दारुल उलूम ने नहीं किया है बीजेपी के ख़िलाफ फतवा जारी

बूम को दारुल उलूम के वाईस चांसलर ने बताया की यह दावा फ़र्ज़ी है जिसका दारुल उलूम से कोई सम्बन्ध नहीं है

फ़ेसबुक पर एक ख़बर वायरल हो रही है जिसमें कहा जा रहा है की दारुल उलूम ने भाजपा के ख़िलाफ एक फतवा जारी किया है | इस पोस्ट को फ़ेसबुक पर जोरों से शेयर किया जा रहा है | आपको बता दें की यह दावा झूठा है एवं दारुल उलूम देवबंद से कोई सम्बन्ध नहीं रखता |

यह पोस्ट महीनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसे यूज़र्स सच मान रहे हैं | बूम को दारुल उलूम के वाईस चांसलर ने बताया की यह फ़र्ज़ी अफ़वाह है |

यह उस वक़्त वायरल हो रहा है जब केंद्र सरकार ने नागरिकता संशोधन विधेयक पारित किया है | यह विधेयक भारतीय संसद के दोनों सदनों में पास हो कर एक अधिनियम बन गया है जिसके चलते भारत भर में प्रदर्शन हो रहे हैं | विरोधियों का कहना है की यह अधिनियम भेदभावपूर्ण है एवं इसका पारित होना भारतीय संविधान के ख़िलाफ है | पोस्ट में एक तस्वीर शेयर की गयी है जिसपर लिखा है: "बीजेपी के ख़िलाफ फतवा जारी | बीजेपी को हराना जरूरी है | मुसलमान बीजेपी के ख़िलाफ वोट दें: दारुल उलूम देवबंद"

यह भी पढ़ें: महिला प्रदर्शनकारियों की असंबंधित तस्वीरें असम की घटना बता कर वायरल

आप पोस्ट नीचे देखें और इनका आर्काइव्ड वर्शन यहाँ देखें | यह फ़र्ज़ी पोस्ट महीनों से वायरल हो रही है | पुरानी पोस्ट यहाँ देखें |


फ़ैक्ट चेक

बूम ने दारुल उलूम के वाईस चांसलर मुफ़्ती अबुल क़ासिम से संपर्क किया जिन्होंने इस दावे को ख़ारिज करते हुए कहा: "सियासी पार्टी के ख़िलाफ फतवा जारी नहीं किया जाता | फतवा तब जारी किया जाता है जब कोई मसला होता है | बीजेपी क्या है, कोई नमाज़ है की रोजा है? उसके बारे में क्या फतवा दें? वो एक सियासी पार्टी है उससे हमारा क्या लेना देना है |"

उन्होंने आगे कहा की, "दारुल उलूम का कोई सियासी मसले से कोई ताल्लुक़ नहीं है |"

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के एक लेख के अनुसार, पिछले साल मई 2018 में दारुल उलूम में रह रहे जमीअत-उलेमा-इ-हिन्द के कोषाध्यक्ष मौलाना हाशिब सिद्दीकी ने कहा था की बीजेपी से पूरा देश परेशां है जिसके चलते मुसलमान अपना वोट बीजेपी को देकर ख़राब न करें |

यह भी पढ़ें: जामिया छात्र विरोध के दौरान घायल छात्र ज़िंदा है

इस बारे में जब बूम ने मुफ़्ती से पूछा तो उन्होंने कहा की, "हाशिम सिद्दीकी का दारुल उलूम से कोई ताल्लुक़ नहीं था वो केवल जमीअत इ हिन्द के ट्रेज़रर थे | फतवा का बिभाग दारुल उलूम के अंदर आता है, जमीयत के अंतर्गत नहीं आता है | इस बातों में कोई सम्बन्ध ही नहीं है |"

"यह केवल फ़र्ज़ी अफ़वाह है दारुल उलूम की तरफ से कोई फतवा जारी नहीं हुआ है," उन्होंने कहा |

Claim Review :  दारुल उलूम देवबंद ने बीजेपी के ख़िलाफ जारी किया है फतवा और कहा की मुसलामानों को बीजेपी को वोट देने की जरूरत नहीं
Claimed By :  Facebook posts
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story