क्या नासा ने सूर्य से निकलने वाली 'ओम' ध्वनि रिकॉर्ड की?

किरण बेदी ने एक प्रवर्धित वीडियो शेयर किया, जो नासा द्वारा शेयर किए गए वीडियो से अलग है।

पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने शनिवार को एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें भ्रामक रूप से दावा किया गया कि नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) ने सूरज से निकलने वाली ध्वनि के रूप में 'ओम' रिकॉर्ड किया है।

बेदी ने जो वीडियो ट्वीट किया है, वह मूल वीडियो नहीं है जिसे नासा ने 2018 में जारी किया था, बल्कि यह एक अलग वीडियो है जिसमें 'ओम' की ध्वनि सुनी जा सकती है।

इसके अलावा, नासा ने ओम और सूरज की 'ध्वनि' से संबंधित कोई बयान नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें:सालों पुरानी तस्वीर को भारतीय सेना के ख़िलाफ किया गया इस्तेमाल

4 जनवरी, 2020 को बेदी ने नीचे दिया गया वीडियो ट्वीट किया जिसके बाद वह फौरन वायरल हो गया। वीडियो में उल्लेख किया गया है कि प्राचीन सभ्यताओं को एक ध्वनि के बारे में पता था जो सूरज से निकलता है और इसलिए इसकी पूजा की जाती है।

बेदी के ट्वीट के साथ ही तेलुगु चैनल स्नेहा टीवी द्वारा 2018 की न्यूज़ क्लिपिंग भी इसी दावे के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हुई है।

बूम को अपने हेल्पलाइन नंबर पर कई यूज़र्स ने यह वीडियो भेजा और इसकी सच्चाई पूछी है।


यह भी पढ़ें: क्या पृथ्वी की ये तस्वीरें वाकई चंद्रयान 2 द्वारा भेजी गई हैं?

फ़ैक्ट चेक

बूम ने बेदी के ट्वीट में वीडियो में उल्लिखित लोगो को देखा और यूट्यूब पर शेयर किए गए 2017 का वीडियो पाया। बेदी की 1:50 सेकंड की क्लिपिंग को इस 3:20 सेकंड के वीडियो से निकाला गया है।

हमने यह भी पाया कि 'ओम मंत्र' से मिलता जुलता वीडियो और ऑडियो उस मूल वीडियो से नहीं है जिसे नासा ने 2018 में जारी किया था।

आगे की जाँच करने पर, बूम ने पाया कि स्नेहा टीवी ने जिस वीडियो का इस्तेमाल किया है, वह चार साल पहले 'इट हैपन्स ओनली इन इंडिया' नामक फ़ेसबुक प्रोफाइल द्वारा शेयर किए गए एक अन्य वीडियो के समान है। स्नेहा टीवी और किरण बेदी द्वारा शेयर किए गए वीडियो का ऑडियो एक ही है, लेकिन विभिन्न ग्राफिक्स का इस्तेमाल करके वीडियो बनाए गए हैं। फ़ेसबुक वीडियो के कैप्शन में वैज्ञानिक शब्दजाल का उपयोग करते हुए बताया गया है कि कैसे नासा ने सूर्य की ध्वनि को रिकॉर्ड किया और फिर एक प्रवर्धित ध्वनि को बजाया जो भारतीय मंत्र के समान है। यह पोस्ट में शेफ़ील्ड विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक अध्ययन का संदर्भ भी दिया गया है, जिसमें ध्वनि प्राप्त करने में नियोजित तकनीक और 'ओम' मंत्र में महत्व और आध्यात्मिकता की व्याख्या की गई है।

2010 में किए गए शेफ़ील्ड अध्ययन के इस विश्वविद्यालय ने सूरज के वातावरण में विशाल चुंबकीय छोरों को पाया, लेकिन ध्वनि तरंगों को रिकॉर्ड नहीं किया क्योंकि ध्वनि वैक्यूम के माध्यम से यात्रा नहीं कर सकती है। इस अध्ययन में 'ओम' शब्दांश का उल्लेख भी नहीं है।

फ़ेसबुक पोस्ट में आगे बताया गया है कि नासा ने ऐसा कोई बयान जारी नहीं किया है जो ध्वनि को शब्दांश / मंत्र के रूप में संदर्भित करता है, लेकिन यह कहा गया है कि गुंजन की 'ओम' के रूप में व्याख्या की जा सकती है|

यह भी पढ़ें: क्या वीडियो से पता चलती है असम डिटेंशन सेंटर की क्रूरता?

नासा का मूल वीडियो

नासा ने जुलाई 2018 में सूर्य की ध्वनि पर किए गए शोध को जारी किया, जिसमें उन्होंने ईएसए (यूरोपियन स्पेस एजेंसी) और नासा के सोलर एंड हेलिओस्फेरिक ऑब्जर्वेटरी (एसओएचओ) के डाटा को दिखाया। उन्होंने 20 वर्षों से सूर्य के वातावरण के गतिशीलता को कैप्चर किया।

नासा के आधिकारिक यूट्यूब चैनल ने एक रॉ ऑडियो के रूप में सूर्य के सोनिफिकेशन और फ्रिक्वेंसी को दर्शाते हुए दो वीडियो अपलोड किए और ग्रीनबेल्ट, मैरीलैंड में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में हेलियोफिज़िक्स साइंस डिवीजन में साइंस के लिए एसोसिएट डायरेक्टर, एलेक्स यंग द्वारा वॉयसओवर के साथ एक और वीडियो अपलोड किया।


वीडियो में कहा गया है कि हर दूसरे पदार्थ की तरह, सूरज में भी तरंगें और फ्रिक्वेंसी होती हैं। नासा ने इस फ्रिक्वेंसी को ध्वनि में परिवर्तित करने के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग किया है, ताकि सौर फ्लेयर्स से लेकर कोरोनल मास इजेक्शन तक, सूरज के अंदर कई जटिल गतियों का अध्ययन करने में यह वैज्ञानिकों को सहायता प्रदान करे, जैसा कि नासा ने कहा है।

नासा ने भी जुलाई 2018 में यह ट्वीट किया था।

ऑडियो साउंडक्लाउड पर भी उपलब्ध है। नासा ने 'ओम' के समान ध्वनि / गुनगुनाहट के साथ कोई बयान नहीं दिया है। बूम ने नासा से यह स्पष्टीकरण मांगने के लिए संपर्क किया कि क्या वैज्ञानिकों को 'ओम' से कोई समानता मिली है। जवाब प्राप्त होने पर कहानी को अपडेट किया जाएगा।

Updated On: 2020-01-06T18:58:40+05:30
Claim Review :  नासा ने सूर्य से निकलने वाली ओम ध्वनि रिकॉर्ड की
Claimed By :  Kiran Bedi
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story