क्या एक साधू ने कर दी पुलिस वाले की धुनाई?

बूम की छान-बीन में सामने आया की वायरल वीडियो दरअसल पूर्वनियोजित कथानक पर आधारित है ना की किसी असल घटना को दिखाता है

हाल फ़िलहाल में सोशल मीडिया पर साधुओं के ऊपर हुए हमलों को लेकर काफ़ी फ़र्ज़ी दावें हुए हैं | हालांकि देश के कई हिस्सों से साधुओं पर हुए हमलों की खबरें आयी हैं पर उनमे से कई खबरों के साथ फ़र्ज़ी दावे जोड़ कर उन्हें वायरल और सनसनीखेज़ बनाने की कोशिश की गई है | उसी लिस्ट में एक और फ़र्ज़ी दावा जुड़ गया है इस वायरल वीडियो के तौर पर |

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में एक साधू को एक पुलिसकर्मी की पिटाई करते दिखाया गया है | वायरल क्लिप में एक महिला भी दिखाई देती है जो साधु और पुलिस वाले को एक दूसरे से अलग करने की कोशिश कर रही है | वीडियो के अंत में महिला इन दोनों को अलग करने में सफ़ल होती है | स्क्रीन पर हिंदी में एक सन्देश भी लिखा है जो कहता है: अब यह क्या हो रहा है हमारे इंडिया पुलिस के साथ | वहीं वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा है: पुलिस को मारता हुआ ये कौन है, जमाती तो नहीं है |

आपको बता दें की ये वीडियो स्टेज्ड - मतलब पूर्वनियोजित कथानक पर आधारित है | बूम ने पता लगाया की वायरल क्लिप दरअसल कॉन्टिनेंटल रेसलिंग एंटरटेनमेंट (CWE) नामक यूट्यूब चैनल से लेकर कर कांट-छांट करके फ़र्ज़ी दावे के साथ शेयर किया गया है |

भारतीय मूल के अमेरिकी रेसलर दलीप सिंह राणा (द ग्रेट खली) द्वारा संचालित CWE अक्सर ऐसे वीडियोज़ बनाती है और यूट्यूब पर अपलोड करती है |

उन्नाव रेप केस: कुलदीप सिंह सेंगर को नहीं मिली है जमानत

इस वायरल पोस्ट को नीचे देखे और आर्काइव्ड वर्ज़न यहाँ देखिये |

हमें फ़ेसबुक पर यही वीडियो ऐसे ही अन्य कैप्शंस के साथ भी वायरल मिला |


ट्विटर पर भी वायरल वीडियो को फ़र्ज़ी दावों के साथ शेयर किया गया |

फ़ैक्ट चेक

वायरल वीडियो के की-फ़्रेम्स को अलग-अलग कर हमें इन में से एक फ़्रेम की तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च कर पता लगाया की करीब 12 सेकण्ड्स की वायरल क्लिप को असल में कॉन्टिनेंटल रेसलिंग अकादमी नामक ग्रुप के यूट्यूब चैनल पर मार्च 18, 2019 को अपलोड किये गए एक वीडियो से काट कर बनाया गया है |

बूम ने पाया की वायरल वीडियो में दिखाए गए दृश्य CWE चैनल पर अपलोडेड इस वीडियो के 02:47 के टाइम स्टाम्प से शुरू फ़ुटेज से मेल खाता है |

इस वीडियो को नीचे देखें |


इस चैनल के अबाउट कॉलम में जा कर हमें पता चला की यह कॉन्टिनेंटल रेसलिंग एकेडमी यानी CWE का आधिकारिक चैनल है जहाँ वायरल वीडियो में इस्तेमाल हुई क्लिप जैसे कई वीडियो मनोरंजन के लिए एकेडमी के इस चैनल पर अपलोड किए गए है |


बूम ने CWE के बारे में कीवर्ड सर्च कर कई मीडिया रिपोर्ट्स देखा | हमें मालुम हुआ की CWE प्रसिद्ध रेसलर द ग्रेट खली द्वारा जालंधर में स्थित रेसलिंग सिखाने वाली एकेडमी है | वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (WWE) से अलग होने के बाद खली ने इस एकेडमी को भारत में शुरू किया | इस बारे में और यहाँ पढ़िए |

नहीं, ये वीडियो पाकिस्तान में भाजपा कार्यालय खुलने का जश्न मनाते लोगो का नहीं है


वायरल क्लिप में दिखाए गए लोग अक्सर यही किरदार - पुलिस और साधू का - चैनल के अन्य वीडियोज़ में भी निभाते हैं | मसलन पुलिस की वर्दी में दिख रहे शख़्स का स्क्रीन पर दिया गया नाम सिंघम दुबे है | वो अक्सर अन्य वीडियोज़ में भी एक भ्रष्ट पुलिस वाले का किरदार निभाते दिख जाता है |

उसी तरह साधू की वेशभूषा में दिख रहे व्यक्ति का स्क्रीन पर दिया गया नाम बाबा रघुदेव है और वो भी कई अन्य वीडियोज़ में बाबा बना नज़र आता है |

Claim Review :   वायरल वीडियो दावा करता है की एक साधू ने वर्दीधारी पुलिसकर्मी की पिटाई कर दी
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story