मोदी-सचिन की मुलाक़ात की तस्वीर फ़र्ज़ी दावों के साथ वायरल

वायरल दावा है कि, 'लिजिए मालिक की फोटो ऑफिस मे अब और क्या सबूत चाहिए अंधभक्तो गुलामी का.'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की भारत के पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के साथ बातचीत करते हुए एक फ़ोटो वायरल है. यह तस्वीर प्राइम मिनिस्टर ऑफ़िस (PMO) की है. इसमें पीछे दीवाल पर एक फ़ोटो फ़्रेम दिखाई दे रही है जिसमें फ़र्ज़ी तरीके से मुकेश अम्बानी (Mukesh Ambani) और नीता अम्बानी (Neeta Ambani) की फ़ोटो जोड़ी गयी है.

बूम ने पाया कि वास्तविक तस्वीर 2017 में ली गयी थी जब सचिन तेंदुलकर, अंजलि तेंदुलकर और नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात हुई थी. वास्तविक फ़ोटो में दीवाल पर लटक रही फ़्रेम में एक सीनरी है ना ही किसी व्यक्ति की तस्वीर.

तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है: "लिजिए मालिक की फोटो ऑफिस मे अब और क्या सबूत चाहिए अंधभक्तो गुलामी का."

सचिन तेंदुलकर ने दिया राणा अय्यूब को जवाब? नहीं, यह फ़र्ज़ी हैंडल है

नीचे ऐसी ही पोस्ट देखें और इनके आर्काइव्ड वर्शन यहां और यहां देखें.



पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थन्बर्ग की वायरल हो रही तस्वीर एडिट की गयी है

फ़ैक्ट चेक

बूम ने तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया. हम द इंडियन एक्सप्रेस द्वारा 19 मई 2017 को प्रकाशित एक फ़ोटो गैलरी तक पहुंचे. इसमें अंजलि तेंदुलकर, सचिन तेंदुलकर और प्रधानमंत्री की मुलाक़ात के दौरान ली गयी कई तस्वीर प्रकाशित की गयी थीं. इन्हीं में से एक अब वायरल हो रही तस्वीर भी है.


सचिन तेंदुलकर मई 2017 में अपने जीवन पर आधारित फ़िल्म सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स का प्रचार कर रहे थे. नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात भी इसी सिलसिले में की थी. नरेंद्र मोदी ने इस मुलाक़ात की एक तस्वीर - जो अब फ़र्ज़ी तरीके से वायरल है - को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी पोस्ट किया था.


Claim Review :   लिजिए मालिक की फोटो ऑफिस मे अब और क्या सबूत चाहिए अंधभक्तो गुलामी का
Claimed By :  Social media
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story