Connect with us

आवाज से नियंत्रित फव्वारा “ओम” ध्वनि द्वारा संचालित नहीं है

आवाज से नियंत्रित फव्वारा “ओम” ध्वनि द्वारा संचालित नहीं है

बूम ने पाया कि फव्वारे को किसी भी ध्वनि के साथ संचालित किया जा सकता है एवं वीडियो में लड़की आ चिल्ला रही है ना की ॐ

Voice fountain

फ़ेसबुक एवं अन्य सोशल मीडिया पर आवाज़ से नियंत्रित फव्वारे का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें आप एक लड़की को चलते देख सकते हैं | वीडियो के साथ दिए कैप्शन में दावा किया जा रहा है कि यह थाईलैंड में है और इसे केवल “ओम” कहकर संचालित किया जा सकता है। यह दावा ग़लत है |

बूम ने पाया कि फव्वारा वास्तव में चीन में स्थित है, और यह फव्वारे के पास रखे लाउडस्पीकर में किसी भी तरह का आवाज से संचालित किया जा सकता है।

भ्रामक संदेश वायरल हो रहा है

8 जुलाई, 2019 को बूम को अपने व्हाट्सएप हेल्पलाइन पर दो फॉरवर्ड संदेश मिले, जिसमें दावा किया गया कि थाईलैंड में एक फव्वारा मौजूद है जिसे “ओम” शब्द से संचालित किया जा सकता है। संदेश में एक टिक टॉक वॉटरमार्क के साथ एक वीडियो आया था, जहां एक लड़की को आवाज प्रवर्धक उपकरण पर एक ध्वनि बनाते देखा जाता है, जिसके बाद फव्वारे का पानी तेजी से बढ़ता है।

(व्हाट्सएप पर प्राप्त हुआ कैप्शन।)
( व्हाट्सएप पर कैप्शन के साथ प्राप्त वीडियो। )

वीडियो के साथ निम्नलिखित कैप्शन भेजा गया था

थाइलैंड में एक पर्वत के नीचे पानी का एक छोटा झरना है जिसके बाजु वाले पर्वत पे ओम् ( ॐ ) का उच्चारण करने पर पानी का फ़व्वारा बन कर पर्वत से भी उपर तक उछलता है.. ये किसी बोद्ध साधु – सम्प्रदाय ने बनाया है । पानी का वज़न + गुरुत्वाकर्षण से भी इतना ऊपर पानी सिर्फ़ आवाज़ के तरंग से कैसे जा सकता है? ये कोई विज्ञानी ही बता सकता हे .. क्योंकि ऐसा सिर्फ़ ओम् ( ॐ )बोल ने पर ही होता हे !! ये भी एक अजूबा हे .. इसे कई भारतीयों ने भी ट्राई भी किया है..

बूम ने ट्विटर और फ़ेसबुक पर हिंदी कैप्शन की खोज की और यही वीडियो इसी तरह के कैप्शन के साथ कई पोस्ट मिले जो समान दावा करते हैं।

(हिंदी कैप्शन के साथ फ़ेसबुक खोज परिणाम)

क्या वीडियो में मौजूद लड़की वास्तव में लाउडस्पीकर में “ओम” कहकर फव्वारे में पानी बढ़ाती है?

फ़ैक्ट चेक

भ्रामक व्हाट्सएप संदेश तीन अलग-अलग दावे करता है – (1) फव्वारा थाईलैंड में है, (2) यह केवल “ओम” ध्वनि से संचालित होता है, और (3) यह बौद्ध भिक्षुओं के एक संप्रदाय द्वारा बनाई गई थी।

इस फव्वारे के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, हमने वीडियो से विभिन्न फ़्रेमों की रिवर्स इमेज खोज की और समान स्थान और समान फव्वारे के कई वीडियो पाए गए, जहां पास रखे लाउडस्पीकर में आवाज करने से पानी निकालता है। चीन के शिन्हुआ न्यूज़ ( चीन की आधिकारिक राज्य द्वारा संचालित प्रेस एजेंसी ) द्वारा एक वीडियो फ़ेसबुक पर अपलोड किया गया था जिसके साथ कैप्शन दिया गया था, “अपने तनाव को दूर करो और उत्तर चीन के शांक्सी प्रांत में कंगशान पर्वत पर फुहारे बनाओ”।

सबसे पहली बात, फव्वारा थाईलैंड में स्थित नहीं है जैसा कि भ्रामक व्हाट्सएप संदेश में कैप्शन ने दावा किया था, बल्कि चीन के शांक्सी प्रांत में कैंगशान पर्वत पर है। फ़ेसबुक वीडियो में, आप लोगों को लाउडस्पीकर पर आवाजें देते सुन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप फव्वारे का पानी निकलता है।

हालांकि, ऐसा प्रतीत होता है कि ध्वनि-नियंत्रित फव्वारा लाउडस्पीकर पर की गई किसी भी ध्वनि के साथ काम करता है, न कि केवल “ओम” ध्वनि के साथ संचालित होता है। भ्रामक वायरल वीडियो को और अधिक बारीकी से जांचने पर, बूम ने देखा कि वीडियो में लड़की “ओम” नहीं कहती है, बल्कि लाउडस्पीकर में “आ” ध्वनि के साथ चिल्लाती है।

बौद्ध भिक्षु या फव्वारा उत्पादन कंपनी?

यह पता लगाने के लिए कि क्या बौद्ध भिक्षुओं का इसके निर्माण के साथ कुछ संबंध है, बूम ने “आवाज नियंत्रित फव्वारा बौद्ध भिक्षुओं” कीवर्ड के साथ एक गूगल खोज की। हालांकि, खोज परिणामों ने हमें चांग्शा हिमालय म्यूज़िक फाउंटेन नामक एक कंपनी की ओर अग्रसर किया, जो वीडियो में देखे गए की तरह कृत्रिम आवाज़ नियंत्रित फव्वारे बनाती है।
कंपनी का एक यूट्यूब चैनल है, जहां यह चीन में निर्मित ऐसी आवाज नियंत्रित फव्वारे के कई वीडियो पोस्ट करता है।

ऐसा प्रतीत होता है कि बौद्ध भिक्षुओं का फव्वारा निर्माण के साथ कुछ संबंध नहीं है।

(बूम अब सारे सोशल मीडिया मंचो पर उपलब्ध है | क्वालिटी फ़ैक्ट चेक्स जानने हेतु टेलीग्राम और व्हाट्सएप्प पर बूम के सदस्य बनें | आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुकपर भी फॉलो कर सकते हैं | )

Claim Review : थाईलैंड में फव्वारा ॐ बोलने मात्र से चलता है

Fact Check : FALSE

Archis is a fact-checker and reporter at BOOM. He has previously worked as a journalist for broadsheet newspapers and in communications for a social start-up incubator. He has a Bachelor's Degree in Political Science from Sciences Po Paris and a Master's in Media and Political Communication from the University of Amsterdam.

Click to comment

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

FACT FILE

Opinion

To Top