शाहीन बाग़ में बलात्कार पर भाजपा के नेता की टिप्पणी से अमित शाह का इंकार झूठ है

बूम ने पाया कि दिल्ली में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी नेता परवेश वर्मा ने विवादित टिप्पणी की थी।

भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने इस बात से 'इंकार' किया है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के किसी भी नेता ने कहा 'शाहीन बाग में प्रदर्शनकारी घरों में घुसेंगे और महिलाओं के साथ बलात्कार करेंगे'। शाह का यह कहना ग़लत है क्योंकि बीजेपी सांसद परवेश वर्मा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव से कुछ सप्ताह पहले यह टिप्पणी की थी।

13 फरवरी, 2020 को टाइम्स नाऊ चैनल द्वारा आयोजित एक शिखर सम्मेलन में, चैनल की मैनेजिंग एडिटर, नविका कुमार द्वारा साक्षात्कार के दौरान गृह मंत्री ने इस आरोप को ख़ारिज किया।

कुमार ने मंत्री से दिल्ली में संपन्न विधानसभा चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन के बारे में पूछा, जहां बीजेपी ने 8 सीटें जीतीं, जबकि आम आदमी पार्टी ने 70 में से 62 सीटें जीतीं।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने उमर अब्दुल्ला पर निशाना साधते हुए 'फ़ेकिंग न्यूज़' का हवाला दिया

कुमार ने गृह मंत्री से यह भी सवाल किया कि क्या परवेश वर्मा सहित बीजेपी के नेताओं द्वारा चुनाव में की गई कुछ विवादास्पद टिप्पणियों ने पार्टी को नुकसान पहुंचाया है। कुमार ने चुनाव की तुलना भारतीय-पाकिस्तान क्रिकेट मैच से करने वाले कपिल मिश्रा के ट्वीट और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर द्वारा रैली में देशद्रोहियों को गोली मारने वाले नारे (देश के गद्दारों को, गोली मारो सालों को) का उदाहरण दिया।

इसके जवाब में, शाह ने कहा, "किसी ने भी ऐसा कोई बयान नहीं दिया कि बेटियों और बहुओं के साथ बलात्कार किया जाएगा| इसके अलावा अन्य चीजें जो आपने कही हैं, ऐसी टिप्पणियां भी नहीं करना चाहिए, पार्टी ने इनसे [बयानों से] खुद को जल्दी दूर किया है।"

जबकि शाह ने स्वीकार किया कि कुछ बयान नहीं दिए जाने चाहिए थे, उन्होंने इस बात से इंकार किया कि बलात्कार के बारे में कोई टिप्पणी की गई थी। सवाल और शाह का जवाब 8.35 मिनट पर सुना जा सकता है।


फ़ैक्ट चेक

बूम ने पाया कि दिल्ली बीजेपी के सांसद परवेश साहिब सिंह वर्मा ने 28 जनवरी, 2020 को एएनआई से बात करते हुए विवादित टिप्पणी की, जिसे शाह ने अस्वीकार कर दिया।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी का दावा, 2014 से एनआरसी पर सरकार द्वारा कोई चर्चा नहीं की गई

दिल्ली का शाहीन बाग राजधानी में नए नागरिकता कानून के ख़िलाफ विरोध प्रदर्शन का चेहरा बन गया है| इसका नेतृत्व मुख्य रूप से मुस्लिम महिलाएं कर रही हैं। विरोध ने बड़ी संख्या में आलोचकों को भी आकर्षित किया है जो अन्य कारणों के साथ-साथ यह भी तर्क देते हैं कि इससे शहर के निवासियों को असुविधा होती है।

परवेश वर्मा की टिप्पणी शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन के संदर्भ में थी। नीचे एएनआई को दिए गए उनके बयान का अनुवाद है।

"देखो अरविंद केजरीवाल भी कहते हैं कि मैं शाहीन बाग के साथ हूं और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी कहते हैं कि मैं शाहीन बाग के साथ हूं। दिल्ली की जनता आग को जानती है, जो कुछ साल पहले कश्मीर में शुरू हुई थी, वहां कश्मीरी पंडितों की बहनों और बेटियों के साथ बलात्कार किया गया और फिर उस आग को यूपी, हैदराबाद, केरल में जलाया गया| आज वह आग दिल्ली के एक कोने में है। वहां (शाहीन बाग) लाखों लोग जमा हैं, और यह आग कभी भी दिल्ली में लोगों के औऱ हमारे घरों तक पहुंच सकती है। दिल्ली के लोगों को सोचना होगा और फैसला लेना होगा। ये लोग आपके घरों में घुसेंगे, आपकी बहनों और बेटियों के साथ बलात्कार करेंगे और उन्हें मार डालेंगे। इसीलिए आज समय है, मोदी जी और अमित शाह कल आपको बचाने नहीं आएंगे।"

"आज समय है, आज अगर दिल्ली के लोग जागते हैं, तो यह अच्छा होगा, वे महसूस करें कि वे आज सुरक्षित हैं और वे तब तक सुरक्षित महसूस करेंगे जब तक देश के प्रधानमंत्री मोदी जी हैं, अगर कोई और प्रधानमंत्री बन जाता है तो इस देश के लोग सुरक्षित महसूस नहीं करेंगे ।" विवादास्पद बयान को 50 सेकंड के टाइमस्टैम्प से देख सकते हैं।


Updated On: 2020-02-14T18:26:31+05:30
Claim Review :  अमित शाह ने कहा की किसी ने भी बेटियों और बहुओं के साथ बलात्कार पर बयान नहीं दिया है
Claimed By :  Home Minister Amit Shah
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story