5 जरूरी बातें: कोरोनावायरस के लक्षण, हेल्पलाइन नंबर और वैक्सीन

प्रमुख अस्पताल, हेल्पलाइन और संभावित वैक्सीन से जुड़ी पांच अहम बातें जो आपके लिए ज़रूरी हैं।

चारो ओर कोरोनावायरस ( कोविड-19) का खौफ छाया हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोविड-19 को वैश्विक महामारी के रूप में वर्गीकृत किया है। भारत सरकार ने अब तक कोरोनावायरस बीमारी के 275 मामलों की पुष्टि की है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार इस बीमारी के कारण 4 लोगों की मौत हो गई है।

इस बीच, वायरस का प्रसार पर नियंत्रण पाने के लिए राज्य सरकारें केंद्र के साथ मिलकर अपनी क्षमता बढ़ाने का प्रयास कर रही है।

देश भर में देश भर में 52 कोरोनावायरस परीक्षण केंद्र खोलने के साथ राज्य और संघ स्तर पर हेल्पलाइन जारी की गई है।

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस पर वायरल ऑडियो क्लिप को डॉ देवी शेट्टी ने रिकॉर्ड नहीं किया है

कोरोनावायरस के लक्षण और रोकथाम से जुड़ी पांच अहम जानकारियां बूम आपके लिए लेकर आया है -

1. स्वच्छता है ज़रूरी

डब्लूएचओ ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लोगों को निम्न सावधानियां बरतने की सलाह दी है:


पूरी एडवाइज़री यहां पढ़ सकते हैं।

2. लोगों को सेल्फ क्वारंटीन यानी सबसे अलग हो कर कब रहना चाहिए?

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने निम्नलिखित स्थितियां बताई हैं, जब लोगों को सेल्फ क्वारंटीन में जाना चाहिए:

  • कोविड -19 से संक्रमित किसी व्यक्ति के साथ एक ही घर में रहने वाला व्यक्ति
  • कोई व्यक्ति जो कोविड -19 से संक्रमित किसी अन्य व्यक्ति के करीबी या शारीरिक संपर्क में था, जिसमें हवाई यात्रा भी शामिल है

इसके अलावा, 10 मार्च को एक प्रेस रिलीज़ में मंत्रालय ने उन लोगों को सेल्फ क्वारंटीन में रहने की सलाह दी है जिन्होंने हाल ही में कोविड-19 के प्रसार वाले देशों की यात्रा की है। एडवाइज़री में कहा गया है, "... चीन, हांगकांग, रिपब्लिक ऑफ कोरिया, जापान, इटली, थाईलैंड, सिंगापुर, ईरान, मलेशिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी की हाल ही में यात्रा करने वाले लोगों को देश लौटने वाली तारीख से लेकर 14 दिनों तक सेल्फ क्वारंटीन में रहना चाहिए और उन्हें घर से काम करने की सुविधा मिलनी चाहिए।"

पूरी एडवाइज़री यहां पढ़ें

इसके अलावा मंत्रालय ने सोशल डिस्टन्सिंग यानी सामूहिक जगहों पर लोगों से दूर रहने पर भी एक एडवाइज़री जारी की है, यहाँ पढ़ें|

3. किससे करें संपर्क?

कोविड-19 के लक्षणों में गले में खराश, बुखार, खांसी और छींक और शरीर में दर्द शामिल हैं। यदि किसी में ये लक्षण दिखाई दे रहें हैं या डॉक्टर की सलाह मिलने पर वह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्र सरकार द्वारा समर्पित कोरोनवायरस रोग हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क कर सकता है।

ज़्यादा जानकारी के लिए डैशबोर्ड देखें

4. कहां कराएं जांच

अगर किसी को बीमारी के लक्षण दिख रहे हैं या सरकार द्वारा बात गए देशों की हाल ही में यात्रा की है तो, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने देश भर में 52 केंद्रों शुरू किए हैं।

अस्पतालों और केंद्रों की पूरी सूची यहां देखी जा सकती है।


5. क्या हम कोविड-19 के लिए वैक्सीन विकसित करने के करीब हैं?

बूम ने कम से कम दो देशों - इज़राइल और संयुक्त राज्य अमेरिका के बारे में लिखा है - जो कोरोनावायरस वैक्सीन विकसित करने का प्रयास कर रहे हैं।

इज़राइल में मिगल रिसर्च इंस्टीट्यूट ने कहा है कि वे तीन सप्ताह में वैक्सीन विकसित कर रहे हैं, लेकिन विश्व स्तर पर उपलब्ध होने के लिए मान्यता और अंतर्राष्ट्रीय स्वीकृति की आवश्यकता होगी। यह प्रक्रिया मानव परीक्षणों की अवधि को देखेगी, जिसमें तीन महीने या उससे अधिक समय लगेगा। तो यह कहना ग़लत नहीं होगा कि वैक्सीन अभी प्रारंभिक चरण में ही है।

सैन डिएगो में इनोवियो फार्मास्यूटिकल्स ने वैक्सीन के डिजाइन का एक एल्गोरिथ्म विकसित किया है, लेकिन वास्तविक वैक्सीन का नहीं। वैक्सीन का इस्तेमाल चूहों और गिनी सूअरों पर किया गया है, लेकिन अभी तक मनुष्यों पर ट्रायल के लिए एफडीए स्वीकृति प्राप्त करना है।

यहां तक कि एक पोस्टर में डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि कोई मानक उपचार अब तक मौजूद नहीं है।


हालांकि, आईसीएमआर ने राजस्थान सरकार को कोरोनोवायरस रोग से पीड़ित एक इतालवी दंपति पर एचआईवी दवाओं के संयोजन का उपयोग करने की अनुमति दी, क्योंकि वे श्वसन संबंधी समस्याओं से पीड़ित थे।

Updated On: 2020-06-27T17:17:21+05:30
Show Full Article
Next Story