तीस लाख नॉन-गज़ेटेड कर्मचारियों को 3,737 करोड़ रूपए बोनस

यह बोनस विजयादशमी के पहले एक किश्त में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर द्वारा दिया जाएगा |

आज केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केंद्र सरकार के तीस लाख नॉन-गज़ेटेड (Non-Gazetted) कर्मचारियों के लिए 3,737 करोड़ रूपए के बोनस (Bonus) का ऐलान किया है |

यह बोनस विजयादशमी के पहले एक किश्त में डायरेक्ट बेनेफ़िट ट्रांसफर द्वारा दिया जाएगा, जो मध्यम वर्ग (middle class) के लोगों को खर्च करने के लिए प्रोत्साहित करेगा और अर्थव्यवस्था डिमांड को बढ़ावा देगा, जावड़ेकर ने कहा |

"आज कैबिनेट द्वारा लिए गए निर्णय के अंतर्गत विजयादशमी या दुर्गा पूजा से पहले 30 लाख नॉन गज़ेटेड कर्मचारियों को Rs 3,737 करोड़ का बोनस दिया जाएगा," जावड़ेकर ने ट्वीट भी किया |

मुख्य बातें:

  1. तीन लाख केंद्रीय नॉन-गज़ेटेड कर्मचारियों को बोनस
  2. बोनस का कूल मूल्य है 3,737 करोड़ रूपए
  3. दिवाली से पहले मिलेगा या बोनस

नहीं, बिल गेट्स ने भारतवासियों के लिए यह नहीं बोला है

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक स्थिति के लिए 12 अक्टूबर को त्योहारों के पहले 73,000 करोड़ रुपये के 'डिमांड पुश' (demand push) का ऐलान किया था | दो स्कीमें लायी गयीं थीं, पहली है, एलटीसी कॅश वाउचर स्कीम और दूसरी स्पेशल फेस्टिवल एडवांस (special festival) स्कीम | यह केंद्र सरकार और पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों के लिए है |

तीस लाख नॉन-गज़ेटेड कर्मचारी

इन स्कीमों के तहत त्योहारों के पहले करीब तीस लाख सरकारी कर्मचारियों को बोनस दिया जाएगा | इसमें से 17 लाख कमर्शियल एस्टेब्लिशमेंट (रेलवे, पोस्ट ऑफ़िस, रक्षा उत्पादन आदि) में काम करने वाले कर्मचारियों को 2,791 करोड़ रूपए बोनस मिलेगा और सरकार में काम करने वाले 13 लाख कर्मचारियों को नॉन-प्रोडक्टिविटी लिंक्ड (non productivity linked) बोनस मिलेगा जो 946 करोड़ रूपए होंगे |

एलटीसी कॅश वाउचर स्कीम

एलटीसी यानी लीव ट्रेवल कन्सेशन वह प्रणाली है जिसके अंतर्गत कर्मचारी चार साल के अंतराल में दो बार दस दिन की छुट्टी को पैसों में तब्दील कर अपने शहर या किसी और शहर जा सकता है |

जैसा की अब यात्राएं ठप्प हैं तो केंद्र सरकार के कर्मचारी अपने हक़ की एलटीसी फेअर और छुट्टियों के बदले मिलने वाले पैसों को कॅश यानी नगद ले सकते हैं | यह कर्मचारी अब एल.टी.ए (LTA) यानी लीव ट्रेवल अलावेंस या एलटीसी (LTC) के कर-रहित भाग को समान या अन्य सेवाएं खरीदने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं, मिंट वेबसाइट के अनुसार |

भाजपा प्रत्याशी को जूतों की माला पहनाते दिखाता वीडियो मध्यप्रदेश का है

पर इस सेवा का लाभ उठाने के लिए कर्मचारी को ज़रूरी है कि वह "लीव एनकेशमेंट" की जगह मिले रुपयों के बराबर और एलटीसी के दौरान फेअर (किराए) से तीन गुना खर्च करें | यह खर्च किसी डिजिटल तरीके से 31 मार्च 2021 से पहले होने चाहिए | खर्च उन्ही चीज़ों पर हो जो 12 प्रतिशत या उससे अधिक जीएसटी के स्लॉट में होती हैं |

स्पेशल फ़ेस्टिवल एडवांस स्कीम

इस स्कीम के अंतर्गत कर्मचारी 10,000 रूपए का ब्याज रहित लोन ले सकते हैं | इसे उन्हें दस किश्तों में चुकाना होगा | यह पैसा एक "प्रीपेड रुपे कार्ड" के माध्यम से दिया जाएगा जो 31 मार्च 2021 के बाद बंद हो जाएगा | इस्तेमाल किये गए पैसों को किश्तों में जमा करना होगा और जो पैसे इस्तेमाल नहीं किये गए हैं वो लैप्स यानी चूक जाएंगे |

Show Full Article
Next Story