मराठी अख़बार लोकमत ने कोविड-19 को बायोवेपन बताने वाले फ़र्ज़ी लेख को सही माना

यह लेख आर / नोस्लीप नाम के रेड्डिट फोरम से लिया गया है, जहाँ लोग जीवन की घटनाओं से प्रेरित काल्पनिक कहानियाँ पोस्ट करते हैं।

मराठी दैनिक लोकमत के अंग्रेजी एडिशन ने हाल ही में एक लेख प्रकाशित किया है, जिसमें दावा किया गया है कि एक चीनी ख़ुफ़िया अधिकारी ने बायोवेपन (जैविक हथियार) के कारण कोरोनावायरस का प्रकोप होने का विवरण लीक किया है। यह दावा झूठा है। कहानी की उत्पत्ति रेड्डिट फोरम से हुई है जिसे आर/ नोस्लीप कहा जाता है, जहाँ यूज़र काल्पनिक डरावनी कहानियों को शेयर करते हैं जो अक्सर वास्तविक घटनाओं से प्रेरित होती हैं।

यह कहानी हाल ही में, UFOSpotlight नामक एक ब्लॉगपोस्ट पर प्रकाशित होने के बाद वायरल हुई थी, जिसे बूम ने ख़ारिज किया था।

यह भी पढ़ें: जी नहीं, ये मुस्लिम युवक 'बर्तन चाट कर' कोरोना वायरस नहीं फ़ैला रहें हैं

हालांकि, लोकमत के लेख को अब हटा लिया गया है। लेख में दावा किया गया था कि एक चीनी ख़ुफ़िया अधिकारी ने कोरोनावायरस महामारी के वास्तविक स्रोत का खुलासा किया है। अधिकारी की कहानी के अनुसार, नोवेल कोरोना वायरस एक वायरस नहीं है, बल्कि एक जैविक हथियार है, जो तब लीक हुआ था जब एक चीनी "गद्दार" ने इसे संयुक्त राज्य अमेरिका में बेचने की कोशिश की थी।

यहाँ लेख से एक अंश है:

"एक चीनी अधिकारी के अनुसार, अमेरिका की इंटेलिजेंस एजेंसी को भी इस जैविक एजेंट की ख़बर मिली थी और सीआईए भी इसमें दिलचस्पी ले रही थी। अमेरिका ने पहले ही वायरस पकड़ लिया था जिसे चीन ने लैब में बनाया था। चीनी अधिकारी ने अपने लेख में लिखा कि चीन और अमेरिका के बीच वायरस के लेन-देन पर सौदा क्यों नहीं हो सका। अधिकारी ने लिखा, "हमारे अमेरिकी दोस्तों ने भी वायरस में रुचि दिखाई। हमारे सीआईए के साथ अच्छे संबंध हैं लेकिन क्योंकि यह बहुत खतरनाक था, हमने इनकार कर दिया। सीआईए को लगा कि हमने एक बहुत ही शक्तिशाली चीज बनाई है और चीन इसे अपने पास रखना चाहता है। यूएस इंटेलिजेंस एजेंसी ने एक चीनी शोधकर्ता को एक बड़ी रकम की पेशकश की और उस वायरस की मांग की। शोधकर्ता ने वायरस का जो नमूना अमेरिकी एजेंसी सेक्टर को बेचा वह तैयार था।

जब अमेरिकी एजेंट और चीन के शोधकर्ता के बीच वायरस को लेकर डील हो रही थी, तो चीन को एक सुराग मिला। गोलीबारी हुई जिसमें कई लोगों की मौत हो गई। हालांकि, अमेरिकी एजेंट भागने में सफल रहा। यह शूट पशु बाजार के पास हुआ, और शीशी जिसमें वायरस का नमूना था, उस पर गिर गया। यही कारण है कि वुहान में यह वायरस फैल गया। चीन ने यह कहते हुए इसे छिपाने की कोशिश की कि यह चमगादड़ से फैलता है। चीन ने लोगों से झूठ बोला कि वुहान में केवल फ्लू फैला है, लेकिन धीरे-धीरे पूरी दुनिया उस वायरस की चपेट में आ गई जो चीन ने अपनी लैब में बनाया था।"

फ़ैक्टचेक

बूम ने पाया कि कहानी का वास्तविकता से कोई संबंध नहीं है, और इसकी उत्पत्ति आर/ नोस्लीप नाम के एक रेड्डिट फ़ोरम से हुई जहां लोग वास्तविक घटनाओं के आधार पर अक्सर काल्पनिक डरावनी कहानियों को साझा करते हैं। वुहानवायरसथ्रोअवे नाम के यूज़र ने रेडिट फोरम में काल्पनिक कहानी प्रकाशित की।

यह भी पढ़ें: अज़रबैज़ान का वीडियो, स्पेन पुलिस द्वारा लॉकडाउन के फ़र्ज़ी दावे के साथ वायरल

फ़ोरम आर/ नोस्लीप उन उपयोगकर्ताओं के लिए दिशा-निर्देश पेश करता है जिनमें कहा गया था कि इसमें लिखे गए प्लॉट कल्पना की उत्पत्ति हैं और इनमें कोई वास्तविक जानकारी नहीं है। नीचे फोरम के दिशानिर्देश देखे जा सकते हैं।

  • पाठकों को अभिनय करना है जैसे कि सब कुछ सच है और टिप्पणियों में इस तरह से व्यवहार करें।
  • कोई बहस, अविश्वास, या आलोचना (रचनात्मक या अन्यथा) नहीं।
  • प्रूफ, या tl; डार / सारांश के लिए नहीं पूछें।
  • एक-दूसरे के प्रति सम्मान रखें।
  • टिप्पणियों का चर्चा में योगदान होना चाहिए।
  • उन सभी टिप्पणियों की रिपोर्ट करें जो इन नियमों का उल्लंघन करती हैं।

नीचे उसी का स्क्रीनशॉट दिया गया है।


इसके अलावा, अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू) अनुभाग में यह भी कहा गया है कि फोरम में सूचीबद्ध कहानियों को सच नहीं माना जाना चाहिए। एफएक्यू के एक अंश में लिखा है, "क्या यहां की कहानियां सच हैं? शायद नहीं - लेकिन जब आप आर/ नोस्लीप में हो तो सब कुछ सच है। नोस्लीप के बाहर, एक कहानी तथ्य हो सकती है या काल्पनिक हो सकती है। महत्वपूर्ण बात यह है कि जब आप यहाँ हैं तब तक समझें कि घटनाओं का वर्णन सच है। "

यह भी पढ़ें: मुंबई पुलिस के नाम से वायरल व्हाट्सएप्प ऑडियो क्लिप फ़र्ज़ी हैं

विश्वसनीय बनाने के लिए आर/ नोस्लीप पर कहानियों को बढ़ा-चढ़ा पर लिखा जाता है, लेकिन ये कहानियां काल्पनिक होती हैं। इसलिए ऐसी कहानियों को लोग अक्सर सच समझ लेते हैं।

स्नोप्स ने पहले इसका फ़ैक्टचेक किया था।

Updated On: 2020-04-02T16:30:11+05:30
Claim Review :  कोरोनावायरस महामारी वुहान में लीक हुए जैविक हथियार को छुपाने का तरीका है
Claimed By :  Lokmat
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story