गन्ने के कोल्हू को ज़ब्त करने का वीडियो जयपुर का नहीं, नोएडा का है

बूम ने पाया कि वीडियो के साथ किया जा रहा दावा ग़लत है.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो बहुत वायरल है. वीडियो 3 मिनट से अधिक समय का जिसमें कुछ लोग एक गन्ने से जूस निकालने वाली मशीन को JCB की मदद से उठाकर कचरे के ट्रक में फ़िकवा देते हैं. जिसकी मशीन है वह अपना नाम सतीश बताता है और रोते हुए कहता है कि 'मैं तो कभी यहाँ लगाता भी नहीं हूँ बस निकाल रहा था यहाँ से'. पूछने पर वो बताता है कि उसने ये मशीन 80 हज़ार रुपए की ली थी जिससे वह रोज़ के चार-पाँच सौ रुपए कमा लेता था.

इस वीडियो के साथ सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ये घटना जयपुर की है और राजस्थान सरकार के अधिकारी द्वारा ऐसा क्रूर व्यवहार किया जा रहा है. साथ ही कुछ लोग इस घटना को इंदौर का बताकर भी शेयर कर रहे हैं और साथ में अधिकारी के निलंबन के लिए अपील कर रहे हैं.

मिर्ज़ापुर में आपसी झगड़े का वीडियो सांप्रदायिक रंग देकर शेयर किया गया

फ़ेसबुक पर एक यूज़र Jaynarayan Meena ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि,'यह पोस्ट जयपुर की है और यहां बेचारे सतीश भाई अपना धंधा पानी चला रहे थे गन्ना मशीन के द्वारा और इस अधिकारी ने उनकी मशीन को उठवा कर कचरा गाड़ी में फिकवा दिया है इसलिए इस (मुर्ख) अधिकारी को निलंबित करवाने में मदद करें'.


फ़ेसबुक पर अनेक लोगों ने इस वीडियो को समान दावे के साथ पोस्ट किया है.


मुस्लिम पिता-पुत्री और माँ-बेटे की पुरानी तस्वीर ग़लत संदर्भ में वायरल

ट्विटर पर भी कई लोगों ने इस वीडियो को समान दावे के साथ ट्वीट किया है.


फ़ैक्ट चेक

बूम ने वीडियो के स्क्रीनशॉट लेकर रिवर्स इमेज सर्च किया तो oneindia ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल 24 मार्च 2022 की एक रिपोर्ट मिली जिसके अनुसार वायरल वीडियो नोएडा, उत्तर प्रदेश का है.

रिपोर्ट के मुताबिक,'वीडियो नोएडा के सेक्टर 42 का है। सतीश गुर्जर नाम का शख्स मशीन से गन्ने का जूस निकालकर बेचता है। सतीश, नोएडा के सेक्टर 42 में सड़क किनारे खड़ा होकर गन्ने का जूस निकालकर बेच रहा था। तभी बुलडोजर लेकर अतिक्रमण हटाने निकले नोएडा अथॉरिटी के अफसरों की नजर उस पर पड़ गई। फिर क्या था वे जूस की मशीन को जेसीबी से उठाने लगे। इस दौरान सतीश ने रोते हुए हाथ जोड़े, वादा किया कि सड़क किनारे मशीन नहीं लगाएगा। लेकिन अफसर नहीं माने।'


इसके बाद हमें ट्विटर पर नेशनल अवॉर्ड विजेता फ़िल्म निर्माता Vinod Kapri के 23 मार्च के दो ट्वीट मिले जिसमें वो लिखते हैं,'ये ह्रदयविदारक है।अभी-अभी हुआ है! बाबा का पहला बुलडोज़र गरीब पर ही क्यों योगी आदित्यनाथ जी? 400₹ रोज़ दिहाड़ी कमाने वाले #SatishGujjar नोएडा के अफ़सरों के सामने रोते रहे पर इस देश में ग़रीब की कौन सुनता है ? कम से कम उनकी मशीन तो नहीं तोड़ते। कुछ कीजिए मुख्यमंत्री जी'.


अरबी फ़िल्म का दृश्य चार साल पुराने एससी-एसटी आंदोलन से जोड़ कर वायरल

इस घटना पर समाजवादी पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैन्डल से भी ट्वीट किया गया.


आगे और सर्च करने पर हमें NOIDA authority के आधिकारिक ट्वीटर हैन्डल पर 24 मार्च 2022 का एक ट्वीट मिला जिसमें लिखा है,'23 मार्च को अनाधिकृत रूप से DSC रोड पर नॉन-वेन्डिंग जोन में कोल्हू लगाने के कारण प्राधिकरण टीम द्वारा जब्त कोल्हू श्री सतीश गुर्जर जी को वापिस कर दिया गया;इन्हें सै-50 अधिकृत वेन्डिंग जोन में स्थान दिया है; उन्होनें मा० मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद दिया'.


Updated On: 2022-04-11T18:41:40+05:30
Claim :   यह पोस्ट जयपुर की है ओर यहां बेचारे सतीश भाई अपना धंधा पानी चला रहे थे गन्ना मशीन के द्वारा और इस अधिकारी ने उनकी मशीन को उठवा कर कचरा गाड़ी में फिकवा दिया है इसलिए इस मूर्ख अधिकारी को निलंबित करवाने में मदद करे
Claimed By :  social media users
Fact Check :  False
Show Full Article
Next Story
Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors.
Please consider supporting us by disabling your ad blocker. Please reload after ad blocker is disabled.