेसबुक पर एक खोज किया और पाया कि यह ज़्यादातर राज्यों, विशेष रूप से चंडीगढ़, कोलकाता, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब और कश्मीर में वायरल है।


फ़ैक्टचेक

बूम ने अधिकांश शहरों और राज्यों की स्वास्थ्य और सरकारी वेबसाइटों की जाँच की लेकिन सरकार द्वारा जारी किया गया ऐसा कोई सर्कुलर नहीं मिला। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट में भी ऐसी कोई सर्कुलर या घोषणा नहीं थी।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालयों और नगर पालिकाओं के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी हमने ऐसा कुछ नहीं पाया। वहां भी इस तरह के छिड़काव या इस तरह के समय के दौरान लोगों को बाहर कदम नहीं रखने के बारे में कोई आदेश या ट्वीट नहीं था।

बूम ने इसकी पुष्टि के लिए मुंबई के बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) के एक अधिकारी से भी संपर्क किया। नाम न बताने की इच्छा ज़ाहिर करते हुए अधिकारी ने हमें बताया कि, "यह एक नकली संदेश है। कोई भी हवा में या कहीं भी कुछ भी नहीं छिड़क रहा है। यह किसी की दहशत पैदा करने की कोशिश है।"

यह भी पढ़ें: राजपूतों और ब्राह्मणो पर नहीं होगा कोरोनावायरस का असर? नहीं, ये दावे फ़र्ज़ी हैं

उन्होंने कहा, "हालांकि, जब तक ज़रूरी ना हो, लोगों का घर के अंदर रहना ही सुरक्षित है लेकिन, इस तरह का संदेश ग़लत और नकली है।" मीडिया आउटलेट द न्यूज मिनट ने बीबीएमपी कमिश्नर अनिल कुमार से संपर्क किया। उन्होंने भी ऐसे मैसेज का खंडन किया। कमिश्नर ने टीएनएम से कहा, "मैंने इसे देखा है, और यह फ़र्ज़ी ख़बर है। बंगलुरु में रहने वाले कुछ लोग इस संदेश को एक-दूसरे को भेज रहे हैं और आतंक पैदा कर रहे हैं।"

Updated On: 2020-04-02T16:49:33+05:30
Claim Review :  लोग रात में घर में ही रहे क्योंकि सरकार कोरोनावायरस को मारने के लिए दवा का छिड़काव कर रही है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story