क्या राम मंदिर भूमि पूजन के पहले अयोध्या को भगवा रंग से रंग दिया गया है?

बूम ने पाया कि तस्वीरें फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल हैं । वास्तविकता यह है कि तस्वीरें प्रयागराज से हैं

चार तस्वीरों का एक सेट वायरल है जिसमें भगवा रंग से रंगी कुछ इमारतें हैं और उनपर हिन्दू देवी-देवता बने हुए हैं । इसके साथ एक फ़र्ज़ी दावा किया जा रहा है कि अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन, जो 5 अगस्त को होना है, से पहले भगवा रंग में रंग दिया गया है ।

बूम ने पाया कि वायरल हो रही तस्वीरें दरअसल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से हैं न कि अयोध्या से ।

यह तस्वीरें अब इसलिए वायरल हैं क्योंकि अगले हफ़्ते अयोध्या की एतिहासिक जमीन पर राम मंदिर के निर्माण का भूमि पूजन होना है । रिपोर्ट्स की माने तो भूमि पुजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे । कोरोनावायरस महामारी के चलते शामिल होने वालों की संख्या केवल 200 रखी गयी है । यहाँ और पढ़ें

यह भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण: कपिल सिब्बल के नाम से फ़र्ज़ी बयान वायरल

इन तस्वीरों के साथ हिंदी में दावा है: "5 अगस्त के लिए अयोध्या तैयार, पुरे अयोध्या शहर को भगवा रंगो से सजा दिया!!! बोलो जोर से जय श्री राम जय श्री राम"

पोस्ट्स नीचे देखें और इनका अर्काइव्ड वर्शन यहाँ और यहाँ देखें ।


यही तस्वीरें फ़र्ज़ी दावों के साथ ट्विटर पर भी वायरल है ।

फ़ैक्ट चेक

बूम ने रिवर्स इमेज सर्च किया और इन तस्वीरों को कई न्यूज़ रिपोर्ट्स में प्रकाशित पाया ।

जबकि तीन तस्वीरें हाल में प्रयागराज में ली गयी थीं, चौथी तस्वीर 2019 के अर्ध कुम्भ के दौरान प्रयागराज में ली गयी थी । चारों तस्वीरें प्रयागराज की हैं ।

1, 2, 3 तस्वीरें


बूम ने पाया की यह तस्वीर डेक्कन हेराल्ड द्वारा प्रकाशित 15 जुलाई की एक रिपोर्ट में मौजूद है । इसमें फ़ोटो क्रेडिट पीटीआई को देते हुए जगह प्रयागराज बताई गई है ।


इस रिपोर्ट के अनुसार, प्रयागराज के एक व्यक्ति ने प्राथमिकी दर्ज की थी की कथित तौर पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के कहने पर कुछ लोगों ने उसका घर भगवा रंग में रंग दिया था ।

नीचे रिपोर्ट देखें ।

बूम ने पाया कि ए.एन.आई यूपी के सत्यापित ट्विटर हैंडल ने इस घटना की जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी थी और चार तस्वीरें भी शेयर की थी जिनमे से कम से कम एक अभी वायरल हुए वायरल हुए तस्वीरों के सेट से मेल खाती है ।

रवि गुप्ता ने एक वीडियो भी रिकॉर्ड किया है जो वायरल हो गया है ।

इस दौरान मिनिस्टर ने आरोप खारिज़ करते हुए कहा कि रंग शहर को सुंदर बनाने के लिए किया गया है ।

हमने वायरल तस्वीर और प्रयागराज की इन तस्वीरों की तुलना की ।


एन.डी.टी.वी की रिपोर्ट में भी यह जगहें हैं ।




चौथी तस्वीर


हमने इस तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च किया और इसे 2018 में प्रकाशित पाया | संजय कनोजिया द्वारा खींची गयी तस्वीर को गेट्टी इमेज की वेबसाइट पर पाया जो 9 दिसंबर, 2018 को अपलोड की गयी थी | फोटो का कैप्शन यूँ है: "भारतीय कलाकार 9 दिसंबर 2018 को इलाहाबाद में शास्त्री पूल के खम्भों को रंग रहे हैं जो गंगा नदी पर बना है | यह पेंट माय सिटी प्रोजेक्ट का हिस्सा है | - पेंट माय सिटी आने वाले कम्भ मेले के लिए है जो इलाहाबाद में आयोजित होगा | (फोटो क्रेडिट संजय कनोजिया / AFP ) (फोटो क्रेडिट ऐसे पढ़ें संजय कनोजिया/AFP वाया गेट्टी इमेजेज़) | अर्ध कुम्भ इलाहावाद में (अब प्रयागराज) 15 जनवरी से 4 मार्च 2019 तक आयोजित हुआ था |"

हमनें इस तस्वीर की तुलना वायरल तस्वीर से की |


इसके अलावा बूम ने अयोध्या डीआईजी से संपर्क किया जिन्होंने कहा की शहर में कोई भगवा रंग की पुताई नहीं की गयी है |

Claim Review :   राम मंदिर भूमि पूजन के पहले अयोध्या को भगवा रंग से रंगा गया है
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story