कोरोनावायरस पर वायरल ऑडियो क्लिप को डॉ देवी शेट्टी ने रिकॉर्ड नहीं किया है

बूम ने पाया कि वायरल ऑडियो चेन्नई के ऑर्थोपेडिशियन डॉ संतोष जैकब ने रिकॉर्ड की है।

व्हाट्सएप्प पर एक जाने-माने कार्डियक सर्जन, डॉ देवी शेट्टी के नाम से एक ऑडियो क्लिप वायरल हो रहा है। क्लिप के साथ दावा किया जा रहा है कि डॉ शेट्टी ने लोगों को लक्षण दिखाने के नौवें दिन तक कोरोनावायरस का टेस्ट ना कराने की सलाह दी है। यह दावा ग़लत है।

भ्रामक संदेश एक ऑडियो क्लिप के साथ शेयर किया जा रहा है। बूम ने पता लगाया कि यह क्लिप चेन्नई के एक ऑर्थोपेडिशियन डॉ संतोष जेकब द्वारा रिकॉर्ड किया गया है। डॉ जेकब ने हमें बताया कि यह ऑडियो मैसेज उन्होंने अपने व्यक्तिगत ग्रूप में केवल एक दोस्त को आश्वस्त करने के लिए भेजा था।

फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर यह मैसेज डॉ देवी शेट्टी का नाम लेकर झूठे दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। क्लिप के साथ दिए गए कैप्शन में लिखा है, 'मैं सभी से अनुरोध करता हूं कि इस ऑडियो को एक बार जरूर सुने। #कोविड-19 के बारे में डॉ शेट्टी सर कुछ महत्वपूर्ण बात कह रहे हैं।"

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस: भारत ने जारी नहीं की है प्रतिबंधित गतिविधियों की सूची

डॉ देवी शेट्टी नारायण हेल्थ संस्थापक हैं - नारायण हेल्थ विशेष रुप से हृदय का इलाज करने वाले अस्पताल की एक श्रृंखला है।

इसे बंगाली समाचार आउटलेट ईआई समय द्वारा भी शेयर किया गया था, जिसमें डॉ देवी शेट्टी को ग़लत तरीके से श्रेय दिया था।


कहानी का लिंक यहां है और अर्काइव तक यहां पहुंचा जा सकता है।

यह ऑडियो पहले भी वायरल हुआ था लेकिन उसमें, किसी नाम का उल्लेख नहीं किया गया था, हालांकि कैप्शन में इसे "महत्वपूर्ण जानकारी" बताया गया था।


ऑडियो मैसेज

वायरल ऑडियो मैसेज में आम फ्लू के लक्षणों के बारे में बताया गया है और लोगों से केवल सामान्य फ्लू के लक्षण बिगड़ने या कम नहीं होने पर टेस्ट कराने के लिए कहा गया है। ऑडियो में मरीज़ के आम फ्लू से प्रभावित होने के 9 दिनों के लिए लक्षण के बारे में बताया गया है और कहा गया है कि, "अगर आपको लगता है कि आपके लक्षण सुधरने के बजाय बिगड़ रहे हैं, तो आप कोविड-19 हेल्पलाइन को कॉल करें क्योंकि भारत में इस समय केवल 1,50,000 टेस्ट हैं। हमें अधिकतम 1.5 मिलियन ही मिलने की संभावना है।" वे आगे कहते हैं कि मरीजों को "केवल इसलिए टेस्ट करवाने नहीं जाना चाहिए क्योंकि वे डरे हुए हैं।"

यह भी पढ़ें: फ़र्ज़ी क्वोट का दावा - सचिन तेंदुलकर ने मीट की दुकानों पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा

ऑडियो में द रोटरी क्लब का उल्लेख है और यह कहते हुए सुना जा सकता है कि " रोटरी के रूप में भारत को कोविड-19 से लड़ने में मदद करना हमारी जिम्मेदारी है।"

फ़ैक्टचेक

बूम ने डॉ शेट्टी की टीम से संपर्क किया जिन्होंने इस बात से इनकार किया कि उन्होंने ऐसी कोई रिकॉर्डिंग की थी। उनकी टीम के सदस्यों में से एक ने कहा, "यह उनकी आवाज नहीं है और डॉ शेट्टी ने ऑडियो रिकॉर्डिंग पर ऐसी कोई सलाह जारी नहीं की है।"

ऑडियो मैसेज में रोटरी के उल्लेख से संकेत लेते हुए, बूम ने फेसबुक पर एक विशेष कीवर्ड खोज की और एक टिप्पणी तक पहुंचा, जहां ऑडियो में स्पीकर की पहचान चेन्नई के डॉ संतोष जैकब के रूप में की गई थी।

हमने तब डॉ जैकब से संपर्क किया, जो चेन्नई में ऑर्थोपेडिक्स एंड स्पोर्ट्स इंजरी मैनेजमेंट, बी वेल हॉस्पिटल्स के प्रमुख हैं। बूम से बात करते हुए, डॉ जैकब ने पुष्टि की उन्होंने ही यह ऑडियो रिकॉर्ड किया था लेकिन वे आश्चर्यचकित थे कि यह वायरल हो गया है। उन्होंने कहा कि, "मैसेज रोटरी सदस्यों के एक व्यक्तिगत ग्रूप को भेजा गया था, जब उनमें से एक सदस्य कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप को लेकर काफी चिंतित था। यह संदेश सिर्फ लक्षणों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए था और बताया गया था कि कैसे और कब किसी डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।"

डॉ जैकब ने समझाया कि वह भारत में रोटरी क्लब के सदस्य हैं, और इस मैसेज का मतलब यह नहीं था कि लोगों को अस्पतालों में नहीं जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि "मैं एक दोस्त को समझाने की कोशिश कर रहा था, कि जो लोग अपने लक्षणों को समझने और ट्रैक करने में सक्षम हैं, उन्हें ऐसा करना चाहिए और सामान्य फ्लू चार्ट से अलग लक्षण दिखने के बाद ही संपर्क करना चाहिए।"

बूम के लाइवब्लॉग को यहाँ देखें|

Claim Review :  डॉ देवी शेट्टी ने ऑडियो रिकॉर्ड कर लोगों को कोरोनावायरस का टेस्ट न कराने को कहा
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story