पुलिस ने दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिम घरों में नहीं छोड़ी केमिकल गैस

यह वीडियो 17 दिसंबर, 2019 से वायरल है और शहर में हाल ही में हुए हिंसा से असंबंधित है।

दिल्ली में हुए दंगों के मद्देनज़र एक परेशान परिवार का फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| इसमें उन्होंने शिकायत की है कि उनके घर में केमिकल गैस छोड़ी गयी है। वीडियो के साथ दिए गए कैप्शन में इसे दिल्ली में हुए हालिया दंगों से जोड़ा गया है और दावा किया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस, दिल्ली के जाफ़राबाद के पास मुस्लिम घरों में केमिकल गैस छोड़ रही है। यह दावा ग़लत है|

यह वीडियो 17 दिसंबर, 2019 से मौजूद है और 23 फ़रवरी से 25 फ़रवरी, 2020 के बीच दिल्ली में हुए दंगों से संबंधित नहीं है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के अशोक नगर कि मस्जिद में तोड़फोड़ और आगजनी कि घटना सच है

39-सेकंड की क्लिप को दिनेश मिश्रा एसपी (@DineshmishraRm) नाम के यूज़र ने 25 फ़रवरी, 2020 को निम्नलिखित कैप्शन के साथ ट्वीट किया था:

"दिल दहला देने वाली घटना। #दिल्ली के जफराबाद का वीडियो है, दिल्ली पुलिस मुसलमानों के घरों में केमिकल गैस छोड़ रही है जिससे छोटे छोटे मासूम बच्चों की हालत बेहद खराब है शर्म करो कम से कम इन बच्चों का तो ख्याल करो।"

( ट्वीट के अर्काइव वर्शन के लिए यहां क्लिक करें )

इस ट्वीट को 1000 बार से ज़्यादा बार रीट्वीट किया गया है और करीब 1100 बार लाइक किया गया हैै।

ऐसा ही वीडियो फेसबुक पर भी, ठीक इसी कैप्शन के साथ वायरल हुआ है।

फ़ैक्टचेक

बूम ने वीडियो पर "सीटीवी न्यूज़ इंडिया" का लोगो पाया, जिसके ज़रिए हम एक यूट्यूब चैनल तक पहुंचे, जिसमें इसी नाम और लोगो का इस्तेमाल किया गया था। इन वीडिओज़ की सूची की जांच करने पर 18 दिसंबर, 2019 को चैनल द्वारा पोस्ट किए गए मूल वीडियो तक पहुंचे। यह वीडियो 15 दिसंबर, 2019 को दिल्ली के विभिन्न हिस्सो में व्यापक हिंसा के बाद पोस्ट किया गया था।

फेसबुक और ट्विटर पर इस कैप्शन की खोज करने पर, हमने पाया कि 17 दिसंबर, 2019 से सीटीवी न्यूज़ इंडिया के फेसबुक पेज सहित कई यूज़रों ने इसी कैप्शन के साथ यह वीडियो शेयर किया है।


फुटेज के पीछे के संदर्भ को बूम स्वतंत्र रूप से सत्यापित नहीं कर सका है। हमने घरों में छोड़ने वाले केमिकल गैस के उदाहरणों को खोजने के लिए कई कीवर्ड के साथ खोज की, लेकिन कोई प्रासंगिक लिंक नहीं मिला।

यह भी पढ़ें: दिल्ली दंगे: हिन्दू महिला पर हमले का दावा फ़र्ज़ी है और तस्वीरें पुरानी हैं

हालाँकि, इंटरनेट पर दो महीने से अधिक समय से मौजूद होने के कारण यह साफ़ है कि वीडियो उत्तरी पूर्वी दिल्ली में हुए हिंसा से संबंधित नहीं है।

Claim Review :  वीडियो दर्शाता है की दिल्ली पुलिस मुस्लिमों के घर में केमिकल गैस छोड़ रही है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story